लाइव टीवी

टीम इंडिया के इस बल्लेबाज के पिता का हुआ निधन, मां ने तैयार कराई पिच, अब विराट का भरोसेमंद

News18Hindi
Updated: April 1, 2020, 12:38 PM IST
टीम इंडिया के इस बल्लेबाज के पिता का हुआ निधन, मां ने तैयार कराई पिच, अब विराट का भरोसेमंद
हनुमा विहारी भारत की टेस्ट टीम का नियमित हिस्सा हैं.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते बीसीसीआई (BCCI) ने सभी तरह की क्रिकेट गतिविधियों पर रोक लगा रखी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 1, 2020, 12:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत के हर युवा क्रिकेटर का सपना टीम इंडिया में जगह बनाने का होता है. हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) ने भी वही सपना देखा था. उनका ये सपना दो साल पहले 2018 में पूरा हुआ, जब उन्होंने इंग्लैंड दौरे पर टीम इंडिया के लिए डेब्यू किया. अपने टेंपरामेंट से उन्होंने खासा प्रभाव छोड़ा और अब वह विराट कोहली की अगुआई वाली टेस्ट टीम का नियमित हिस्सा हैं. हालांकि आज हनुमा विहारी जो कुछ भी हैं, उसके पीछे उनकी मां विजयलक्ष्मी का अहम योगदान रहा है. बेहतरीन टेंपरामेंट की वजह से हनुमा विहारी को विराट कोहली के भरोसेमंद खिलाड़ियों में गिना जाता है.

आंध्र प्रदेश के हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) के खेल को देखकर बचपन में ही आसपास के लोग उन्हें भारतीय टीम का भविष्य का सितारा कहते थे. मगर सफलता का रास्ता संघर्षों भरा ही होता है. शायद तभी 12 साल की उम्र में हनुमा विहारी को वो खबर मिली जिसने उन्हें भीतर तक तोड़ दिया. यही उम्र थी विहारी की जब उनके सिर से पिता का साया उठ गया. पिता सत्यनारायण के निधन के बाद मां विजयलक्ष्मी ने हनुमा के सपनों को पूरा करने की ठान ली.

मेरी मां कभी डरती नहीं
क्रिकबज से बातचीत में हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) ने बताया कि कैसे उनकी मां ने उन्हें शीर्ष तक पहुंचाने के लिए उनका साथ दिया. हनुमा विहारी ने कहा कि मेरी मां को एक शब्द में बयां करूं तो वह साहसी हैं. वह कभी नहीं डरतीं. आप कह सकते हैं कि ये उनके व्यक्तित्व की पहचान है. उन दिनों को याद करते हुए विजयलक्ष्मी ने कहा, जब मेरे पति की मौत हो गई तो हनुमा की जिम्मेदारी मुझ ही पर थी. वह अंडर13 क्रिकेट में पिछड़ रहा था. तभी मैंने महसूस किया कि हनुमा को अधिक प्रैक्टिस और बेहतर पिच की जरूरत है.



पति की मौत के बाद मिले पैसों से तैयार कराई पिच


विजयलक्ष्मी ने बताया, पति के निधन के बाद उनकी कंपनी की ओर से मुआवजे के कुछ पैसे मिले थे. ये वो समय था जब अंडर13 क्रिकेट में हनुमा (Hanuma Vihari) अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहा था. मुझे लगता था कि हनुमा को नेट्स के अलावा भी अधिक प्रैक्टिस की जरूरत है. तभी मैंने उन पैसों का इस्तेमाल हनुमा के लिए पिच तैयार करने में इस्तेमाल करने के बारे में सोच लिया. उसके बाद जब हनुमा ने अंडर13 क्रिकेट में राज्य का प्रतिनिधित्व किया तो वह टूर्नामेंट में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज बने. हनुमा विहारी ने टीम इंडिया के लिए 9 टेस्ट मैच खेले हैं, जिनमें उन्होंने करीब 37 की औसत से 552 रन बनाए है.

COVID-19: जान जोखिम में डालकर गरीबों की मदद कर रहा है ये खिलाड़ी

थरूर से बोले पीटरसन- कोरोना खत्म होते ही मैच खेले तो खिलाड़ियों को होगा नुकसान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 1, 2020, 12:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading