अक्षर पटेल ने बताया इंग्लैंड दौरे पर क्या होगी टीम इंडिया की ताकत, कहा-किसी को भी हरा सकते हैं

इंग्लैंड दौरे पर अक्षर पटेल को जीत की उम्मीद, बताई टीम इंडिया की ताकत (साभार-एपी)

इंग्लैंड दौरे पर अक्षर पटेल को जीत की उम्मीद, बताई टीम इंडिया की ताकत (साभार-एपी)

अक्षर पटेल (Axar Patel) ने कहा कि इंग्लैंड के दौरे पर ऑलराउंडरों की भूमिका बहुत अहम होने वाली है. उनके मुताबिक टीम इंडिया की बल्लेबाजी की गहराई उसे बेहद मजबूत बनाती है.

  • Share this:

नई दिल्ली. टीम इंडिया के बाएं हाथ के स्पिनर अक्षर पटेल (Axar Patel) का मानना ​​है कि इंग्लैंड के लंबे दौरे के दौरान स्पिन गेंदबाज जो बल्लेबाजी भी कर सकते हैं, भारत के लिए बड़े पैमाने पर काम कर सकते हैं. अक्षर पटेल उस भारतीय टीम का हिस्सा हैं, जो साउथेम्प्टन में न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (World Test Championship) के फाइनल और इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैच खेलेगी. रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा और वाशिंगटन सुंदर अन्य स्पिनर हैं. जो इंग्लैंड दौरे पर जाएंगे. अक्षर पटेल ने महसूस किया है कि भारत का मजबूत स्पिन आक्रमण ऐसा है, जो गेंदबाजी के साथ शानदार बल्लेबाजी भी कर सकता है. ऐसे में टीम इंडिया की यह खासियत इंग्लैंड में उनका मुख्य हथियार साबित हो सकती है.

अक्षर पटेल ने इंडिया टीवी को दिए इंटरव्यू में कहा, ''अगर आप हमारी टीम के स्पिनर्स पर नजर डालें तो हमारे पास रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा और मैं खुद हूं. इसके बाद वाशिंगटन सुंदर भी हैं. हमारे टीम के सभी स्पिनर्स बल्लेबाजी भी कर सकते हैं, जो इंग्लैंड में हमारे लिए फायदेमंद साबित हो सकता है. अगर हमारे पास बल्लेबाजी का ऐसा क्रम है, जहां खिलाड़ी नंबर 8 या नंबर 9 तक योगदान दे सकते हैं, तो आप किसी भी पक्ष को हरा सकते हैं.''

इंग्लैंड में भी स्पिनर की अहम भूमिका

इस बातचीत के दौरान अक्षर पटेल ने इस बात पर भी जोर दिया कि एक स्पिनर इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसी जगहों पर भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है. उन्होंने कहा, ''भारत में धीमे गेंदबाज आक्रामक मोड में हैं. लेकिन जब हम ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसी जगहों पर जाते हैं तो पेसर निस्संदेह प्रमुख होते हैं. वह आपके मुख्य आक्रमण के विकल्प बन जाते हैं. हालांकि, स्पिनरों के पास भी करने के लिए का काम है. उन्हें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि वे रन गति को बढ़ने ना दें और और दबाव को फिसलने न दें. इसलिए उनके लिए स्थिति को समझना और उसके अनुसार समायोजित करना बहुत जरूरी है.''
घर पर भारत-इंग्लैंड सीरीज एसजी गेंदों के साथ खेली गई थी. हालांकि, इंग्लैंड में ड्यूक गेंद का इस्तेमाल होगा. अक्षर पटेल के मुताबिक, जबकि गेंदबाजों को कुछ समायोजन करने की आवश्यकता होती है, यह एक बड़ी चिंता का विषय नहीं है क्योंकि यह केवल गेंदबाजों को अधिक सहायता प्रदान करता है.

उन्होंने आगे कहा, ''मुझे लगता है कि ड्यूक की गेंद से गेंदबाजों को ज्यादा मदद मिलती है. इंग्लिश परिस्थितियों में यह गेंदबाजों के लिए और अधिक उपयोगी हो जाता है, क्योंकि सीम अधिक स्पष्ट होती है. तो गेंदबाजों के लिए सीम मोमेंट बढ़ता है. ऐसे में इसमें विचार करने के लिए वास्तव में बहुत कुछ नहीं है. यह पिंक बॉल टेस्ट की तरह है. जब आप गुलाबी गेंद का टेस्ट खेलते हैं, तो आपको लाल गेंद से गुलाबी गेंद से तालमेल बिठाना होता है.''

इरफान पठान की पत्नी की तस्वीर पर हुआ विवाद, कहा-मैं उसका मालिक नहीं, साथी हूं



अक्षर पटेल ने कहा, ''यह सब बस दिमाग में है. अगर आपकी लय अच्छी है तो गेंद इतना ज्यादा मायने नहीं रखती. जाहिर है, कुछ बदलाव करने की जरूरत है, लेकिन लेकिन यह अधिक मानसिक है. अगर आप इन चीजों के बारे में ज्यादा सोचते हैं तो आप वास्तविक चुनौती पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम नहीं होंगे.''

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज