रोहित, धवन और कोहली की तिकड़ी पर टिकी है वर्ल्ड कप में भारत की जीत

भारतीय टीम की बल्लेबाजी काफी हद तक उसके टॉप ऑर्डर पर निर्भर है

News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 4:49 PM IST
रोहित, धवन और कोहली की तिकड़ी पर टिकी है वर्ल्ड कप में भारत की जीत
भारत का टॉप ऑर्डर टीम की बड़ी ताकत है.
News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 4:49 PM IST
भारतीय टीम 30 मई से इंग्लैंड में शुरू होने वाले वर्ल्ड कप में 15 सदस्यीय की मजबूत टीम के साथ विराट कोहली की कप्तानी में उतरने वाली है. भारतीय टीम की सबसे बड़ी ताकत उसका टॉप ऑर्डर है. पिछले वर्ल्ड कप से लेकर अब तक टीम की बल्लेबाजी रोहित शर्मा शिखर धवन और विराट कोहली पर ही निर्भर रही है. चाहे बात चेज की हो या बड़ा स्कोर खड़ा करने की, टीम के टॉप ऑर्डर की अहम भूमिका होती है. साल 2015 के वर्ल्ड कप के बाद से अगर अब तक आंकडें देखें तो यह सही साबित होता दिखता है.

हिट है भारत का टॉप ऑर्डर



पिछले चार सालों में टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों ने 45 शतक और 67 अर्धशतक लगाए हैं वहीं मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाज केवल छह शतक और 35 अर्धशतक ही लगा पाए हैं. रनों के मामले में भी मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाज काफी पीछे दिखते हैं. टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों ने मिडिल ऑर्डर के मुकाबले 6030 ज्यादा रन बनाए हैं. भारत ने पिछले चार वर्षों में खेले गए 86 मैचों में से 56 में जीत दर्ज की और इसका बड़ा कारण भारत के टॉप तीन बल्लेबाज ही है. भारत ने इन मैचों में शीर्ष क्रम में 14 बल्लेबाज आजमाये जिन्होंने कुल मिलाकर 13055 रन बनाए. वहीं मिडिल ऑर्डर के 24 बल्लेबाजों के नाम पर केवल 7025 रन ही दर्ज रहे.



14 बल्लेबाज टॉप ऑर्डर में कर चुके हैं बल्लेबाजी

इन 14 बल्लेबाजों में मुख्य तौर पर कोहली, रोहित और धवन ही बल्लेबाजी कर रहे हैं.  कप्तान कोहली की बात करें तो वह तीसरे नंबर बल्लेबाजी करते हैं. पिछले चार सालों में वह 65 मैचों में टॉप ऑर्डर में बल्लेबाजी करने उतरे हैं. उन्होंने 83.76 की औसत 98.54 के स्ट्राइक रेट से 4272 रन बनाए जिसमें 19 शतक और 16 अर्धशतक शामिल हैं. पिछले चार वर्षों में वह दुनिया में शीर्ष क्रम के अकेले बल्लेबाज रहे जिन्होंने 4000 से अधिक रन बनाए. उनके बाद दूसरे नंबर पर सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा है. 2015 के वर्ल्ड कप के बाद से अब तक 71 मैच खेले हैं में 61.12 की औसत से 3790 रन बनाए.

कप्तान कोहली भारतीय टीम में ज्यादातर तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे हैं (pti)
कप्तान कोहली भारतीय टीम में ज्यादातर तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे हैं (pti)

Loading...

उन्होंने इस बीच 15 शतक और 16 अर्धशतक लगाए हैं. रोहित के सलामी जोड़ीदार धवन ने 67 मैचों में 45.20 की औसत से 2848 रन बनाए जिसमें आठ शतक और 15 अर्धशतक शामिल हैं. इन तीनों के अलावा के एल राहुल को भी नौ मैचों में मौका दिया गया लेकिन वह केवल 310 रन ही बना पाए हैं. हालांकि इसमें एक शतक और दो अर्धशतक भी शामिल हैं. हालांकि रोहित, धवन और कोहली के रहते हुए टॉप ऑर्डर बल्लेबाजी का मौका मिलना मुश्किल है. वह टीम में चौथे नंबर के दावेदारों में हैं. रवि शास्त्री ने हालांकि टीम के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव के संकेत दिए थे, जिसके मुताबिक कोहली चौथे नंबर पर बल्लेबाजी कर सकते हैं. इस बात की उम्मीद बेहद कम है.

धोनी पर निर्भर है मिडिल ऑर्डर

भारतीय टीम का मिडिल ऑर्डर काफी हद तक टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के कंधों पर है. टेस्ट से संन्यास ले चुके धोनी ने साल 2015 में टीम के कप्तान थे. उसके बाद से उन्होंने 79 मैच खेले हैं जिसमें 44.46 की औसत से 2001 रन बनाए हैं. उनके अलावा फिलहाल चोटिल चल रहे केदार जाधव ही 1000 से ज्यादा रन बना पाए हैं. इन चार वर्षों में हार्दिक पंड्या (41 मैचों में 641 रन), दिनेश कार्तिक (19 मैचों में 381 रन) और रविंद्र जडेजा (17 मैचों में 172 रन) टुकड़ों में ही अच्छा प्रदर्शन कर पाए हैं. विजय शंकर पिछले एक साल से ही टीम से जुड़े हैं. इस बीच उन्होंने मध्यक्रम में नौ मैच खेले जिसमें 165 रन बनाए.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...