• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • गांगुली ने सिंगल लेकर स्ट्राइक युवी को देने को कहा, अगली ही गेंद पर छक्का जड़कर बोले कैफ-भाई हम भी खेलने आए हैं

गांगुली ने सिंगल लेकर स्ट्राइक युवी को देने को कहा, अगली ही गेंद पर छक्का जड़कर बोले कैफ-भाई हम भी खेलने आए हैं

साल 2002 में युवराज और कैफ ने टीम इंडिया को ऐतिहासिक जीत दिलाई थी.

साल 2002 में युवराज और कैफ ने टीम इंडिया को ऐतिहासिक जीत दिलाई थी.

नेटवेस्ट ट्रॉफी फाइनल (Natwest Trophy Final) भारतीय क्रिकेट इतिहास की अनमोल यादों में से है जब लॉडर्स के मैदान पर टीम इंडिया ने इंग्लैंड को मात दी थी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. टीम इंडिया के आलराउंडर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) और मोहम्मद कैफ (Mohammad Kaif) की जोड़ी का जलवा अगर देखना हो तो साल 2002 की नेटवेस्ट ट्रॉफी (Natwest Trophy) के फाइनल से बड़ा मौका भला और क्या हो सकता है. इन दोनों ने खिताबी मुकाबले में तय लग रही भारत की हार को ऐतिहासिक जीत में बदल दिया था. हाल ही में दोनों खिलाड़ी एक बार फिर जुगलबंदी करते दिखे, लेकिन इस बार मंच मैदान पर नहीं बल्कि सोशल मीडिया पर सजा था. दोनों खिलाड़ी इंस्टाग्राम लाइव चैट पर बीते दिनों को याद करते नजर आए. युवराज सिंह ने इसी मैच के दौरान घटित हुए एक मजेदार वाकये का जिक्र किया है.

    छक्का जड़कर दिया जवाब
    इंस्टाग्राम लाइव चैट के दौरान युवराज (Yuvraj Singh) ने मोहम्मद कैफ (Mohammad Kaif) से पूछा कि क्या उन्हें वो वाकया याद है जब मैच के दौरान उन्होंने छक्का लगाने के बाद एक बात कही थी. कैफ ने कहा कि मुझे याद नहीं है. इसके बाद युवराज ने उस वाकये का जिक्र करते हुए बताया, दरअसल, कैफ तब स्ट्राइक पर थे और सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने पवेलियन से उन्हें इशारा किया कि सिंगल लेकर स्ट्राइक युवराज सिंह को दो. मगर कैफ के इरादे कुछ और थे और उन्होंने अगली ही गेंद पर जोरदार छक्का जड़ दिया. इसके बाद कैफ मेरे पास आए और बोले, भाई, हम भी खेलने आए हैं.

    युवराज सिंह और मोहम्मद कैफ (Mohammad Kaif) ने उस मैच में छठे विकेट के लिए 121 रनों की शानदार साझेदारी की थी. युवराज सिंह 42वें ओवर में आउट हो गए. तब टीम इंडिया को जीत के लिए 59 रन बनाने थे. मोहम्मद कैफ ने ये जिम्मेदारी ली और टीम को जीत दिलाई.

    इंग्लैंड के खिलाड़ी बीच में ही जीत का जश्न मनाने लगे थे
    युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने साथ ही याद किया कि कैसे इंग्लैंड के खिलाड़ी बीच मैच ही जीत का जश्न मनाने लगे थे. इंग्लैंड ने उस मैच में 325 रन का पहाड़ जैसा स्कोर बनाया था. भारतीय टीम इस फाइनल से पहले लगातार कई खिताबी मुकाबले गंवा चुकी थी. 38 साल के युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा, इंग्लैंड ने बड़ा स्कोर बना लिया था. उस जमाने में इस तरह के स्कोर का पीछा करना बेहद मुश्किल होता था. हमें अच्छी शुरुआत मिली, लेकिन जब सचिन तेंदुलकर आउट हुए तो इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने ऐसे जश्न मनाना शुरू कर दिया जैसे उनकी टीम ने मैच जीत लिया हो.

    कोरोना वायरस का क्रिकेट पर कहर, टीम के स्टाफ की नौकरियों पर आई बड़ी खबर

    गांगुली, धोनी और विराट नहीं, गंभीर की नजरों ये खिलाड़ी है भारत का बेस्ट कप्तान

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज