• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • न्यूजीलैंड को आईसीसी ट्रॉफी दिलाने वाला गेंदबाज बना दिवालिया, बस की सफाई कर पेट पाला

न्यूजीलैंड को आईसीसी ट्रॉफी दिलाने वाला गेंदबाज बना दिवालिया, बस की सफाई कर पेट पाला

क्रिस केर्न्स न्यूजीलैंड के दिग्गज ऑलराउंडर रहे हैं. (फोटो-AP)

क्रिस केर्न्स न्यूजीलैंड के दिग्गज ऑलराउंडर रहे हैं. (फोटो-AP)

Happy Birthday Chris Cairns: 1990 के दशक में न्यूजीलैंड के खिलाड़ी क्रिस केर्न्स (Chris Cairns) दुनिया के दिग्गज ऑलराउंडरों में शुमार थे. इस खिलाड़ी ने इंटरनेशनल क्रिकेट में 419 विकेट लिए हैं जबकि 8000 से ज्यादा रन बनाए हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. न्यूजीलैंड के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर क्रिस केर्न्स (Chris Cairns) आज अपना 51वां जन्मदिन मना रहे है. 1970 में न्यूजीलैंड के पिक्टन में जन्मे केर्न्स ने सिर्फ 19 साल की उम्र में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू कर लिया था. केर्न्स न्यूजीलैंड के उन चुनिंदा खिलाड़ियों में से थे जो अपने बल्ले या गेंद से अपने दम पर मैच का पासा पलट देते हैं. सौरव गांगुली की कप्तानी में जब पहली बार भारतीय टीम आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी (2000) के फाइनल में पहुंची थी तो यही खिलाड़ी भारत की जीत के आगे दीवार बनकर खड़ा हो गया था. हालांकि केर्न्स विवादों से भी अछूते नहीं रहे और उन पर मैच फिक्सिंग का आरोप लगा. आज ये खिलाड़ी गरीबी और मुफलिसी की जंग लड़ते हुए जिंदगी जी रहा है.

    ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ किया टेस्ट डेब्यू
    केर्न्स ने साल 1989 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पर्थ टेस्ट में जॉन राइट की कप्तानी में डेब्यू किया था. पहले टेस्ट में यह खिलाड़ी कुछ खास नहीं कर सका लेकिन अपनी गति से विरोधियों को चौंका दिया. केर्न्स ने न्यूजीलैंड के लिए 62 टेस्ट मैचों में 3320 रन और 218 विकेट लिए हैं.  टेस्ट में उन्होंने 13 बार पांच विकेट लेने का कारनामा किया और एक बार उन्होंने मैच में 10 विकेट भी झटके. वहीं 218 वनडे में इस खिलाड़ी ने 4950 रन बनाने के साथ ही 201 विकेट चटकाया. इस दौरान उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 9 शतक और 48 अर्धशतक लगाए. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में भी केर्न्स का रिकॉर्ड बेहद शानदार रहा है. उन्होंने फर्स्ट क्लास और लिस्ट ए दोनों में 10 हजार से ज्यादा रन बनाए हैं जबकि 1100 से ज्यादा विकेट चटकाया है.

    भारत के मुंह से छीनी आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी
    केर्न्स को भारत के खिलाफ आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में यादगार प्रदर्शन के लिए जाना जाता है. इस मुकाबले में भारत ने सौरव गांगुली (117 रन) और सचिन तेंदुलकर (69) की पारियों की बदौलत पहले बल्लेबाजी करते हुए 264 रन बनाए. केर्न्स ने शानदार गेंदबाजी करते हुए सिर्फ 10 ओवर में दो मेडन के साथ सिर्फ 40 रन दिए, हालांकि उन्हें कोई विकेट नहीं मिला. लक्ष्य का पीछा करने उतरी कीवी टीम की शुरुआत बेहद खराब रही. वेंकटेश प्रसाद ने दूसरे ही ओवर में सलामी बल्लेबाज क्रेग स्पेयरमैन को पवेलियन भेज दिया. कीवी टीम ने 109 रनों पर अपने 4 विकेट गंवा दिये. ऐसा लगा कि भारत फाइनल जीत जाएगा, लेकिन उसके बाद क्रीज पर आए क्रिस केर्न्स और इस ऑलराउंडर ने महज 113 गेंदों में नाबाद 102 रन ठोक न्यूजीलैंड को चैंपियन बना दिया.

    अर्श से फर्श पर पहुंचे केर्न्स
    17 साल इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने के बाद केर्न्स साल 2006 में रिटायर हो गए. इसके बाद इस खिलाड़ी ने इंडियन क्रिकेट लीग (ICL) में हिस्सा लिया जहां उन पर मैच फिक्सिंग के आरोप लगे. न्यूजीलैंड के पूर्व सलामी बल्लेबाज लू विंसेंट जो कि खुद मैच फिक्सिंग के दोषी पाए गए थे, उन्होंने आरोप लगाया कि क्रिस केर्न्स ने उन्हें फिक्सिंग का ऑफर दिया था. न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ब्रैंडन मैक्कलम ने भी केर्न्स पर यही आरोप लगाया. हालांकि ये आरोप कभी साबित नहीं हो सके.

    दिवालिया हो गए केर्न्स
    क्रिकेट से संन्यास के बाद केर्न्स ने साल 2010 में दुबई में डायमंड बिजनेस किया. लेकिन साल 2013 में उन पर मैच फिक्सिंग का आरोप लगा जिसकी वजह से उनका पैसा जब्त कर लिया गया. मैच फिक्सिंग के आरोपों से जूझ रहे क्रिस केर्न्स की आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर हो गई. इस खिलाड़ी पर लंदन में मुकदमाा भी चला. केर्न्स ने परिवार का पेट पालने के लिए ऑकलैंड में स्थित शेल्टर में बस धोने का काम किया. यही नहीं उन्होंने ऑकलैंड नगरपालिका के लिए ट्रक तक चलाए और साथ ही बार में भी काम किया. यह दिग्गज खिलाड़ी आज गुमनामी की जिंदगी जी रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज