होम /न्यूज /खेल /फिरकी के दम पर भारत ने धो डाला! तिलमिलाए कंगारू दिग्‍गज ने लगा दी कप्‍तान की क्‍लास…कोच को भी नही बख्‍शा

फिरकी के दम पर भारत ने धो डाला! तिलमिलाए कंगारू दिग्‍गज ने लगा दी कप्‍तान की क्‍लास…कोच को भी नही बख्‍शा

पैट कमिंस की कप्‍तानी वाली टीम भारतीय फिरकी का सामना नहीं कर पाई है. (AFP)

पैट कमिंस की कप्‍तानी वाली टीम भारतीय फिरकी का सामना नहीं कर पाई है. (AFP)

ऑस्‍ट्रेलिया की टीम पर अब बॉर्डर-गावस्‍कर ट्रॉफी (Border Gavaskar Trophy) में क्‍लीन स्‍वीप होने का खतरा मंडरा रहा है. ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली. बॉर्डर-गावस्‍कर ट्रॉफी में ऑस्‍ट्रेलिया की टीम इस वक्‍त पूरी तरह से बैकफुट पर नजर आ रही है. टीम इंडिया ने पहले नागपुर और फिर दिल्‍ली टेस्‍ट में पैट कमिंस की कप्‍तानी वाली कंगारू टीम को चारों खाने चित कर दिया. ऐसे में अब बाकी बचे दो मैचों में भी ऑस्‍ट्रेलिया पर हार का खतरा मंडरा रहा है. इस बात की संभावना जताई जा रही है कि रोहित शर्मा एंड कंपनी ऑस्‍ट्रेलिया को 4-0 से क्‍लीन स्‍वीप भी कर सकती है. ऑस्‍ट्र‍ेलिया के महान क्रिकेटर ज्योफ लॉसन ने भारत में टीम के लचर प्रदर्शन के लिये कप्तान पैट कमिंस की स्पिन पिचों के बारे में कम जानकारी और सहायक कोच डेनियल विटोरी की अपर्याप्त सलाह को जिम्मेदार ठहराया.

भारत ने बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी के पहले दो टेस्ट तीन दिन के अंदर जीत लिये जिसमें रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा की स्पिन गेंदबाजी जोड़ी ने सबसे अहम भूमिका अदा की. ऑस्‍ट्र‍ेलिया ने नागपुर में पहला टेस्ट पारी और 132 रन से गंवा दिया था जबकि नयी दिल्ली में दूसरे मैच में भारत ने छह विकेट से जीत दर्ज की.

1980 के दशक में टेस्ट और वनडे में ऑस्‍ट्र‍ेलिया के सबसे खतरनाक गेंदबाजों में से एक लॉसन ने कहा कि कमिंस ने शेफील्ड शील्ड क्रिकेट के इतने कम मैच खेले हैं जिससे कप्तान को टर्निंग पिच पर रणनीति बनाने का ज्यादा अनुभव नहीं है. लॉसन ने ‘सेन रेडियो’ से कहा, ‘‘कमिंस के पास स्पिन लेती पिचों पर कप्तानी का इतना कम अनुभव है क्योंकि आपके कप्तान ने शेफील्ड शील्ड में काफी कम मैच खेले हैं और वह निश्चित रूप से स्पिन लेती विकेटों पर नहीं खेलता. तो वह सारी रचनात्मक और अनुकूल होने वाली चीजें कहां से सीखता है, इसके लिये वह काफी वीडियो देखता है और फैसले करता है.’’

बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी बरकरार रखने के बाद भारत एक मार्च से इंदौर में शुरू होने वाले तीसरे टेस्ट में जीत हासिल करने की कोशिश करेगा ताकि वह विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल में स्थान पक्का कर ले.

देश प्रेम पर भारी नोट प्रेम! WC फाइनल में हार-जीत के बीच झूल रही थी टीम…सचिन का साथी चौकों-छक्‍कों का लगा रहा था हिसाब

कभी नहीं झुके धाकड़ कप्‍तान के कॉलर…कहां से आया अजहरुद्दीन का ये स्टाइल…क्‍या आप जानते हैं इसकी वजह?

लॉसन ने कहा कि ऑस्‍ट्र‍ेलियाई गेंदबाजों के पास भारत के निचले क्रम के बल्लेबाज अक्षर पटेल और अश्विन के बीच साझेदारी को तोड़ने के लिये कोई रणनीति नहीं थी जिसके कारण मेजबानों ने दूसरे टेस्ट में मनोवैज्ञानिक बढ़त हासिल कर ली.

लॉसन ने न्यूजीलैंड के पूर्व स्पिनर और ऑस्‍ट्र‍ेलिया मे मौजूदा सहायक कोच विटोरी पर भी सवाल उठाये कि उन्होंने टीम के स्पिनरों को कोई सलाह नहीं दी.

उन्होंने कहा, ‘‘डेनियल विटोरी दुनिया के महान बायें हाथ के गेंदबाजों में शुमार है, उन्हें सलाह देनी चाहिए थी कि आपको कैसे गेंदबाजी करनी चाहिए और इस तरह की गेंदबाजी के खिलाफ हमें कैसे बल्लेबाजी करनी चाहिए. ’’

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन वह यह सब नहीं कर पाया क्योंकि जब मैंने ड्रेसिंग रूम के शॉट देखे तो मैंने सोचा कि इसमें विटोरी ने यहां क्या सलाह दी, वह धीमी गेंदबाजी का महान खिलाड़ी है, तो उन्हें सबसे ज्यादा सलाह देनी चाहिए थी.’’

(पीटीआई इनपुट के साथ)

Tags: Border Gavaskar Trophy, IND vs AUS, India vs Australia, Pat cummins

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें