HBD Shane Watson: चोट से जूझते हुए देश के लिए जीते दो विश्व कप, वनडे में भी खेली सबसे बड़ी पारी

शेन वॉटसन ने 2018 के आईपीएल फाइनल में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए 57 गेंद में 117 रन की मैच जिताने वाली पारी खेली थी. (shane watson instagram)

HBD Shane Watson: शेन वॉटसन ने 14 साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला. लेकिन वो पूरे करियर के दौरान चोट से जूझते रहे. उन्हें 2009 के एशेज सीरीज के बीच में ही सलामी बल्लेबाज बना दिया गया था. उन्होंने तब बतौर ओपनर 8 टेस्ट में 7 अर्धशतक और एक शतक ठोककर इस फैसले को सही साबित किया.

  • Share this:
    नई दिल्ली. इस खिलाड़ी का शरीर एथलीट जैसा दिखता था. मानो फोटो शूट के लिए बना हो. लेकिन भीतर से शरीर नाजुक था. अंतरराष्ट्रीय करियर में एक के बाद एक चोट से ये खिलाड़ी जूझता रहा. लेकिन क्रिकेट के प्रति लगाव ऐसा था कि हर मुश्किल को पार कर दोबारा मैदान पर लौटा और अपनी टीम के लिए शानदार प्रदर्शन किया. हम बात कर रहे हैं ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर शेन वॉटसन की. आज वॉटसन का 40वां जन्मदिन है (Shane Watson Birthday Today). वो आज ही दिन 1981 में ऑस्ट्रेलिया के क्वीसलैंड में पैदा हुए थे.

    वॉटसन ने ऑस्ट्रेलिया के लिए 59 टेस्ट, 190 वनडे और 58 टी20 खेले. उन्होंने 2002 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था और 14 साल क्रिकेट खेलने के बाद 2016 में खेल को अलविदा कह दिया.

    वॉटसन अंतरराष्ट्रीय करियर के दौरान मांसपेशियों में खिंचाव, स्ट्रेस फ्रैक्चर, कंधे और कूल्हे की चोट से जूझते रहे. इस क्रिकेटर का शायद ही शरीर का कोई ऐसा हिस्सा बचा हो, जहां चोट न लगी हो. इसी वजह से करियर के शुरुआती कुछ साल बेकार हो गए. हालांकि, चोट से बचने के लिए उन्होंने अपनी ट्रेनिंग का तरीका बदल दिया. वेट ट्रेनिंग के बजाए पिलाटे करने लगे. शराब पीना पूरी तरह छोड़ दिया.

    एशेज सीरीज के बीच में वॉटसन को ओपनर बनाया गया
    वॉटसन को इसका फायदा भी मिला और उन्हें 2009 में एशेज सीरीज के बीच में ही सलामी बल्लेबाज बना दिया गया. उन्होंने इस मौके को बर्बाद नहीं होने दिया और बतौर ओपनर 8 टेस्ट में सात अर्धशतक और एक शतक ठोककर इस फैसले को सही साबित किया. इसी प्रदर्शन के बूते उन्हें लगातार दो साल एलन बॉर्डर मेडल भी मिला. हालांकि, करियर के इस मोड़ पर एक बार फिर उन्हें चोटों ने घेर लिया और उनका टेस्ट करियर बहुत लंबा नहीं चल पाया. उन्होंने 2012 में दोबारा टेस्ट टीम में वापसी की. लेकिन वो टीम में अपनी जगह पक्की नहीं कर पाए. उनके बल्लेबाजी क्रम में लगातार बदलाव होता गया.

    जब बीच दौरे से वॉटसन को घर लौटना पड़ा
    एक साल बाद ही ऑस्ट्रेलिया टीम भारत दौरे पर आई. माइकल क्लार्क के चोटिल होने पर वॉटसन को दिल्ली टेस्ट में टीम का कप्तान बनाया गया. वो ऑस्ट्रेलिया की कप्तानी करने वाले 44वें खिलाडी बने. हालांकि, उनकी टीम 3 दिन में ही टेस्ट हार गई. इसी दौरे पर कोच मिकी आर्थर की बात नहीं मानने के कारण उन्होंने घर भेज दिया गया था. 2015 में उन्हें एशेज सीरीज के लिए चुनी गई टीम में शामिल नहीं किया गया. इसके बाद उन्होंने टेस्ट क्रिकेट छोड़ दिया. हालांकि, वो वनडे और टी20 खेलते रहे.

    TOP 10 Sports News: बीसीसीआई के 4800 करोड़ बचे, डेब्यू टेस्ट में महिला गेंदबाजों का जलवा

    ऑस्ट्रेलिया के लिए वनडे में खेली सबसे बड़ी पारी
    वॉटसन का वनडे औऱ टी20 में प्रदर्शन शानदार रहा. वो वनडे में ऑस्ट्रेलिया के लिए सबसे बड़ी पारी खेलने वाले बल्लेबाज हैं. उन्होंने अप्रैल 2011 में बांग्लादेश के खिलाफ 185 रन बनाए थे. वो 2012 के टी20 विश्व कप में प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट भी थे. उन्होंने 2016 में सभी तरह के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. उन्होंने 59 टेस्ट में 35 से ज्यादा के औसत से 3731 रन बनाए. टेस्ट में उन्होंने 75 विकेट भी लिए. वहीं, वनडे में वॉटसन ने 5757 रन बनाने के साथ 168 विकेट भी लिए. वे 2007 और 2015 में वनडे विश्व कप जीतने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम में भी शामिल थे.

    यह भी पढ़ें: WTC Final में अश्विन-जडेजा की जोड़ी पर गावस्कर ने लगाया दांव, रोहित-विराट के बारे में ये कहा

    आईपीएल में भी वॉटसन ने अपनी काबिलियत साबित की
    शेन वॉटसन लंबे वक्त तक आईपीएल का भी हिस्सा रहे. उन्होंने लीग की शुरुआत राजस्थान रॉयल्स के साथ की और 2008 में खिताब जीतने वाली राजस्थान टीम के सदस्य रहे. इसके बाद उन्होंने चेन्नई सुपर किंग्स का रूख किया. इस टीम के साथ भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा. उन्होंने 2018 के आईपीएल फाइनल में 57 गेंद में 117 रन की मैच जिताऊ पारी खेली.

    अगले साल फिर वो सीएसके को आईपीएल के फाइनल तक ले गए. लेकिन खिताब नहीं जिता सके. दरअसल, आईपीएल 2019 के फाइनल में मुंबई इंडियंस के खिलाफ चेन्नई को जीत के लिए 150 रन बनाने थे. लेकिन सीएसके 148 रन ही बना सकी और एक रन से मैच हार गई थी. तब वॉटसन ने घुटने से खून बहने के बावजूद 80 रन की अहम पारी खेली थी. लेकिन रन आउट होने के कारण वो सीएसके को खिताब नहीं दिला पाए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.