क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019: टीम में कितने अहम होते हैं उप-कप्तान?

बेहतरीन उप-कप्तान बनने के लिए आपके पास क्या खास गुण होना चाहिए?

विमल कुमार@Vimalwa | News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 6:55 PM IST
क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019: टीम में कितने अहम होते हैं उप-कप्तान?
क्रिकेट में उपकप्‍तान की भूमिका.
विमल कुमार@Vimalwa | News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 6:55 PM IST
यह बात सही है कि अब तक क्रिकेट जगत ने उप-कप्तानी के काम को बहुत ज़्यादा तवज्‍जो नहीं दी है लेकिन वर्ल्ड कप जैसे टूर्नामेंट में उप-कप्तान की भूमिका बहुत तगड़ी होती है. भारत ने 1983 में जब कप पहली बार जीता था तो उप-कप्तान की भूमिका में मोहिंदर अमरनाथ थे जिन्होंने सेमी-फाइनल और फाइनल दोनों में मैन ऑफ द मैच का ख़िताब जीता था. 1996 में श्रीलंका की जीत में उप-कप्तान अरविंद डी सिल्वा की भूमिका बेहद अहम थी. 2011 में वीरेंद्र सहवाग टीम इंडिया के उप-कप्तान थे और बहुत कम लोगों को यह याद है कि सचिन तेंदुलकर और गौतम गंभीर के बाद टीम के लिए सबसे ज़्यादा रन उन्होंने ही बनाए थे. गंभीर ने उनसे सिर्फ 13 रन ही ज़्यादा बनाए थे.

1999 में ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड में जब वर्ल्ड कप जीता तो उप-कप्तान शेन वार्न के योगदान को कौन भूल सकता है. 2003 और 2007 में एडम गिलक्रिस्ट जैसे उप-कप्तान ने अपने कप्तान रिकी पोटिंग के भार को काफी हल्का किया.



क्रिकेट के खेल में शायद सबसे कम अहमियत उप-कप्तान की भूमिका को मिलती है. पारंपरिक तौर पर क्रिकेट के हर फॉर्मेट में कप्तान की भूमिका को जीत के लिए इतना अहम दर्जा दिया जाता रहा है जिसके चलते उप-कप्तान पर शायद ही कोई अच्छी बात आपको सुनने को मिले. लेकिन, हाल के दशकों में दिग्गज टीमों की कुछ बेहतरीन जीतें कप्तान की बजाए उप-कप्तान के ज़रिए आई हैं. आपको 2004 का पाकिस्तान दौरा तो याद होगा ही ना जब राहुल द्रविड़ ने नियमित कप्तान सौरव गांगुली की गैर-मौजूदगी में मुल्तान टेस्ट में ज़िम्मेदारी निभाई और अपनी टीम को 1-0 की बढ़त दिलाई. बाद में टीम इंडिया 2-1 से ये सीरीज़ जीती.

icc cricket world cup, indian cricket team, cricket vice captain, vice captains in cricket, उप कप्‍तान, क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019, भारतीय टीम, रोहित शर्मा
विराट कोहली और रोहित शर्मा टीम इंडिया के कप्‍तान और उपकप्‍तान हैं. (Fi;le Photo)


2004 में ऑस्ट्रेलिया ने 35 साल के लंबे अंतराल के बाद भारत में फाइनल फ्रंटियर जीता तो कप्तान रिकी पोटिंग नहीं बल्कि दौरे पर उप-कप्तान रहे एडम गिलक्रिस्ट थे. पोटिंग उस दौरे से अनफिट होकर बीच में ही वापस चले गए थे. द्रविड़ और गिलक्रिस्ट जैसे न जाने कितने उप-कप्तान इतिहास में रहे हैं जो मुसीबत की घड़ी में बहुत सहज़ता से अपनी टीम की नैय्या न सिर्फ पार लगाते हैं बल्कि नियमित कप्तान की कमी भी महसूस होने नहीं देते हैं.

वैसे ज्यादातर मुल्कों में उप-कप्तान उस खिलाड़ी को ही बनाया जाता है जिसे भविष्य में कप्तानी की ज़िम्मेदारी दी जाए. भारत में फिलहाल अलग अलग फॉर्मेट में अलग अलग उप-कप्तान हैं. टेस्ट में कोहली कप्तान हैं तो अजिंक्या रहाणे उप-कप्तान. वहीं वन-डे और टी20 में रोहित शर्मा सेनापति की भूमिका कोहली के लिए निभाते हैं. वर्ल्ड कप में भी रोहित ही कप्तान कोहली के रणनीतिकारों में से एक हैं.

बेहतरीन उप-कप्तान बनने के लिए आपके पास क्या खास गुण होना चाहिए? ऑस्ट्रेलिया के पूर्व उप-कप्तान और विकेटकीपर ब्रैड हैडिन ने एक कुछ महीने पहले एक वेबसाइट में अपने लेख के ज़रिये एक बेहतरीन बात कही थी- उप-कप्तान के रोल में आपको सलाहकार, गाइड, हौसला- बढ़ाने वाला, अपने काम से काम रखने वाला और सबसे अहम बात कप्तानी के लिए गैर-महत्वाकांक्षी होना होता है.
Loading...

icc cricket world cup, indian cricket team, cricket vice captain, vice captains in cricket, उप कप्‍तान, क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019, भारतीय टीम, रोहित शर्मा
विराट कोहली और एमएस धोनी मिलकर टीम इंडिया को लीड करते हैं.


बता दें कि हैडिन लंबे समय तक माइकल कलार्क के डिप्टी थे. ख़ैर, भविष्य में कप्तानी के लिए खिलाड़ी की महत्वाकांक्षा हो या ना हो इस बात से ज़्यादा असर पड़ता है कि उप-कप्तान का अपने कप्तान से ताल्लुक कैसा है. श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा और महेला जयवर्धने की जोड़ी के कमाल को दोहराना शायद मुमकिन नहीं क्योंकि ये दोनों बेहतरीन दोस्त भी थे. दोनों ने एक-दूसरे की कप्तानी में उप-कप्तान की भूमिका को संजीदगी से निभाया.

icc cricket world cup, indian cricket team, cricket vice captain, vice captains in cricket, उप कप्‍तान, क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019, भारतीय टीम, रोहित शर्मा
कुमार संगकारा और महेला जयवर्धने.


कोहली और धोनी भले ही ऐसे दोस्त नहीं रहें हों लेकिन इन दोनों के दोस्ताने रिश्ते के चलते भारतीय क्रिकेट में 2 कप्तानों के रहने के चलते भी कोई बड़ी समस्या नहीं आयी. संगकारा औऱ जयवर्धने की ही तरह सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ की जोड़ी ने भी इस भूमिका को शानदार तरीके से निभाया. गांगुली की कप्तानी की हर कोई मिसाल देता है लेकिन लोग अक्सर ये भूल जाते हैं कि भारतीय क्रिकेट को बदलने में एक क्रांतिकारी फैसला लेने में उप-कप्तान द्रविड़ की भूमिका कितनी अहम रही थी. पहले विदेशी कोच के तौर पर जॉन राइट को भारत लेने का आइडिया द्रविड़ का था जो उस वक्त इंग्लैंड में कैंट के लिए काउंटी क्रिकेट खेल रहे थे और तभी वो राइट के संपर्क में आए थे.

icc cricket world cup, indian cricket team, cricket vice captain, vice captains in cricket, उप कप्‍तान, क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019, भारतीय टीम, रोहित शर्मा
सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़.


बहरहाल, ये बात भी सही है कि कुछ खिलाड़ी उप-कप्तान के तौर पर ही अच्छे होते हैं. कप्तानी की ज़िम्मेदारी उनके बस की बात नहीं होती है. दक्षिण अफ्रीका के जैक कैलिस या फिर न्यूज़ीलैंड के क्रिस कैर्न्‍स का नाम आपके ज़ेहन में आता है. इन दिनों पूर्व खिलाड़ियों ने लंबे समय तक अपने देश के लिए उप-कप्तान की भूमिका निभाई और जब इन्हें कुछ मैचों में कप्तानी दी गई तो ये नाकाम ही साबित हुए.

लेकिन टीम इंडिया के मौजूदा उप-कप्तान रोहित शर्मा को ना सिर्फ भविष्य की कप्तानी का एक बेहतरीन विकल्प माना जाता है बल्कि कोहली के साथ उनके तालल्कात भी बेहद अच्छें हैं. जिस तरह से मुंबई इंडियंस के लिए आईपीएल में रोहित ने शानदार कप्तानी की है, वो भी मुश्किल हालात में, उससे ना सिर्फ भविष्य के लिए उनका दावा और मज़बूत होगा. कोहली ने भी पिछली ऑस्ट्रेलिया सीरीज़ के दौरान कहा था कि दबाव वाले लम्हों में वो रोहित और धोनी से ही ज़्यादा सलाह-मशविरा करते हैं.

क्रिकेट वर्ल्‍ड कप: गुमनाम रणजी खिलाड़ी अब है सबसे ख़तरनाक हिटर!

हैडिन की ये बातें इस परिपेक्ष्य में और तगड़ी लगती हैं जहां उन्होंने कहा है कि उप कप्तानी एक छोटा समझे जाने वाला काम है जिसे अब तक बहुत लोग सही तरीके से समझ नहीं पाये हैं. लेकिन, एक कामयाब टीम को लगातार आगे बनाये रखने के लिए उप-कप्तान काफी अहम होता है. रोहित शर्मा ने जिस तरह से मुश्किल हालात में शतक लगाकर टीम को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले जीत दिलाई और फिर ऑस्ट्रेलिया वाले मुकाबले में एक अच्छा अर्धशतक लगाया उससे तो यही साफ होता है कि इस बार भी ख़िताबी जीत में उप-कप्तानी की भूमिका अहम हो सकती है.

आईसीसी की बड़ी लापरवाही, कई टीमों का टूट सकता है सपना

भारत से मुकाबले को लेकर पाकिस्तानी कप्तान ने दिया बड़ा बयान

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...