लाइव टीवी

हरभजन सिंह का खुलासा, 'वर्ल्ड कप जीत के बाद देखा था सचिन का कभी ना भूल पाने वाला अवतार'

News18Hindi
Updated: April 10, 2020, 9:14 AM IST
हरभजन सिंह का खुलासा, 'वर्ल्ड कप जीत के बाद देखा था सचिन का कभी ना भूल पाने वाला अवतार'
2 अप्रैल 2011 को दूसरी बार वर्ल्ड कप जीता था भारत

भारत (India) ने साल 2011 में श्रीलंका (Sri Lanka) को मात देकर 20 साल में दूसरी बार वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2020, 9:14 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में क्रिकेट का भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपने करियर में लगभग सभी बड़े और महत्तवपूर्ण रिकॉर्ड अपने नाम किए. हालांकि उनका सबसे बड़ा सपना पूरा हुआ साल 2011 में जब भारत ने अपनी ही जमीन पर वर्ल्ड कप का खिताब जीता. सचिन आज भी  उस लम्हें को अपने करियर का सबसे सुनहरा पल मानते हैं. सचिन को उस जीत की कितनी खुशी थी इस बात का खुलासा स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने किया. उन्होंने बताया कि 2 अप्रैल की उस रात को सचिन ने कुछ ऐसा किया जो किसी ने उन्हें कभी करते नहीं देखा था.

टीम ने पहली बार सचिन को नाचते हुए देखा
हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने एक टीवी शो के दौरान बताया कि वर्ल्ड कप जीतने के बाद पूरी रात जश्न मनाया गया था और पहली बार सचिन का एक अलग ही अवतार सबको देखने को मिला था. हरभजन ने कहा, 'उस दिन मैंने पहली बार सचिन तेंदुलकर को नाचते हुए देखा था. पहली बार देखा कि उन्हें किसी और चीज की परवाह नहीं थी. पहली बार उनको इस बात से फर्क नहीं पड़ा रहा था कि उनके आसपास कौन हैं. मैं वह पल नहीं कभी नहीं भूल सकता. '

मेडल साथ लेकर सोए थे हरभजन सिंह



हरभजन सिंह ने बताया कि वर्ल्ड कप जीतने की खुशी इतनी थी कि वह पूरी टीम के सामने रो पड़े थे. उन्होंने कहा, 'यह ऐसा कुछ था जिसका सपना हमने साथ देखा था. उस सपने को पूरा होते देखना बहुत भावुक पल था. मैं आज भी उसके बारे में सोचता हूं तो मेरे रोंग्टे खड़े हो जाते हैं. वह मौका बहुत खास था और मैं पहली बार सबके सामने रोया. मुझे नहीं पता था कि मैं कैसे रियेक्ट करूंगा.' उन्होंने आगे बताया कि वह उस रात मेडल के साथ सोए थे और सुबह जब वह मेडल उन्हें अपने पास ही दिखा तो उन्हें शानदार अहसास हुआ था.'



भारत ने साल 2011 में दो अप्रैल को 28 साल बाद दूसरी बार वर्ल्ड कप का खिताब जीता था. फाइनल मुकाबला मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया था. वानखेड़े सचिन का घरेलू मैदान है. भारत ने श्रीलंका को छह विकेट से मात देकर खिताब अपने नाम किया था.

डर के मारे लड़के नहीं करते थे सामना, कपड़े की गेंद से निखारा हुनर, आज है दुनिया की महानतम फुटबॉलर!

लिएंडर पेस का खास चैलेंज पूरा नहीं कर पाए भूपति, कहा-तुम्हारे जैसा हुनर नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 10, 2020, 9:14 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading