ये है वर्ल्‍ड कप जीतने की 'चाबी' क्‍या टीम इंडिया को मिल पाएगी कामयाबी

पिछले कुछ सालों से इंग्‍लैंड बल्‍लेबाजों के लिए स्‍वर्ग बन गया है. किसी जमाने में यहां पर सफेद गेंद स्विंग होती थी.

News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 9:47 AM IST
ये है वर्ल्‍ड कप जीतने की 'चाबी' क्‍या टीम इंडिया को मिल पाएगी कामयाबी
भारत ने पिछले दो साल में 13 बार 300 से ज्‍यादा का स्‍कोर बनाया है. (File Photo)
News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 9:47 AM IST
इंग्‍लैंड में हाल फिलहाल के दिनों में वनडे में रनों की बारिश हुई है. इसके चलते वर्ल्‍ड कप में भी पहाड़ जैसे स्‍कोर बनने की संभावनाएं तेज हो गई. इंग्‍लैंड और पाकिस्‍तान के बीच अभी पांच वनडे मैचों की सीरीज चल रही है और दूसरे वनडे में 373, 361 और तीसरे में 358 व 359 के स्‍कोर बने हैं. पाकिस्‍तान की टीम ने इन दो वनडे में जबरदस्‍त मुकाबला किया लेकिन इंग्‍लैंड हर बार भारी पड़ गई.

दो साल में इंग्‍लैंड की ताबड़तोड़ बैटिंग


पिछले कुछ सालों से इंग्‍लैंड बल्‍लेबाजों के लिए स्‍वर्ग बन गया है. किसी जमाने में यहां पर सफेद गेंद स्विंग होती थी. 2015 के वर्ल्‍ड कप के बाद से इंग्‍लैंड में 56 मैचों में 40 बार 300 या इससे ज्‍यादा का स्‍कोर बना है. पिछले दो सालों में इंग्‍लैंड ने 45 मैचों में 17 बार 300 से ज्‍यादा रन बनाए हैं. यह एक रिकॉर्ड है. ऐसा कमाल कोई टीम नहीं कर पाई है.

इस रिकॉर्ड को देखते हुए लगता है कि अगर किसी टीम को वर्ल्‍ड कप जीतना है तो उसे इंग्‍लैंड क्रिकेट टीम के तूफानी बल्‍लेबाजों का मुकाबला करना होगा. ऐसे में सवाल उठता है कि क्‍या भारतीय क्रिकेट टीम के पास ऐसे बल्‍लेबाज हैं जो बड़ी पारियां खेल सके?

300 रन बनाने में दूसरे नंबर पर कोहली सेना
भारत ने पिछले दो साल में 13 बार 300 से ज्‍यादा का स्‍कोर बनाया है. हालांकि उन्‍होंने इंग्‍लैंड की तुलना में 14 वनडे ज्‍यादा खेले हैं. न्‍यूजीलैंड की टीम ने 36 वनडे में नौ बार 300 या इससे ज्‍यादा रन बनाकर तीसरे नंबर पर है. इंग्‍लैंड की तरह भारत के पास तूफानी बल्‍लेबाजों की फौज नहीं है. उसकी बैटिंग मुख्‍यत: टॉप के तीन बल्‍लेबाजों शिखर धवन, रोहित शर्मा और विराट कोहली पर निर्भर करती है. भारत ने 13 बार जो 300 से ज्‍यादा का स्‍कोर बनाया उनमें सात बार सलामी जोड़ी ने शतकीय साझेदारी की. वहीं एक मैच में धवन और रोहित ने 71 रन जोड़े थे.

वर्ल्ड कप से पहले पाकिस्तान ने किया बड़ा बदलाव, 2 खिलाड़ियों को टीम से निकाला
Loading...

टीम इंडिया को लक्ष्‍य का पीछा करना पसंद
वहीं बाकी पांच मैचों में से चार में कोहली ने शतक लगाया. भारत के लिए बुरी खबर यह है कि टॉप-3 के अलावा टीम इंडिया में ऐसा कोई बल्‍लेबाज नहीं है जिसने पिछले दो साल में वनडे शतक बनाया हो.
पिछले दो सालों में भारत ने ज्‍यादातर मैचों में लक्ष्‍य का पीछा करना ही पसंद किया है. इसके जरिए उसने 35 में से 26 मैच जीते हैं. टीम इंडिया ने पहले बल्‍लेबाजी करते हुए 24 मैच खेले और इनमें से 15 जीते हैं. ऐसे में टीम इंडिया के टॉस जीतना भी अहम होगा.


indian cricket team, cricket world cup, Hardik Pandya, icc world cup 2019, shikhar dhawan, virat kohli, india in england, भारतीय क्रिकेट टीम, क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019
पिछले दो सालों में भारतीय बल्‍लेबाजी शिखर धवन, रोहित शर्मा और विराट कोहली के भरोसे रही है.


पिछले साल इंग्‍लैंड दौरे पर क्‍या हुआ था?
पिछले साल भारत जब इंग्‍लैंड के दौरे पर गया था तब बल्‍लेबाजी में गहराई की कमी से टीम इंडिया को परेशानी हुई थी. तीन मैचों की सीरीज में भारत 2-1 से हार गया था.
भारत का स्‍कोर इस प्रकार रहा था-
लक्ष्‍य का पीछा करते हुए 40.1 ओवर में 269/2
323 रन का पीछा करते हुए 50 ओवर में 236 रन पर ऑल आउट.
पहले बल्‍लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 256 रन.


पहले वनडे में रोहित शर्मा ने 137 और विराट कोहली ने 75 रन की पारियां खेलकर टीम को जीत दिलाई थी. वहीं बाकी दो मैचों में टीम को निचले क्रम में ताबड़तोड़ बल्‍लेबाज की कमी खली. दूसरे वनडे में टीम इंडिया 27 ओवर में 140 रन के स्‍कोर से 236 रन पर सिमट गई. वहीं तीसरे वनडे में 31 ओवर में 156 रन से टीम 8 विकेट पर 258 रन ही बना सकी. निचले क्रम में तूफानी बल्‍लेबाज न होने से एमएस धोनी को आखिर तक मैच को ले जाने की लड़ाई लड़नी पड़ी.

indian cricket team, cricket world cup, Hardik Pandya, icc world cup 2019, shikhar dhawan, virat kohli, india in england, भारतीय क्रिकेट टीम, क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019
वर्तमान टीम इंडिया को उसकी गेंदबाजी सबसे अलग और मजबूत बनाती है.


घायल थी टीम इंडिया
लेकिन पिछले दौर पर गई टीम इंडिया और वर्ल्‍ड कप के लिए चुनी टीम में काफी अंतर है. उस टीम इंडिया में केदार जाधव शामिल नहीं थे. वहीं जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्‍वर कुमार भी चोटिल थे. ऐसे में हार्दिक पंड्या को पांचवें गेंदबाज की भूमिका निभानी पड़ी थी.

indian cricket team, cricket world cup, Hardik Pandya, icc world cup 2019, shikhar dhawan, virat kohli, india in england, भारतीय क्रिकेट टीम, क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019
आईपीएल 2019 में हार्दिक पंड्या ने गेंद और बल्‍ले से कमाल का खेल दिखाया है.


वर्तमान टीम क्‍यों बाकी से अलग है?
वर्तमान टीम इंडिया को उसकी गेंदबाजी सबसे अलग और मजबूत बनाती है. पिछली सीरीज में टीम के पास सिद्धार्थ कौल और उमेश यादव जैसे गेंदबाज थे. इस बार उसके पास जसप्रीत बुमराह, मोहम्‍मद शमी और भुवनेश्‍वर कुमार हैं.
अगर वर्ल्‍ड कप में विजय शंकर और जाधव प्‍लेइंग इलेवन में शामिल होते हैं तो भारत के पास गेंदबाजी में सात ऑप्‍शन होंगे. बल्‍लेबाजी में भी निचले क्रम में धोनी और पंड्या होंगे जो जबरदस्‍त फॉर्म में हैं.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...