इंजीनियरिंग छोड़ी, 3 साल तक टीम में जगह नहीं, अब 6 मैच में 4 सेंचुरी और 2 फिफ्टी

दलीप ट्रॉफी (Duleep Trophy) टूर्नामेंट में इंडिया रेड और इंडिया ब्‍ल्‍यू के बीच मुकाबले में बड़े नामों पर हिमाचल प्रदेश के रहने वाले अंकित कलसी (Ankit Kalsi) का खेल भारी पड़ा है.

News18Hindi
Updated: August 25, 2019, 7:27 PM IST
इंजीनियरिंग छोड़ी, 3 साल तक टीम में जगह नहीं, अब 6 मैच में 4 सेंचुरी और 2 फिफ्टी
हिमाचल प्रदेश के बल्‍लेबाज अंकित कलसी.
News18Hindi
Updated: August 25, 2019, 7:27 PM IST
दलीप ट्रॉफी (Duleep Trophy) टूर्नामेंट में इंडिया रेड (India Red) और इंडिया ब्‍ल्‍यू (India Blue) के बीच मुकाबले में कई बड़े नाम खेल रहे हैं. इसमें इंडिया रेड की ओर से करुण नायर(Karun Nair), वरुण आरोन, ईशान किशन, अक्षर पटेल, जयदेव उनादकट, इंडिया ब्‍ल्‍यू के लिए शुभमन गिल (Shubman Gill)जैसे नाम खेल रहे हैं. लेकिन इन सब पर हिमाचल प्रदेश के रहने वाले अंकित कलसी (Ankit Kalsi) का खेल भारी पड़ा है. उन्‍होंने शतक लगाया और इंडिया रेड को 285 रन के स्‍कोर तक पहुंचाया. करुण नायर 99 रन बनाकर आउट हुए तो शुभमन गिल केवल 9 रन बना सके. वरुण आरोन, अक्षर पटेल को एक भी विकेट नहीं मिला.

90 से 100 रन तक पहुंचने में खेली 39 गेंद
कलसी ने 345 गेंदों को सामना किया और 8 चौकों की मदद से 106 रन बनाए. यह उनके फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट करियर का पांचवां शतक था. शतक पूरा करने के दौरान कलसी को काफी संयम रखना पड़ा. जब उन्‍होंने 90 का स्‍कोर पार किया तो टीम के पास 4 विकेट बचे हुए थे. लेकिन अचानक से तीन विकेट जल्‍दी-जल्‍दी गिर गए. ऐसे में कलसी के साथ बल्‍लेबाजी के लिए 11वें नंबर का खिलाड़ी था. लेकिन बावजूद इसके उन्‍होंने धीरज बनाए रखा. 90 से 100 रन तक पहुंचने में उन्‍होंने 39 गेंदों का सामना किया.

अंकित कलसी को 23 साल की उम्र में टीम से निकाल दिया गया था. लेकिन उन्‍होंने धमाकेदार वापसी की.


23 मैच में 5 शतक और 6 अर्धशतक लगाए
25 साल के कलसी ने अभी तक एक भी टी20 मुकाबला नहीं खेला है और वे बारे में ज्‍यादा चिंतित भी नहीं हैं. उन्‍होंने अभी तक 23 फर्स्‍ट क्‍लास मैच खेले हैं और इसमें 42.82 की औसत से 1242 रन बनाए हैं. वे 5 शतक और 6 अर्धशतक लगा चुके हैं. नाबाद 144 रन उनका सर्वोच्‍च स्‍कोर है. दिलचस्‍प बात है कि अंकित कलसी को क्रिकेट में अपनी जगह बनाने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा. उनके माता-पिता उन्‍हें इंजीनियर बनाना चाहते थे लेकिन कलसी ने फर्स्‍ट ईयर के बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दी.

अंकित कलसी ने पिछले 6 मुकाबलों में 4 शतक और 2 अर्धशतक लगाए हैं. इस दौरान रणजी ट्रॉफी के एक मुकाबले में वे दोनों पारियों में शून्‍य पर आउट हो गए थे. लेकिन अगले मैच में उन्‍होंने शतक व अर्धशतक लगाया.
Loading...

ankit kalsi, ankit kalsi cricketer, duleep trophy 2019, india red, india blue, ankit kalsi record, अंकित कलसी, अंकित कलसी क्रिकेट, दलीप ट्रॉफी
अंकित कलसी इंजीनियरिंग छोड़कर क्रिकेट में आए थे.


इंजीनियरिंग छोड़ क्रिकेट को बनाया करियर
उन्‍होंने ईएसपीएनक्रिकइंफो को बताया, 'मैंने फर्स्‍ट ईयर की पढ़ाई के बाद इंजीनियरिंग छोड़ दी. मैं 18 साल का हो चुका था तो मुझे अंडर-19 टीम में जगह नहीं मिली. मैं लगातार 3 सीजन तक टीम से बाहर रहा. ऐसे में मुझे करियर बनाने के लिए कुछ करना था. मैंने मिले हुए मौकों को भुनाना और कभी जाया नहीं करना सीखा.'

बाएंं हाथ के इस बल्‍‍‍‍लेबाज ने आगे कहा, '2017-18 में पूरे सीजन में सीनियर टीम में जगह नहीं बना पाया और बाहर बैठा रहा. उस समय मुझे समझ आया कि ज्‍यादा फिट, कंसिस्‍टेंट और क्रिकेट के हिसाब से दिमाग को ढालना है. इससे मेरा नजरिया बदल गया. इसके बाद से जब भी मैं बैटिंग को जाता हूं तो मैं सोचता हूं कि मुझे यह काम करना है और मैं इसे हल्‍के में नहीं ले सकता हूं.'

कोहली और रहाणे की जोड़ी ने तोड़ा इन दिग्गजों का बड़ा रिकॉर्ड 

ऑस्‍ट्रेलिया के लाबुशेन के आगे इंग्‍लैंड की हुई बेइज्जती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 5:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...