गौतम गंभीर की वह पारियां जिसने कभी देश को बनाया वर्ल्ड चैंपियन तो कभी बचाई लाज

भारतीय टीम के सबसे सफल ओपनर्स में शुमार रहे गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) आज अपना 39वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं.
भारतीय टीम के सबसे सफल ओपनर्स में शुमार रहे गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) आज अपना 39वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं.

भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने भारत को दो बार वर्ल्ड चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाई है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2020, 4:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) एक समय टीम के अहम खिलाड़ियों में से एक माने जाते थे. टी20 वर्ल्ड कप और वनडे वर्ल्ड कप फाइनल में दो धाकड़ पारियां गौतम गंभीर ने खेली थी. दोनों वर्ल्ड कप फाइनल में बेहतरीन बल्लेबाजी के बाद भी कप जीतने का श्रेय महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) को ही दिया जाता है. 2007 के टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में गौतम गंभीर ने 75 रनों की पारी खेली थी. उस समय पाकिस्तान की टीम सामने थी. 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ गौतम गंभीर ने 97 रन की अहम पारी खेली थी.

क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद गौतम गंभीर राजनीति में आए और पहला ही चुनाव जीतकर सांसद बन गए. आज उनका 39 वां जन्मदिन है. इस मौके पर उनकी पांच श्रेष्ठ पारियों के बारे में यहां बताया गया है.

75 vs पाकिस्तान, 2007 टी20 वर्ल्ड कप फाइनल
इस टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में गौतम गंभीर के साथ युसूफ पठान बल्लेबाजी करने के लिए आए थे. 8 गेंद पर 15 रन बनाने के बाद युसूफ पठान पवेलियन लौट गए. भारतीय टीम के विकेट लगातार अंतराल पर गिर रहे थे लेकिन एक छोर पर खड़े होकर गौतम गंभीर ने रन बनाना जारी रखा. उन्होंने 44 गेंदों पर 75 रनों की पारी खेली और टीम को 20 ओवर में 157 रन के स्कोर तक पहुंचाया. भारत ने मैच में 5 रन से जीत दर्ज की.
97 vs श्रीलंका, 2011 वर्ल्ड कप फाइनल


श्रीलंका के खिलाफ इस वर्ल्ड कप के फाइनल में लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत ने सचिन तेंदुलकर और वीरेंदर सहवाग के विकेट गंवा दिए. उस समय गौतम गंभीर ने क्रीज पर अपने पांव जमाए और 122 गेंदों पर 97 रनों की पारी खेली. गौतम गंभीर ने अपना काम कर दिया. महेंद्र सिंह धोनी और युवराज सिंह ने मैच फिनिश कर दिया और भारत ने वर्ल्ड कप जीत लिया.

137 vs न्यूजीलैंड, नैपियर 2009
यह मैच बचाने वाली पारी थी. भारतीय टीम 300 से ज्यादा रनों से पिछड़ने के बाद फॉलोऑन खेल रही थी. इस परिस्थिति में गौतम गंभीर ने 436 गेंदों पर 137 रनों की पारी खेली और 643 मिनट क्रीज पर बिताए. उन्होंने सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्षण के साथ मिलकर साझेदारियां की और जब वे आउट हुए तक तक टीम खतरे से बाहर आ गई थी और मैच बचा लिया गया.

206 vs ऑस्ट्रेलिया, दिल्ली 2008
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में घरेलू परिस्थितियों में खेलते हुए गौतम गंभीर ने 380 गेंदों पर 206 रन की पारी खेली. वीवीएस लक्ष्मण उनके साथ खेल रहे थे और उन्होंने भी दोहरा शतक जड़ा. दोनों की बेहतरीन पारियों की बदौलत भारतीय टीम का स्कोर पहली पारी में 600 रन को पार कर गया और मुकाबला ड्रॉ रहा.

150* vs श्रीलंका, 2009, कोलकाता
श्रीलंका के खिलाफ 316 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम के दो विकेट जल्दी गिर गए. इसके बाद गौतम गंभीर और विराट कोहली ने क्रीज पर टिककर खेलते हुए श्रीलंकाई बल्लेबाजों को कोई मौका नहीं दिया. गौतम गंभीर ने नाबाद 150 और विराट कोहली ने 107 रन की पारी खेलते हुए टीम को जीत दिलाई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज