• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • 30 साल पहले टीम को बनाया चैंपियन, फिर कैंसर से जीती जंग, अब इतिहास दोहराने की दहलीज पर ये दिग्गज

30 साल पहले टीम को बनाया चैंपियन, फिर कैंसर से जीती जंग, अब इतिहास दोहराने की दहलीज पर ये दिग्गज

बंगाल की टीम 13 साल बाद रणजी फाइनल में पहुंची है

बंगाल की टीम 13 साल बाद रणजी फाइनल में पहुंची है

बंगाल (Bengal) की टीम ने 13 साल बाद रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) के फाइनल में जगह बनाई है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. एक सपना था जो 30 साल पहले जीया था. एक हकीकत है जो 30 साल बाद भी सपने जैसी है. ये सफर सिर्फ कुछ दिनों का नहीं है, ये मेहनत मानों सदियों की है. ये कहानी है रणजी ट्रॉफी चैंपियनशिप की, कहानी है बंगाल की...और ये कहानी अरुण लाल की भी है. क्रिकेटर, कमेंटेटर और अब कोच. सभी भूमिकाओं में सुपरहिट. 30 साल पहले 1989-90 के रणजी सत्र में अरुण लाल ने बंगाल को चैंपियन बनाया था. तब वह टीम के लिए सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज थे. साल 2020 उनके लिए फिर एक नई सुबह लेकर आया है. इस बार वह बंगाल टीम के कोच हैं और उनकी कड़ी मेहनत से टीम ने 13 साल बाद रणजी ट्रॉफी फाइनल में जगह बनाई है. 9 मार्च को होने वाले फाइनल में बंगाल की टक्कर सौराष्ट्र और गुजरात के बीच खेले जा रहे दूसरे सेमीफाइनल के विजेता से होगी.

    कैंसर के बाद अरुण लाल ने की वापसी
    बंगाल की टीम ने पिछली बार साल 1989-90 में रणजी ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया था. उस साल बंगाल ने बारिश से प्रभावित मैच में दिल्ली को मात दी थी. यह सीजन मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली का डेब्यू सीजन था. इस सीजन में बंगाल की ओर से सबसे ज्यादा 695 रन अरुण लाल (Arun Lal) ने बनाए थे. वही अरुण लाल (Arun Lal) जो मौजूदा सीजन में टीम के मुख्य कोच हैं. साल 2016 में उन्हें जबड़े का कैंसर हो गया था, जिसके बाद उन्होंने कमेंट्री से ब्रेक ले लिया था. अब जाकर उन्होंने सक्रिय क्रिकेट में वापसी की है. बतौर कोच बंगाल के साथ यह अरुण लाल का पहला साल है. अरुण ने बंगाल की टीम की दिशा बदल दी जिसका सबूत है कि वह 13 साल में पहली बार फाइनल में पहुंची है.

    एक इंटरव्यू में अरुण लाल ने कहा था कि उन्होंने टीम में हर खिलाड़ी को एक समान महसूस करवाने की कोशिश की है. टीम में ईशान पोरेल (Ishan Porell) जैसे युवा खिलाड़ी से लेकर मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) जैसे अनुभवी खिलाड़ी सभी को उनकी अहमियत समझाई जिसका फल उन्हें मिल रहा है. टीम का यह प्रदर्शन उन्हें किसी परीकथा जैसा नहीं लगता बल्कि वह सोचते हैं कि उन्हें वह मिला जिसकी टीम हकदार थी.

    टीम इंडिया के चार खिलाड़ियों के साथ खेल रही मजबूत कर्नाटक को दी मात
    कर्नाटक के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में तेज गेंदबाज मुकेश कुमार ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए छह विकेट चटकाए, जिससे बंगाल ने चौथे दिन मंगलवार को 174 रन से जीत दर्ज की. 352 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए कर्नाटक की टीम दूसरी पारी में 55 .3 ओवर में 177 रन पर ढेर हो गई. बंगाल की ओर से ईशान पोरेल और आकाश दीप ने भी दो-दो विकेट चटकाए. बंगाल ने साथ ही कर्नाटक को खिताब की हैट्रिक बनाने से भी रोक दिया. कर्नाटक ने हाल में घरेलू एकदिवसीय (विजय हजारे ट्राॅफी) और टी20 टूर्नामेंट (सैयद मुश्ताक अली ट्राॅफी) जीता था.

    टीम इंडिया के लिए खेले हैं 16 टेस्ट
    दाएं हाथ के बल्लेबाज और दाएं हाथ के मध्यम गति के तेज गेंदबाज अरुण लाल ने टीम इंडिया के लिए 16 टेस्ट मैच खेले हैं. इनमें उन्होंने 26.03 की औसत से 729 रन बनाए हैं. इस प्रारूप में उनके नाम 6 अर्धशतक हैं. वहीं 13 वनडे मैचों में उनका प्रदर्शन औसत ही रहा. इनमें उन्होंने 9.38 की औसत से 122 रन बनाए. वनडे में उनके बल्ले से एक अर्धशतक निकला.

    पहले लगाया तूफानी शतक फिर लिए 5 विकेट, हार्दिक पंड्या ने ऑलराउंड प्रदर्शन से ठोका टीम इंडिया में वापसी का दावा

    कोरोना वायरस के कारण IPL पर कोई खतरा नहीं, समय पर शुरू होगा टूर्नामेंट

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज