Happy B'day Hardik Pandya: 9वीं क्‍लास में हुए फेल तो पंड्या ने छोड़ दी थी पढ़ाई, फिर ऐसे बने क्रिकेटर

हार्दिक पंड्या रविवार को अपना 27वां जन्‍मदिन मना रहे हैं (फाइल फोटो)
हार्दिक पंड्या रविवार को अपना 27वां जन्‍मदिन मना रहे हैं (फाइल फोटो)

पैसों की कमी के कारण हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) सुबह-शाम केवल मैगी खाकर काम चलाते थे. उस समय उनके परिवार के लिए दो वक्त के खाने का इंतजाम करना भी मुश्किल था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2020, 1:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. टीम इंडिया (Team India) के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या (Happy Birthday Hardik Pandya) अपने खेल के साथ- साथ अपने अलग अंदाज और स्‍टाइल के लिए भी जाने जाते हैं. रविवार को अपना 27वां जन्‍मदिन मना रहे पंड्या ने क्रिकेट के लिए पढ़ाई तक छोड़ दी थी. क्रिकेट को लेकर उनका पैशन ही था, जो मैगी खाकर भी मैदान पर पूरी ताकत लगा देते थे. 11 अक्‍टूबर 1993 को गुजरात के सूरत में जन्‍में पंड्या के पिता हिमांशु पंड्या (Himanshu Pandya) फाइनेंस के क्षेत्र में थे.

हालांकि कुछ समय बाद उनके पिता अपना काम बंद करके बड़ौदा जाने को मजबूर हो गए. उस समय पंड्या महज पांच साल के थे. बड़ौद में पंड्या का परिवार किराए के मकान में रहता था. हार्दिक के पिता को क्रिकेट काफी पसंद था. वह हमेशा अपने दोनों बेटों को साथ में मैच दिखाते थे तो कई बार मैच के लिए स्टेडियम भी ले जाते थे.

नौंवी क्‍लास में हो गए थे फेल
आर्थिक तंगी के बावजूद पिता ने अपने दोनों बेटों हार्दिक और क्रुणाल को किरण मोरे (Kiren More) की एकेडमी में दाखिला दिलाया. हार्दिक पंड्या नौवीं क्लास में फेल हो गए थे. इसके बाद उन्होंने पूरी तरह से क्रिकेट पर फोकस करने के लिए पढ़ाई छोड़ दी.जब हार्दिक पंड्या 17 साल के थे तब उनके पास खुद की क्रिकेट किट भी नहीं थी. दोनों भाइयों ने करीब सालभर तक बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन से क्रिकेट किट लेकर काम चलाया.
मैगी खाकर चलाया काम


हार्दिक पंड्या ने एक इंटरव्यू में बताया था कि जब वह अंडर-19 टीम में थे उस वक्त सुबह-शाम वह पैसों की कमी के कारण केवल मैगी खाकर काम चलाते थे. उस समय उनके परिवार के लिए दो वक्त के खाने का इंतजाम करना भी मुश्किल था. मुंबई इंडियंस की ओर से आईपीएल खेलने का मौका मिलने के बाद उनका यह संघर्ष खत्‍म हुआ.

यह भी पढ़ें : 

महिला IPL के लिए  BCCI ने किया 3 टीमों का ऐलान, मिताली, मंधाना और हरमनप्रीत को मिली कमान

IPL 2020: धोनी की टीम के खिलाफ विराट कोहली का धमाका, आखिरी 22 गेंदों पर ठोक डाले 56 रन

हार्दिक ने साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 डेब्यू किया था. इसके बाद उसी साल उन्हें वनडे टीम में भी मौका मिल गया. भारतीय टीम ने उन्हें अगले ही साल श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट टीम में भी मौका दिया जिसका उन्होंने बखूबी फायदा उठाया. इसी साल हार्दिक पंड्या बेटे के पिता भी बने हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज