विराट ने कपिल-धोनी क्लब में शामिल होने का मौका गंवाया, नहीं हटा पाए चोकर्स का ठप्पा भी

दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में शुमार कोहली को बल्लेबाज के तौर पर ही नहीं, कप्तान के तौर पर अपनी श्रेष्ठता साबित करने का बड़ा मौका था. वह न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में महज 1 रन बनाकर आउट हो गए.

News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 6:07 AM IST
विराट ने कपिल-धोनी क्लब में शामिल होने का मौका गंवाया, नहीं हटा पाए चोकर्स का ठप्पा भी
अब तक न तो विराट की कप्तानी का जादू आईपीएल टूर्नामेंट में चला है और न ही किसी ग्लोबल क्रिकेट टूर्नामेंट में उनका दम दिखा.
News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 6:07 AM IST
इंटरनेशनल क्रिकेट में शतकों की झड़ी लगाने वाले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के लिए आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 का सफर शानदार रहा. हालांकि, वह पाकिस्तान के खिलाफ चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल की ही तरह न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में चूक गए. अब तक न तो विराट की कप्तानी का जादू आईपीएल टूर्नामेंट में चला है और न ही किसी ग्लोबल क्रिकेट टूर्नामेंट में उनका दम दिखा.

आईपीएल में भी अब तक अपनी टीम को नहीं बना पाए चैंपियन

आईपीएल में भी कोहली अब तक रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को चैंपियन नहीं बना पाए हैं. अब वर्ल्ड कप में भी उन पर लगा चोकर्स का ठप्पा हटने का नाम नहीं ले रहा है. वर्ल्ड कप टूर्नामेंट मौजूदा दौर में दुनिया के सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में शुमार विराट के लिए बल्लेबाज ही नहीं कप्तान के तौर पर भी खुद को साबित करने का बड़ा मौका था. हालांकि, वह न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में महज 1 रन बनाकर आउट हो गए. वह वर्ल्ड कप 2015 सेमीफाइनल मैच में भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1 रन बनाकर आउट हुए थे.

कोहली 2011 वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मैच में पाकिस्तान के खिलाफ महज 9 रन बनाकर आउट हो गए थे.


पहले भी बड़े मैचों में खामोश ही रहा है विराट का बल्ला

इससे पहले कोहली 2011 वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मैच में पाकिस्तान के खिलाफ महज 9 रन बनाकर आउट हो गए थे. उस मैच में वह तेज गेंदबाज वहाब रियाज की गेंद पर उमर अकमल के हाथों कैच आउट हुए थे. इसके बाद 2015 वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1 रन बनाकर आउट हुए थे. उस मैच में वह तेज गेंदबाज मिचेल जॉनसन की गेंद पर ऊंचा शॉट खेल बैठे और विकेटकीपर बैड हेडिन को कैच पकड़ा बैठे.

कोहली ने वर्ल्ड कप नॉकआउट मैचों में बनाए हैं सिर्फ 72 रन
Loading...

विराट वर्ल्ड कप के नॉकऑउट मैचों में 12.16 की औसत से महज 73 रन ही बना पाए हैं. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 56.15 का रहा है, जो बेहद शर्मनाक है. कोहली के पास कपिल देव और महेंद्र सिंह धोनी के क्लब में शामिल होने का मौका था. 1983 में भारत को कपिल देव ने पहली बार वर्ल्ड कप जिताया था. ठीक 28 साल बाद महेंद्र सिंह धोनी ने भारत को 2011 का वर्ल्ड चैंपियन बनाया. विराट इसके 8 साल बाद भारत को तीसरा वर्ल्ड कप का खिताब नहीं जिता पाए.

विराट वर्ल्ड कप के नॉकऑउट मैचों में 12.16 की औसत से महज 73 रन ही बना पाए हैं. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 56.15 का रहा है, जो बेहद शर्मनाक है.


फैंस की उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाए टीम इंडिया के कप्तान

2017 में कोहली ने इंग्लैंड में खेले गए मिनी वर्ल्ड कप यानी चैंपियंस ट्रॉफी में भारत को टूर्नामेंट के फाइनल तक पहुंचाया था. तब फैंस को उम्मीद थी कि भारत को चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का उपविजेता बनाने वाले कोहली इस बार टीम इंडिया को वर्ल्ड कप जितवा देंगे. हालांकि, हुआ इसके बिलकुल उलट. उनका बल्ला बड़े मैच में खामोश रहा और टीम इंडिया वर्ल्ड कप से बाहर हो गई.

ये भी पढ़ें:

IND vs NZ : 20,645 रन का अनुभव...कुल 3 रन बना सके विराट-रोहित-राहुल, जरूरत पर ढह गया शीर्ष क्रम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 11, 2019, 6:07 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...