बायर्न अंडर-19 वर्ल्ड टीम में चुने जाने से आश्चर्यचकित, अच्छा प्रदर्शन करने को तैयार : शुभो पॉल

शुभो पॉल जर्मनी में विभिन्न क्लब से मुकाबला खेलेंगे. (Indian Football Team Twitter)

17 साल के शुभो पॉल को एफसी बायर्न की वर्ल्ड टीम में चुना गया है. बंगाल के इस खिलाड़ी को बेहतरीन प्रदर्शन के आधार पर टीम में जगह मिली. वे अब जर्मनी में विभिन्न क्लबों के साथ मुकाबला खेलेंगे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. एफसी बायर्न की वर्ल्ड टीम (अंडर-19) में चुने जाने पर सुदेवा एफसी के कप्तान शुभो पॉल थोड़े आश्चर्यचकित थे, लेकिन यह भारतीय फुटबॉलर प्रशिक्षिण के लिए जर्मनी जाकर देश को गौरवान्वित करने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं. इस 17 साल के अग्रिम पंक्ति के खिलाड़ी को एफसी बायर्न के दिग्गज और 1990 के वर्ल्ड कप विजेता क्लाउस ऑगेंथेलर द्वारा वीडियो फुटेज विश्लेषण के आधार पर दुनिया भर के अंडर-19 खिलाड़ियों में से चुना गया था.

    शुभो पॉल ने एआईएफएफ (AIFF) की आधिकारिक वेबसाइट से कहा, ‘वहां अपना नाम देखकर मैं आश्चर्यचकित हो गया था, लेकिन यह वाकई एक अद्भुत अहसास है. एक बार जब मैं वहां (जर्मनी में) जाऊंगा तो मुझे अपने देश को गौरवान्वित करना होगा.’ उन्होंने कहा, ‘मैं इस तरह से खेलना चाहता हूं कि वे मेरे खेल को देखें और सोचे कि भारत से एक अच्छा खिलाड़ी निकला है. आखिर में मैं बायर्न और भारत दोनों सीनियर टीमों में जगह बनाना पसंद करूंगा.’

    स्थानीय टीमों से खेलना है मुकाबला

    पॉल अब मैक्सिको जाएंगे और वहां से जर्मनी के लिए उड़ान भरने से पहले 15 सदस्यीय दल 13 दिनों के लिए प्रशिक्षण लेगा. यह वर्ल्ड टीम (अंडर-19) वहां स्थानीय टीमों के अलावा एफसी बायर्न अंडर-19 टीम के खिलाफ मैच खेलेगी. पॉल ने बताया कि जर्मनी के दिग्गजों ने बेहतर विश्लेषण के लिए पूरे मैच के फुटेज की मांग की थी. इसमें दुनिया भर के 100 खिलाड़ियों का चयन किया गया और सूची को पहले 64 और फिर घटाकर 35 करने के बाद आखिरी में 15 कर दिया गया.

    आई लीग में टीम के कप्तान हैं

    बंगाल के इस खिलाड़ी ने कहा, ‘एक बार जब मुझे 100 खिलाड़ियों की सूची में चुना गया तो क्लब के कोचों ने वीडियो कॉल पर कई तरह के विश्लेषण किए थे. फिर अंत में उन्होंने 15 खिलाड़ियों की सूची की घोषणा की, जो जर्मनी में प्रशिक्षण लेंगे और खेलेंगे.’ शुभो 12 साल की उम्र से सुदेवा एफसी से जुड़े हैं. क्लब ने जब 2020-21 सत्र में आई-लीग के लिए क्वालिफाई किया तो उन्हें टीम का कप्तान बनाया गया.

    12 साल की उम्र से क्लब से जुड़े हैं

    उन्होंने एएफसी अंडर-16 चैम्पियनशिप क्वालिफिकेशन मैचों में शानदार प्रदर्शन करते हुए तीन मैचों में दो गोल किए. उन्होंने कहा, ‘सुदेवा ने मेरी काफी मदद की. मैं 12 साल की उम्र से इस अकादमी से जुड़ा हूं और यहां मैंने खेल की सभी मूल बातें सीखी हैं. मैंने बिबियानो फर्नांडीस सर (पूर्व राष्ट्रीय अंडर-16 टीम के कोच) से भी बहुत कुछ सीखा है.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.