होम /न्यूज /खेल /राजकोट के मैदान पर चमका इंग्लैंड का ये खिलाड़ी, गुजरात से जुड़ा है कनेक्शन

राजकोट के मैदान पर चमका इंग्लैंड का ये खिलाड़ी, गुजरात से जुड़ा है कनेक्शन

इंग्लैंड का एक बल्लेबाज़ ऐसा है जो राजकोट में शतक से तो चूक गया लेकिन करियर के पहले ही टेस्ट में उसने मैदान पर खेल से च ...अधिक पढ़ें

    राजकोट। इंग्लैंड का एक बल्लेबाज़ ऐसा है जो राजकोट में शतक से तो चूक गया लेकिन करियर के पहले ही टेस्ट में उसने मैदान पर खेल से चमक खूब बिखेरी। 19 साल के हसीब हमीद का जन्म तो इंग्लैंड में हुआ लेकिन उनके परिवार की जड़े उसी गुजरात में जहां उन्होंने अपनी ड्रीम टीम के खिलाफ डेब्यू किया।

    इंग्लैंड के हसीब हमीद को टेस्ट टीम में तो जगह बांग्लादेश दौरे पर ही मिल गई थी लेकिन उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला। हसीब को प्लेइंग इलेवन में मौका उस गुजरात की धरती पर मिला जहां हसीब के पिता का जन्म हुआ। हसीब के पिता ने गुजरात के भरूच से ही जाकर इंग्लैंड में बसने का फैसला किया। लेकिन करीब 50 साल बाद वक्त का पहिया ऐसा घूमा कि उनका बेटा उसी जमीं पर उनके सामने टेस्ट करियर का आगाज करता नजर आया। और आगाज भी ऐसा कि पूरी दुनिया में इस खिलाड़ी के नाम की चर्चा हो रही है।

    भारत के खिलाफ राजकोट टेस्ट की पहली पारी में भी हसीब ने अपनी प्रतिभा दिखा दी थी लेकिन वो 31 रन ही बना सके थे। दूसरी पारी हसीब इसे बहुत आगे ले गए और शतक के करीब तक पहुंचे। हसीब ने 82 रन की पारी खेली और वो इंग्लैंड की ओर से पहले ही टेस्ट में सबसे कम उम्र में सबसे बड़ी पारी खेलने वाले बल्लेबाज बन गए।

    वहीं राजकोट में पिता पुजारा के पिता अरविंद पुजारा ने अपने बेटे की घर में पारी और शतक पहली बार देखा लेकिन हसीब के लिए भी ये पारी एक तरह से घर में ही थी, क्योंकि उनका परिवार स्टेडियम में मौजूद था। पुजारा के पिता की तरह हसीब के पिता भी उनके सबसे पहले कोच रहे हैं और उन्होंने टेस्ट आगाज तक सबसे बड़ा रोल निभाया।

    इंग्लैंड में तो ह हसीब को बेबी बॉयकॉट के नाम से पुकारते हैं और पूर्व कप्तान ज्योफरी बॉयकॉट से उनकी तुलना होती है। लेकिन दाएं हाथ का ये खिलाड़ी विराट कोहली और सचिन तेंदुलकर का बड़ा फैन है। बता दें, सचिन तेंदुलकर से तो हसीब 7 साल की उम्र में मिलने के बाद नहीं मिले। लेकिन जिस विराट कोहली को इस साल टी-20 वर्ल्ड कप में खेलते हुए हसीब अपने इंटरनेशनल करियर के आगाज का इंतजार कर रहे थे उसी के खिलाफ उनका ये ख्वाब पूरा हुआ।

    Tags: England, India, Rajkot

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें