पूर्व श्रीलंकाई खेल मंत्री ने उठाया सवाल, कहा-कैसे 2011 वर्ल्‍ड कप फाइनल हारते ही कार कंपनी के मालिक बने क्रिकेट अधिकारी?

पूर्व श्रीलंकाई खेल मंत्री ने उठाया सवाल, कहा-कैसे 2011 वर्ल्‍ड कप फाइनल हारते ही कार कंपनी के मालिक बने क्रिकेट अधिकारी?
2011 वर्ल्ड कप भारत के नाम रहा था

श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगामगे ने 2011 वर्ल्‍ड कप (2011 World Cup) फाइनल पर फिक्सिंग के आरोप लगाते हुए कहा कि आखिरी वक्‍त पर टीम बदली गई थी.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. पिछले कुछ दिनों से श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगामगे (Mahindananda Aluthgamage) के दिए बयानों ने पूरे खेल जगत में खलबली मचा दी. महिंदानंदा अलुथगामगे ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि आईसीसी वर्ल्ड कप 2011 (ICC World Cup 2011) फिक्स था. महिंदानंदा अलुथगामगे ने कहा कि भारत के खिलाफ वर्ल्‍ड कप 2011 का फाइनल खेलने वाली वो श्रीलंकाई टीम नहीं थी, जिसे हमने चुना था. उन्‍होंने कहा कि आखिरी समय में मुझसे और श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों की सलाह के बिना ही चार नए खिलाड़ियों को शामिल किया गया था.



आईसीसी ने नहीं दिया जवाब
पूर्व खेल मंत्री ने कहा कि भारत और श्रीलंका के बीच 2011 वर्ल्‍ड कप फाइनल में मैच फिक्सिंग के आरोपों को लेकर मैंने आईसीसी से भी शिकायत की थी, मगर उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं मिला. उन्‍होंने एक जांच की मांग भी की. उन्‍होंने सवाल उठाया कि आखिर कैसे 2011 वर्ल्‍ड कप फाइनल में श्रीलंका के हारते ही कुछ अधिकारियों ने कार कंपनी खरीद ली. पूर्व खेल मंत्री ने कहा कि मैंने यह पता लगाने के लिए एक जांच की मांग की, कि कैसे कुछ अधिकारियों ने कार कंपनियों को खरीदा. श्रीलंका के हारते ही एक साल के अंदर नए बिजनेस की शुरुआत की.
धोनी की कप्‍तानी में भारत ने 28 साल बाद जीता था वर्ल्‍ड कप



उस फाइनल मुकाबले में कप्तान कुमार संगकारा (Kumar Sangkkara) ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था. महेला जयवर्धने ने नाबाद 103 और संगकारा ने 48 गेंदों में 67 रन बनाए थे. श्रीलंका का स्कोर 50 ओवर में छह विकेट पर 274 रन था. भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान और युवराज सिंह ने दो-दो विकेट लिए थे. 275 रनों का पीछा करते हुए वीरेंद्र सहवाग (0) और सचिन तेंदुलकर (18) पर आउट हो गए.

यह भी पढ़ें : 

1999 वर्ल्ड कप फाइनल: शर्मनाक अंदाज में हारा था पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया ने 179 गेंद पहले ही रौंदा

सचिन को कप्तानी से हटाने वाला दिग्गज गेंदबाज, जिसकी रफ्तार से कांपते थे बल्लेबाज!

इसके बाद गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने 122 गेंदों में शानदार 97 रन की पारी खेली. उन्होंने विराट कोहली के साथ 83 रन की भागीदारी की. धोनी ने युवराज सिंह से पहले आने का फैसला किया. धोनी 91) और गंभीर के बीच चौथी विकेट के लिए 109 रनों की साझेदारी हुई. भारत को जीत के लिए 11 गेंदों पर 4 रन चाहिए थे, तब धोनी ने सिक्स लगाकार कप को भारत के नाम कर दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading