इयान चैपल बोले-ऑस्‍ट्रेलिया दौरे से पहले भारत को बल्‍लेबाज़ी कमजोरियों को करना होगा दूर

भारत को 2014-15 के अपने पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चार टेस्ट की सीरीज में 0-2 से हार का सामना करना पड़ा था.

News18Hindi
Updated: September 16, 2018, 3:50 PM IST
इयान चैपल बोले-ऑस्‍ट्रेलिया दौरे से पहले भारत को बल्‍लेबाज़ी कमजोरियों को करना होगा दूर
इयान चैपल
News18Hindi
Updated: September 16, 2018, 3:50 PM IST
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल का मानना है कि इस साल ऑस्ट्रेलिया दौरे पर बेहद मजबूत गेंदबाजी आक्रमण का सामना करने से पहले भारत को अपनी बल्लेबाजी की कमजोरियों को दूर करना होगा.

दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में सीरीज गंवाने के बाद विराट कोहली की अगुआई वाली टीम की नजरें ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने पर टिकी हैं.

चैपल ने ‘ईएसपीएनक्रिकइंफो.काम’ पर कॉलम में लिखा, ‘भारतीय टीम अब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बहुप्रतीक्षित सीरीज में अपनी प्रतिष्ठिता में सुधार करने उतरेगी लेकिन बल्लेबाजी की विसंगतियों पर ध्यान देना होगा.’

उन्होंने लिखा, ‘निलंबन के कारण दो सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर के बाहर होने के कारण ऑस्ट्रेलिया की बल्लेबाजी पर सवाल उठाए जा सकते हैं लेकिन उनका गेंदबाजी आक्रमण बेहद मजबूत है.’

भारत को तीन टी20, तीन वनडे और चार टेस्ट मैचों के लिए 21 नवंबर से 18 जनवरी के बीच ऑस्ट्रेलिया का दौरा करना है.


चैपल ने कहा, ‘अगर मिशेल स्टार्क, जोश हेजलवुड, पैट्रिक कमिंस और नाथन लियोन फिट रहते हैं तो भारतीय बल्लेबाजों के लिए समय चुनौतीपूर्ण होगा. इंग्लैंड में हवा में और सीम से मिल रही मूवमेंट से विराट कोहली के अलावा अन्य बल्लेबाजों के लिए नियमित रूप से परेशानी खड़ी हुई लेकिन ऑस्ट्रेलिया में अतिरिक्त उछाल परेशानी पैदा करेगा.’

भारत को 2014-15 के अपने पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चार टेस्ट की सीरीज में 0-2 से हार का सामना करना पड़ा था.

चैपल ने कहा, ‘आत्मविश्वास से भरा और अच्छी फार्म में चल रहा रोहित शर्मा ऑस्ट्रेलिया में बल्लेबाजी को मजबूत करने के लिए आदर्श खिलाड़ी होगा. उसके शॉट अतिरिक्त उछाल से निपटने के लिए सही हैं लेकिन यह दुख की बात है कि वह कभी टेस्ट क्रिकेट में उम्मीद के मुताबिक बल्लेबाजी नहीं कर पाया. दौरे के लिए उसे चुनना जुआ होगा.’

चैपल ने इंग्लैंड के दौरे पर टेस्ट सीरीज 1-4 से हारने को मौका गंवाना बताया.

उन्होंने कहा, ‘भारत को इंग्लैंड के खिलाफ 1-4 से सीरीज हारने को मौका गंवाने के रूप में देखना चाहिए. लॉर्ड्स में करारी हार के अलावा वे सीरीज में काफी प्रतिस्पर्धी रहे लेकिन टीम में सिर्फ प्रतिस्पर्धा पेश करने से कहीं बेहतर करने की क्षमता है.’
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर