World Cup फाइनल से पहले इंग्लैंड के खिलाड़ियों को कोच ने दिया ये गुरु मंत्र

मेजबान इंग्लैंड 1992 के बाद पहली बार विश्व कप का फाइनल मुकाबला खेलने जा रही है.

News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 12:34 PM IST
World Cup फाइनल से पहले इंग्लैंड के खिलाड़ियों को कोच ने दिया ये गुरु मंत्र
मेजबान इंग्लैंड 1992 के बाद पहली बार विश्व कप का फाइनल मुकाबला खेलने जा रही है.
News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 12:34 PM IST
मेजबान इंग्लैंड ने आखिरकार लंबे समय के इंतजार के बाद विश्व कप के फाइनल में प्रवेश कर लिया है. 1992 के  बाद पहली बार फाइनल खेल रही इंग्लैंड के हौंसले बुलंद हैं और उसकी नजर पहली बार अपने देश के लिए कोई बड़ा खिताब जीतने पर है. इंग्लिश टीम आज तक एक बार भी विश्व कप ट्रॉफी को उठा नहीं पाई है. रविवार को उसका सामना न्यूजीलैंड से है, जिसकी खुद कोशिश पहली बार विश्व विजेता बनने की है. इंग्लैंड के लिए हर लिहाज से यह मुकाबला काफी अहम है.

पिछले विश्व कप में शुरुआती दौर से बाहर हो जाना और फिर इस बार भी गिरते हुए इंग्लैंड नॉक आउट राउंड में पहुंची. जिससे टीम उत्साह से भरी हुई है. ऐसे में इंग्लिश टीम अति उत्साहित या अति आत्मविश्वासी ना हो जाए, इसी‌लिए उन्हें गुरु मंत्र दिया जा रहा है. इंग्लिश कोच ट्रेवर बेलिस अपने खिलाड़ियों को याद दिला रहे हैं कि उनका काम अभी भी खत्म नहीं हुआ है और जीत अब भी दूर है.



बाहर के शोर शराबे नहीं सुनाई देते
बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में बेलिस ने कहा कि हम बाहर के शोर शराबे को नहीं सुन सकते कि वो अच्छा है या बुरा. हमारा काम अब भी ख़त्म नहीं हुआ है और हमें अभी एक बड़ा मैच खेलना है.' कोच ने कहा कि हमारे बीच ड्रेसिंग रूम में चर्चा हुई और हमें ये अहसास हुआ कि हमने अब तक कुछ भी नहीं जीता है.

ग्रुप स्टेज में खतरे में था इंग्लैंड
ग्रुप स्टेज के दौरान इंग्लैंड वर्ल्डकप से बाहर होने की कगार पर आ गया था. पर उसने शानदार वापसी करते हुए भारत और न्यूज़ीलैंड को हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई. कप्तान ऑयन मॉर्गन ने कहा था कि टीम अपने रास्ते से इसलिए भटक गई थी क्योंकि वह अपनी शैली का खेल नहीं खेल रही थी. बेलिस ने भी अपने खिलाड़ियों को याद दिलाया कि उन्हें फ़ाइनल में अपनी शैली का खेल खेलने पर ध्यान देना चाहिए.

बेलिस ने कहा कि हमें वैसा क्रिकेट खेलना होगा, जैसा हम पिछले 4 साल से खेलते आ रहे हैं. अगर हम ये करने में कामयाब हो जाते हैं तो हमारे विरोधी को हमें हराने के लिए हमसे भी अच्छा खेलना होगा. हम आत्मविश्वास से भरे हुए हैं लेकिन हम घमंड में नही हैं. 2015 का वर्ल्डकप हमारे लिए खराब रहा था और हमने तब से 2019 की तैयारी शुरू कर दी थी. अच्छा लगता है कि हम अपने सपने के इतने करीब हैं.
Loading...

वर्ल्ड कप फाइनल और विंबलडन से परेशान हैं यह दिग्गज, आयोजकों पर उठाए सवाल

कोई बस धोता है तो कोई रह जाता है बेरोजगार, ये है न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों का दर्द!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...