इस गेंदबाज ने टीम इंडिया के खिलाड़ी को 8 गेंदों में 5 बार किया आउट, सचिन ने कहा- तुम देश के लिए खेलोगे

इस गेंदबाज ने टीम इंडिया के खिलाड़ी को 8 गेंदों में 5 बार किया आउट, सचिन ने कहा- तुम देश के लिए खेलोगे
सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट करके दी श्रद्धांजलि

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने एक गेंदबाज को कहा था कि तुम टीम इंडिया खेलोगे, वो खिलाड़ी अबतक 700 से ज्यादा विकेट झटक चुका है

  • Share this:
नई दिल्ली. अपनी फिरकी से कई बल्लेबाजों के विकेट उड़ाने वाले हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने फैंस को एक ऐसी बात बताई जिसके बारे में बहुत कम लोगों को पता होगा. आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) के साथ खास बातचीत में हरभजन सिंह ने बताया कि उनकी 'दूसरा' गेंद की काबिलियत ने ही उन्हें टीम इंडिया में जगह दिलाई. हरभजन सिंह ने बताया कि कैसे सचिन (Sachin Tendulkar) ने उन्हें डेब्यू से एक साल पहले ही बता दिया था कि तुम एक दिन टीम इंडिया के लिए खेलोगे.

हरभजन सिंह ने सुनाई कहानी
हरभजन सिंह  (Harbhajan Singh) ने आकाश चोपड़ा को बताया, 'मोहाली में टीम इंडिया प्रैक्टिस कर रही थी और वहीं हरभजन सिंह ने सचिन, अजय जडेजा और उस वक्त के कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन का ध्यान अपनी ओर खींचा.' हरभजन सिंह ने कहा, 'दूसरा गेंद ने मुझे भारतीय टीम में जल्दी एंट्री दिलाई. मेरी वो गेंद दूसरे गेंदबाजों से अचअछी थी. मैं उसे लेग कटर कहता था लेकिन मोइन खान उस गेंद को दूसरा कहते थे. वो सकलैन मुश्ताक को अकसर कहते थे कि दूसरा डाल. उस गेंद का नाम फिर वही पड़ गया.'


हरभजन सिंह  (Harbhajan Singh) ने बताया, 'मोहाली में टीम इंडिया का नेट्स सेशन का आखिरी हिस्सा चल रहा था. तभी मुझे नेट्स पर बुलाया गया. उन्होंने मुझे कहा, यहां आओ हम तुम्हें देखना चाहते हैं. मैं काफी डर गया. उस वक्त देबाशीष मोहंती बल्लेबाजी कर रहे थे. अजहर, सचिन ने पहले ही बल्लेबाजी कर ली थी. जब मैं वहां पहुंचा तो अजहर लंच कर रहे थे और उन्होंने कहा कि इसे गेंदबाजी करने दो.'



'मोहंती को किया 5 बार आउट'
हरभजन सिंह (Harbhajan Singh)  ने कहा, 'मुझे गेंदबाजी के लिए कहा गया और सचिन मेरे साथ में खड़े हो गए. वो भी गेंदबाजी कर रहे थे. मैंने मोहंती को 7-8 गेंद फेंकी और वो 4-5 बार आउट हो गए. वो मोहंती थे, सचिन नहीं. इसके बाद अजय जडेजा ने मुझे देखा और अजहर को कहा कि इस लड़के को देखो. इसके बाद सचिन ने मुझे कहा कि तुम अपना ध्यान खेल पर लगाओ तुम बहुत जल्द टीम इंडिया के लिए खेलोगे.'

हरभजन सिंह  (Harbhajan Singh) ने बताया कि सचिन की वो बात उनके जहन में बस गई और उस दिन के बाद से उन्होंने 120 फीसदी मेहनत करनी शुरू की और वो टीम इंडिया में खेलने का सपना देखने लगे. एक साल बाद हरभजन ने साल 1998 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू किया. साल 2001 में हरभजन सिंह का करियर ही बदल गया, जब उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज में हैट्रिक समेत कुल 32 विकेट लिये. इसके बाद भज्जी ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. उन्होंने भारत के लिए 103 टेस्ट में 417 विकेट झटके. 236 वनडे में उन्होंने 269 विकेट लिये. हरभजन सिंह ने साल 2007 टी20 वर्ल्ड कप और 2011 वर्ल्ड कप जिताने में भी अहम भूमिका निभाई.

ऑस्ट्रेलिया के स्टेडियम में 10 हजार लोगों को जाने की इजाजत, मुश्किल में BCCI

डैरेन सैमी के अपमान से भड़की बॉलीवुड एक्ट्रेस, माफी मांगे सनराइजर्स हैदराबाद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading