इशान किशन के खेल के ये पांच मजबूत पहलू भविष्य में उन्हें ऋषभ पंत से ऊपर ले जा सकते हैं

इशान किशन ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले टी20 में 32 गेंद पर 56 रन की पारी खेलकर कई खिलाड़ियों के लिए खतरे की घंटी बजा दी है. ( PIC:AFP)

इशान किशन (Ishan Kishan) ने इंग्लैंड के खिलाफ अपने डेब्यू टी20 में 56 रन की पारी खेलकर ये बता दिया है कि वो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में लंबे वक्त तक रूकने के लिए आए हैं. अगर वो खूबियों पर और काम कर लें तो आने वाले वक्त में ऋषभ पंत (Rishabh Pant) से बड़े खिलाड़ी बन सकते हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टी20 में शिखर धवन की जगह इशान किशन (Ishan Kishan)को प्लेइंग-11 में मौका देने का टीम मैनेजमेंट का फैसला काम कर गया. अपने डेब्यू टी20 में झारखंड के कप्तान किशन ने 32 गेंद में पांच चौके और चार छक्कों की मदद से 56 रन बनाए. वो अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) के बाद डेब्यू टी20 में फिफ्टी लगाने वाले दूसरे भारतीय बने. अपनी इस पारी में किशन ने मैदान के चारों ओर शॉट्स लगाए और ये दिखाया कि वो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में लंबा वक्त बिताने के लिए आए हैं. उनकी इस पारी ने कई खिलाड़ियों के लिए खतरे की घंटी बजा दी है. इसमें शिखर धवन (Shikhar Dhawan), केएल राहुल (KL Rahul) और ऋषभ पंत (Rishabh Pant) शामिल हैं. पंत और किशन में आगे जाकर टीम इंडिया में जगह बनाने को लेकर कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने को मिल सकती है. क्योंकि दोनों मूल रूप से विकेटकीपर बल्लेबाज हैं. दोनों आक्रामक क्रिकेट खेलते हैं और अपने दम पर मैच जिताने की काबिलियत रखते हैं. अगर किशन अपने खेल के मजबूत पहलूओं पर और ध्यान देते हैं तो वो पंत से भी ऊपर जा सकते हैं.

    किशन और पंत के खेलने का अंदाज भले ही एक जैसा है. लेकिन किशन की ताकत अक्लमंदी के साथ आक्रामक बल्लेबाजी करना है. इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू टी20 में उन्होंने इसे दिखाया भी. शून्य रन पर टीम का पहला विकेट गिरने के बाद भी वो घबराए नहीं और कप्तान विराट कोहली के साथ दूसरे विकेट के लिए 94 रन की बड़ी साझेदारी की. एक तरफ तो उन्होंने बड़े शॉट्स खेलकर कप्तान कोहली पर से दबाव कम किया और दूसरी ओर एक-एक रन लेकर स्ट्राइक रोटेट करते रहे. इस वजह से इंग्लिश गेंदबाज अपने प्लान पर अमल नहीं कर पाए. जिस तरह उन्होंने अपने पहले ही मैच में समझदारी भरी पारी खेली अगर वो इसे आगे भी बरकरार रखते हैं तो पंत से आगे जाने से उन्हें कोई नहीं रोक सकता.

    किशन की सबसे बड़ी ताकत किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी कर पाना 
    मुंबई इंडियंस के इस बल्लेबाज की एक बड़ी ताकत और है ये वो पंत के मुकाबले किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी कर सकते हैं. 22 साल के किशन मुंबई इंडियंस की ओर से ओपनिंग के साथ-साथ नंबर-3 पर खेल चुके हैं. इसके अलावा घरेलू क्रिकेट में भी वो झारखंड के लिए पारी की शुरुआत कर चुके हैं. इशान ने आईपीएल के पिछले सीजन में मुंबई इंडियंस की ओर से खेलते हुए 14 मैच में 516 रन बनाए थे. वे अपनी टीम के टॉप स्कोरर रहे थे.उनकी बल्लेबाजी की बदौलत ही मुंबई इंडियंस पांचवीं बार आईपीएल का खिताब जीतने में सफल रही थी.डेब्यू टी20 से पहले भी किशन ने कहा था कि टीम इंडिया में जगह बनाना आसान नहीं है. अगर उन्हें मौका मिलता है तो वो किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी कर सकते हैं. बल्लेबाजी में उनका ये लचीलापन न सिर्फ टीम के बल्कि उनके काम भी आ सकता और उन्हें भविष्य में ज्यादा मौके दिला सकता है.

    किशन ने बीते 2 साल में ऑफ साइड का खेल सुधारा
    किशन की तीसरी ताकत है शॉर्ट गेंद को खेलने का उनका अंदाज. इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू टी20 में उन्होंने इसे दिखाया भी. जोफ्रा आर्चर, सैम और टॉम कर्रन ने उन्हें काफी शॉर्ट गेंद फेंकी. लेकिन किशन ने हर बार गेंद को बाउंड्री के पार भेजा. उन्होंने अकेले पुल शॉट खेलकर 15 रन बनाए. व्हाइट बॉल क्रिकेट में उनका ये हुनर टीम के काफी आ सकता है.

    किशन ने दो साल के भीतर अपनी बल्लेबाजी में काफी सुधार किया है. वो पहले लेग साइड पर ज्यादा खेलते थे. लेकिन पिछले आईपीएल से उन्होंने ऑफ साइड में खेलना शुरू किया. इसका उन्हें फायदा मिला है और ये उनके खेल की चौथी सबसे बड़ी ताकत है, जिसकी मदद से वो बेहतर बल्लेबाज के रूप में उभरे हैं. उन्होंने पहले टी20 में इसे साबित भी किया. अबु धाबी की तरह ही अहमदाबाद में भी स्क्वेयर बाउंड्री ज्यादा लंबी थी. ऐसे में उन्होंने अपने पसंदीदा क्षेत्र में शॉट न खेलकर डीप मिडविकेट और वाइड लॉन्ग-ऑन के बीच में ज्यादा शॉट खेले. उन्होंने इस क्षेत्र में 25 जबकि स्क्वेयर एरिया में 16 रन बनाए. ये बताता है कि उन्होंने अपने ओवरऑल खेल में कितना सुधार किया है.

    किशन ने रशीद की 10 गेंद पर 21 रन बनाए
    पंत की तरह ही किशन भी स्पिनर्स को खेलना जानते हैं. वो स्वीप और रिवर्स स्वीप दोनों शॉट्स अच्छे खेलते हैं. उन्होंने पहले टी20 में इंग्लैंड के लेग स्पिनर आदिल रशीद के खिलाफ इसका अच्छा इस्तेमाल किया. किशन ने रशीद की 10 गेंद पर 21 रन बनाए. इसमें दो छक्के भी शामिल हैं. बतौर विकेटकीपर भी किशन का प्रदर्शन अच्छा रहा है. उन्होंने लिस्ट-ए क्रिकेट में 77 मैच में 88 कैच और 9 स्टम्पिंग की है. इसके अलावा 96 टी20 में झारखंड के इस विकेटकीपर ने 46 कैच और सात स्टम्पिंग की है. अगर किशन अपनी इन ताकत पर लगातार काम करते रहे तो भविष्य में पंत से बड़े खिलाड़ी बन सकते हैं और सालों तक टीम इंडिया के लिए खेल सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.