• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • कराची में जन्मे खिलाड़ी ने भारत के लिए खेले 33 टेस्ट, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगाया शतक

कराची में जन्मे खिलाड़ी ने भारत के लिए खेले 33 टेस्ट, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगाया शतक

On This Day In Cricket: पूर्व भारतीय कप्तान गुलाबराय रामचंद (Gulabrai Ramchand) का आज जन्मदिन है. उन्होंने भारत के लिए 33 टेस्ट खेले थे. (File Photo)

On This Day In Cricket: पूर्व भारतीय कप्तान गुलाबराय रामचंद (Gulabrai Ramchand) का आज जन्मदिन है. उन्होंने भारत के लिए 33 टेस्ट खेले थे. (File Photo)

Gulabrai Ramchand Birthday: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान गुलाबराय रामचंद ( Gulabrai Ramchand Birthday) का आज जन्मदिन है. कराची में जन्मे गुलाबराय ने भारत के लिए कुल 33 टेस्ट खेले थे. उनकी कप्तानी में ही भारत ने पहली बार ऑस्ट्रेलिया (IND vs AUS) को टेस्ट में हराया था. उन्होंने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 6 हजार से ज्यादा रन बनाने के साथ 255 विकेट लिए थे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दुनिया भर में ऐसे कई क्रिकेटर हुए हैं, जो खेल को जूनून की हद तक पसंद करते थे. लेकिन गुलाबराय रामचंद (Gulabrai Ramchand Birthday) का कोई मुकाबला नहीं. क्योंकि वो इस दुनिया से रुखसत होने से एक दिन पहले तक भी इसी खेल के बारे में ही सोच रहे थे. इससे जुड़ा एक किस्सा भी है. दरअसल, गुलाबराय मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में भर्ती थे और निधन से एक दिन पहले उन्होंने अपनी पत्नी को सिर्फ इसलिए अपने कमरे से बाहर भेज दिया था कि वो पाकिस्तान और बांग्लादेश के बीच चल रहे मैच का ताजा स्कोर उन्हें बता सकें. ऐसे ही दिग्गज खिलाड़ी का आज यानी 26 जुलाई को जन्मदिन है. गुलाबराय आज ही के दिन 1927 में कराची (अब पाकिस्तान) में पैदा हुए थे.

    गुलाबराय ने भारत के लिए भले ही 33 टेस्ट खेले. लेकिन उनका करियर कई मायनों में यादगार रहा. उनकी कप्तानी में भी भारत ने 1959 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहली टेस्ट जीत दर्ज की थी. भारत को यह जीत कानपुर में मिली थी और कप्तान के तौर पर यह उनकी इकलौती सीरीज थी. वो कमर्शियल ब्रांड से करार करने वाले पहले कुछ खिलाड़ियों में से एक थे. क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद उन्होंने कॉरपोरेट वर्ल्ड में जगह बनाई थी. वो एयर इंडिया में लंबे वक्त तक सीनियर मैनेजर रहे थे.

    रामचंद को ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी भी सम्मान देते थे
    रामचंद अक्सर चकाचौंध और चमक-दमक की दुनिया से दूर रखते थे. लेकिन लोगों के मन में उनके प्रति गजब का सम्मान था. इससे जुड़ा एक किस्सा है. एक बार वो किसी पुरस्कार समारोह में अपनी भतीजी के लिए मौजूदा खिलाड़ियों के ऑटोग्राफ ले रहे थे. तभी क्रिकेट फैंस की भीड़ ने उन्हें घेर लिया. उस भीड़ में से निकले एक शख्स ने रामचंद से कहा कि सर मेरा नाम मार्क टेलर (Mark Taylor) है और मैं अपनी टीम की तरफ से समारोह में पुरस्कार लेने आया हूं. क्या मैं उस व्यक्ति से हाथ मिलाने का अनुरोध कर सकता हूं?, जिसने अपनी कप्तानी में भारत को हमारे खिलाफ पहली टेस्ट जीत दिलाई थी.

    गुलाबराय ने भारत के लिए टेस्ट में दो शतक लगाए थे
    रामचंद ने भारत के लिए कुल 33 टेस्ट खेले. इसमें उन्होंने 24.58 की औसत से 1180 रन बनाए थे. वहीं, उन्होंने 41 विकेट भी झटके थे. हालांकि, इन आंकड़ों से उनकी असली काबिलियत पता नहीं चलती है. वो शानदार ऑलराउंडर, विस्फोटक बल्लेबाज और नई गेंद से धारदार गेंदबाजी करते थे. अगर वो आज क्रिकेट खेल रहे होते तो वनडे के शानदार खिलाड़ी होते. उन्होंने टेस्ट में दो शतक लगाए थे. पहला 1955-56 में न्यूजीलैंड और दूसरा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1956 में मुंबई में.

    IND vs SL: पृथ्‍वी शॉ अपने पहले ही टी20 मैच में हुए एमएस धोनी के अनचाहे क्‍लब में शामिल

    IND vs ENG: पृथ्वी शॉ ओपनिंग के विकल्प, सूर्यकुमार को मिल सकता है इस नंबर पर मौका

    फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 255 विकेट लिए
    घरेलू क्रिकेट में भी रामचंद का प्रदर्शन लाजवाब था. रणजी ट्रॉफी में बॉम्बे के लिए उनका प्रथम श्रेणी बल्लेबाजी औसत था. उनका घरेलू क्रिकेट में सर्वोच्च स्कोर बॉम्बे के लिए महाराष्ट्र के खिलाफ नाबाद 230 रन था. उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 1959 में सौराष्ट्र के खिलाफ 12 रन देकर 8 विकेट था. उन्होंने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में कुल 255 विकेट लिए थे. रामचंद क्रिकेट और सामान्य अर्थ दोनों में एक सच्चे ऑलराउंडर थे. 8 सितंबर 2003 को मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में इस दिग्गज क्रिकेटर ने आखिरी सांस ली थी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज