WTC Final: न्यूजीलैंड की सबसे बड़ी 'कमजोरी' पकड़ी गई, टीम इंडिया को होगा फायदा!

WTC Final: पकड़ी गई न्यूजीलैंड की कमजोरी (फोटो-एएफपी)

WTC Final: पकड़ी गई न्यूजीलैंड की कमजोरी (फोटो-एएफपी)

भारत और न्यूजीलैंड (IND VS NZ) के बीच वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल (WTC Final) 18 जून से साउथैंप्टन में होगा. खिताबी मुकाबले से पहले इस रिपोर्ट में जानिए न्यूजीलैंड की बड़ी कमजोरी.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत और न्यूजीलैंड (IND VS NZ) के बीच टेस्ट फॉर्मेट की सबसे बड़ी टक्कर 18 जून से साउथैंप्टन के मैदान में होगी. दोनों ही टीमें वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल (WTC Final) में एक-दूसरे से लोहा लेंगी. इंग्लैंड की धरती पर होने वाले इस मैच में न्यूजीलैंड को प्रबल दावेदार बताया जा रहा है क्योंकि वहीं का मौसम और पिच कीवी टीम को रास आती हैं. न्यूजीलैंड में भी स्विंग और तेज गेंदबाजों के मुफीद पिच होती हैं ऐसे में जाहिर तौर पर उसके बल्लेबाजों और गेंदबाजों को ऐसे माहौल में खेलने का ज्यादा अनुभव है. हालांकि आपको बता दें इसके बावजूद टीम इंडिया के पास जीतने के कई मौके हैं. न्यूजीलैंड की गेंदबाजी तो बेहद मजबूत है लेकिन उसकी बल्लेबाजी में अनुभव और फॉर्म की कमी है.

न्यूजीलैंड के पास ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी और नील वैगनर जैसे तीन तेज गेंदबाजों की तिकड़ी है जो कि अनुभव के साथ-साथ गजब की फॉर्म में भी हैं. काइल जेमीसन ने कीवी टीम के बॉलिंग अटैक को और ज्यादा मजबूत बना दिया है लेकिन गौर करने वाली बात ये है कि न्यूजीलैंड की बल्लेबाजी में थोड़ी कमजोरियां हैं जिसका फायदा टीम इंडिया के गेंदबाज उठा सकते हैं.

WTC में न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों का प्रदर्शन

न्यूजीलैंड की बल्लेबाजी यूनिट की बात करें तो उसके कप्तान केन विलियमसन इस टीम की सबसे बड़ी ताकत हैं. इसके अलावा हेनरी निकोल्स, टॉम लैथम, रॉस टेलर और बीजे वॉटलिंग भी इस टीम के अहम बल्लेबाज हैं. गौर करने वाली बात ये है कि कप्तान विलिमयन और टेलर के अलावा न्यूजीलैंड के दूसरे बल्लेबाजों को न्यूजीलैंड से बाहर खेलने का ज्यादा अनुभव नहीं है. हेनरी निकल्स ने कभी इंग्लैंड में टेस्ट मैच नहीं खेला है. टॉम लैथम ने भी इंग्लैंड में सिर्फ 2 टेस्ट खेले हैं. वॉटलिंग ने जरूर इंग्लैंड में 10 और रॉस टेलर ने 7 टेस्ट मैच खेले हैं, दोनों का प्रदर्शन भी बेहतरीन रहा है. लेकिन गौर करने वाली बात ये है कि ये दोनों ही खिलाड़ी वर्ल्ड टेस्ट सीरीज में कुछ खास नहीं कर पाए हैं. वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में रॉस टेलर ने 31.26 की औसत से 469 रन बनाए हैं. वॉटलिंग का औसत तो 30 से भी कम है. ऑलराउंडर काइल जेमिसन भी पहली बार इंग्लैंड में टेस्ट मैच खेलेंगे.
टी10 लीग में इस बल्लेबाज ने लगाए 6 गेंदों पर 6 छक्के, युवराज की तरह बरपाया कहर, देखें Video

केन विलियमसन ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में 58 से ज्यादा की औसत से जरूर रन बनाए हैं लेकिन विलियमसन वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के सभी विदेशी टेस्ट में फ्लॉप साबित हुए हैं. कीवी कप्तान ने विदेशी धरती पर 7 पारियों में महज 11.57 के औसत से 87 रन बनाए हैं. वैसे न्यूजीलैंड को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल से पहले इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलनी है इससे उसके बल्लेबाजों को वहां के हालात में ढलने में अच्छा मौका मिलेगा. लेकिन सिर्फ 2 टेस्ट मैच से आप भारत की अनुभवी टीम का सामना कैसे कर पाएंगे ये देखने वाली बात होगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज