HBD Wasim Akram: दर्द के चलते इंसुलिन लेकर खेलते थे अकरम, जानलेवा बीमारी के बावजूद झटके 900 विकेट

वसीम अकरम ने इंटरनेशनल करियर में 916 विकेट झटके हैं (वसीम अकरम इंस्टाग्राम)

वसीम अकरम ने इंटरनेशनल करियर में 916 विकेट झटके हैं (वसीम अकरम इंस्टाग्राम)

पाकिस्तान के महान तेज गेंदबाज वसीम अकरम (Wasim Akram) आज अपना 55वां जन्मदिन मना रहे हैं. 'स्विंग के सुल्तान' अकरम एकमात्र तेज गेंदबाज हैं जिनके नाम वनडे क्रिकेट में 500 से ज्यादा विकेट दर्ज है.

  • Share this:

नई दिल्ली. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम को दुनिया का बेस्ट लेफ्ट आर्म पेसर का तमगा हासिल है. अकरम का जन्म 3 जून, 1966 को पाकिस्तान के लाहौर में हुआ था. अकरम शुरुआती ओवरों में नई गेंद को स्विंग कराने के साथ ही डेथ ओवरों में खतरनाक यॉर्कर फेंकने में माहिर थे. टेस्ट क्रिकेट में उनके रिवर्स स्विंग का जवाब किसी बल्लेबाज के पास नहीं होता था. अकरम का इंटरनेशनल करियर 19 साल का रहा लेकिन इस दौरान उन्हें जानलेवा बीमारी डायबिटीज से भी जूझना पड़ा. सिर्फ 29 साल की उम्र में अकरम इस बीमारी के शिकार हो गए थे. हालांकि इसके बावजूद वो अपने करियर में 916 विकेट झटकने में सफल रहे.

1997 में अपने करियर के चरम पर वसीम अकरम पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान थे. इसी साल वह टाइप-1 डायबिटीज बीमारी के शिकार हुए. अकरम अपनी बीमारी के बारे बताते हैं कि उनके लिए डायबिटीज का मतलब मोटापा और अस्वस्थ जीवनशैली था. लेकिन उस समय वह सबसे फिट खिलाड़ियों में से एक थे और हर दिन 10 किमी दौड़ते थे. इसके बावजूद अकरम थकान, लगातार नींद आना, भूखे रहने और बार-बार बाथरूम की समस्या से परेशान हुए. उनके दिवंगत पिता ने सुझाव दिया था कि वह ब्लड शुगर टेस्ट कराएं.

अकरम ने डायबिटीज के साथ ही खेलना जारी रखा

अकरम ने बताया कि उन्हें होश में वापस आने में एक महीने लग गए. पिता और दिवंगत पत्नी हुमा की सलाह पर वह इंसुलिन लेने लगे. कभी-कभी दिन में तीन या चार बार इंसुलिन लेना पड़ता था और जीवनशैली बदलना कठिन था. हालांकि तीन महीने के बाद वह एक खिलाड़ी के रूप में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टीम में शामिल हो गए. अकरम अपने अनुभव के बारे में कहते हैं, जितना तुम चलोगे, जितना तुम काम करोगे, उतना ही शुगर लेवल कंट्रोल हो जाएगा. अकरम ने डायबिटीज के साथ ही खेलना जारी रखा. मैदान पर खेल और और लंच ब्रेक के दौरान अकरम ने अपने इंसुलिन को संतुलित करने की तरकीबें सीखीं. उन्होंने कहा कि बीमारी के बाद भी मुझे वनडे और टेस्ट क्रिकेट में 150 से ज्यादा विकेट मिले. टाइप 1 डायबिटीज में हमारा शरीर इंसुलिन बनाना ही बंद कर देता है. इसलिए इसमें मरीज को समय-समय पर इंसुलिन को इंजेक्‍शन या पंप के जरिए लेना पड़ता है.
वसीम अकरम का करियर

वसीम ने पाकिस्तान के लिए 104 टेस्ट खेले और 414 विकेट झटके, जबकि 356 वनडे में 502 विकेट अपने नाम किए. अकरम ने इंटरनेशनल क्रिकेट में चार हैट्रिक ली हैं, ये कारनामा करने वाले वो इकलौते गेंदबाज हैं. अकरम ने दो बार वनडे और दो बार टेस्ट में ये उपलब्धि हासिल की है. अकरम ने 1996 में जिम्बाब्वे के खिलाफ नाबाद 257 रनों की पारी खेली थी जो कि टेस्ट क्रिकेट में नंबर 8 पर उतरे किसी भी बल्लेबाज का सर्वश्रेष्ठ स्कोर है. टेस्ट में उनके नाम 3 शतक और 7 अर्धशतक समेत 2898 रन हैं.

1992 वर्ल्ड कप फाइनल के हीरो बने



टूर्नामेंट के फाइनल में पाकिस्तान का सामना इंग्लैंड से था. पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए इमरान खान की 72 रनों की पारी की मदद से छह विकेट खोकर 249 रन बनाए. इस मैच में अकरम ने अंतिम क्षणों में 18 गेंदों में चार चौकों की मदद से 33 रनों की पारी खेली.

यह भी पढ़ें:

 भारत में बुरी तरह डर गए थे डेविड वॉर्नर, कहा-अंतिम संस्कार के लिए लाइन में खड़े थे लोग

WTC में एक फाइनल से सहमत नहीं रवि शास्त्री, कहा- 3 मैच होने चाहिए

जवाब में इंग्लैंड की शुरुआत की खराब रही और उसके दो विकेट सिर्फ 21 रन पर गिर गए. वसीम अकरम ने सलामी बल्लेबाज इयॉन बाथम को शून्य पर चलता किया तो आकिब जावेद ने एलेक स्टीवर्ट को पवेलियन को रास्ता दिखाया. हालांकि इसके बाद नील फेयरब्रदर (62 रन) और एलेन लैम्ब (31 रन) ने पारी संभाली. लेकिन लैंब और क्रिस लेविस को लगातार गेंदों पर चलता कर अकरम ने पाकिस्तान की जीत पक्की कर दी. अकरम ने इस मैच में 49 रन देकर तीन विकेट लिए और मैन ऑफ द मैच चुना गया. वनडे में उन्होंने 6 बार फिफ्टी बनाई और कुल 3717 रन उनके नाम दर्ज हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज