पृथ्‍वी शॉ पर बैन: सरकार ने BCCI को डोपिंग पॉलिसी पर सुनाई खरी-खोटी

युवा बल्‍लेबाज पृथ्‍वी शॉ के डोप टेस्‍ट में फेल होने के बाद एक बार फिर से बीसीसीआई की डोपिंग पॉलिसी सवालों के घेरे में है.

News18Hindi
Updated: August 1, 2019, 10:17 AM IST
पृथ्‍वी शॉ पर बैन: सरकार ने BCCI को डोपिंग पॉलिसी पर सुनाई खरी-खोटी
पृथ्‍वी शॉ.
News18Hindi
Updated: August 1, 2019, 10:17 AM IST
युवा बल्‍लेबाज पृथ्‍वी शॉ के डोप टेस्‍ट में फेल होने के कुछ दिन पहले ही सरकार ने भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को इसके एंटी डोपिंग सिस्‍टम के लिए कड़ी फटकार लगाई थी. खेल मंत्रालय की ओर से बीसीसीआई सीईओ राहुल जौहरी को कड़े शब्‍दों में पत्र लिखा गया था. इसमें कहा गया था कि बीसीसीआई का एंटी डोपिंग प्रोग्राम में काफी खामियां हैं और यह हितों का टकराव भी है कि बीसीसीआई खुद की टेस्‍ट लेता है और खुद ही सजा देता है.

बीसीसीआई के पास डोप टेस्‍ट का अधिकार नहीं
इंडियन एक्‍सप्रेस की रिपोर्ट में कहा गया है कि बीसीसीआई को डोप टेस्‍ट कराने का अधिकार नहीं है. उसे न तो भारत सरकार और न वर्ल्‍ड एंटी डोपिंग एजेंसी (वाडा) की ओर से अधिकृत नहीं किया गया है. खेल मंत्रालय के 26 जून को लिखे खत के हवाले से एक्‍सप्रेस ने लिखा है, 'वाडा के नियमों की धारा 5.2 कहती है कि खिलाड़ियों से सैंपल लेने का अधिकार अधिकृत एंटी डोपिंग संगठन के पास ही होता है. तथ्‍य यह है कि बीसीसीआई न तो वाडा के तहत कोई एंटी डोपिंग संगठन है और इसके पास ऐसी कोई ताकत है.'

बीसीसीआई का नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (नाडा) से न जुड़ने को लेकर भी बरसों से सरकार से टकराव चल रहा है. देश में बाकी खेलों के खिलाड़ी नाडा के तहत आते हैं लेकिन बीसीसीआई इसके तहत नहीं आना चाहता.


बोर्ड का कहना है कि नाडा की प्रक्रिया में कई कमियां हैं इस वजह से वह उसके नियम नहीं मानता. साथ ही बीसीसीआई सरकारी मदद से चलने वाली नेशनल फेडरेशन नहीं है तो यह नाडा के अधिकार क्षेत्र में भी नहीं आती.

bcci, prithvi shaw suspend, anti doping, bcci dope test, sports ministry, national anti doping agency, पृथ्‍वी शॉ बैन, बीसीसीआई, डोप टेस्‍ट, एंटी डोपिंग, खेल मंत्रालय
बीसीसीआई नेशनल एंटी डोपिंग एजेंस


2018 में 5 क्रिकेटर फेल हुए उनका क्‍या हुआ
Loading...

रिपोर्ट के अनुसार, खेल मंत्रालय ने अपने पत्र में इन सब दावों को खारिज किया है. उसकी ओर से कहा गया है, 'बीसीसीआई का भारतीय क्रिकेट को साफ और डोपिंग मुक्‍त रखने के लिए विस्‍तृत तंत्र होने का दावा तथ्‍यों पर आधारित नहीं है. 2018 में बीसीसीआई ने 215 सैंपल नेशनल डोप टेस्टिंग लेबोरेट्री में भेजे थे. इनमें से 5 पॉजीटिव थे लेकिन इस बात की कोई खबर नहीं है कि ये नमूने किसके थे और इनसे कैसे निपटा गया.'

शॉ 15 नवंबर तक सस्‍पेंड
बता दें कि मंगलवार को बीसीसीआई ने बताया था कि पृथ्‍वी शॉ को डोप टेस्‍ट में फेल होने के चलते 15 नवंबर 2019 तक सस्‍पेंड किया जाता है. उसकी ओर से बताया गया था कि उन्‍होंने गलती से एक मनाही वाली दवा ले ली जो कि कप सीरप में सामान्‍य तौर पर पाया जाता है.'

14 साल की उम्र में 546 रन जड़ने वाले पृथ्वी शॉ डोप टेस्ट में फेल, लगा बैन

रवि शास्त्री ही बने रहेंगे टीम इंडिया के कोच- रिपोर्ट
First published: August 1, 2019, 9:12 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...