भरत अरुण ने बताया, जब गेंदबाजों को चौके लगते हैं तो रवि शास्त्री ड्रेसिंग रूम से चिल्लाते हैं

IND vs AUS: गेंदबाजों पर चौके लगने से नफरत करते हैं रवि शास्त्री (PIC: AP)

भारतीय क्रिकेट टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण (Bharat Arun) ने हाल ही में खुलासा किया है कि टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ड्रेसिंग रूम के अंदर काफी गुस्सा हो गए थे, जब विरोधी बल्लेबाजों ने गेंदबाजों पर दबाव बनाया था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण (Bharat Arun) ने हाल ही में खुलासा किया है कि टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ड्रेसिंग रूम के अंदर काफी गुस्सा हो गए थे, जब विरोधी बल्लेबाजों ने गेंदबाजों पर दबाव बनाया था. कोच शास्त्री ने विराट कोहली (Virat Kohli) की कप्तानी वाली भारतीय टीम को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पहचान दिलाने में अहम भूमिका निभाई है. शास्त्री की कोचिंग में टीम इंडिया ने इस ऑस्ट्रेलियाई दौरे (India vs Australia) पर रिकॉर्ड सफलता हासिल की. शास्त्री के मार्गदर्शन में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर दूसरी बार प्रतिष्ठित बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी को अपने पास बरकरार रखा है.

    ऑस्ट्रेलिया के इस हाई-प्रोफाइल दौरे पर टीम इंडिया की गेंदबाजी रणनीति की योजना बनाने के लिए भारतीय मुख्य कोच ने भरत अरुण के साथ भूमिका निभाई थी. शास्त्री ने भारतीय गेंदबाजी कोच से कहा था कि वह ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी क्रम को ऑफसाइड खत्म करने पर काम करें. भारत के अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के साथ यूट्यूब चैनल पर भरत अरुण ने बातचीत में इस बात का खुलासा किया कि मैच के दौरान जब भी किसी भारतीय गेंदबाज की गेंद को ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज बाउंड्री तक पहुंचाता तो वह चिल्लाते थे और दो चौके लगने पर वह बहुत गुस्सा होते थे.

    नाथन लायन को गिफ्ट में दी जर्सी पर ऋषभ पंत ने दिया अजीब ऑटोग्राफ, जिसने देखा वो हंस-हंसकर लोटपोट!

    भरत अरुण 2014 से विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम का अहम हिस्सा हैं. उन्होंने कहा, ''रवि शास्त्री ड्रेसिंग रूम से मैच देख रहे थे, लेकिन उन्हें इस बात से सख्त नफरत थी, जब भारतीय गेंदबाजों को चौके या छक्के पड़ते थे. वह नहीं चाहते थे कि गेंदबाज रन दें. बस वह इतना चाहते थे.''

    उन्होंने आगे कहा, ''जब हम गेंदबाजी कर रहे थे, तब हमें विकेट लेते रहने चाहिए. और जब विरोधी टीम गेंदबाजी कर रही हो तो हमें रन बनाते रहने चाहिए. अगर कोई गेंदबाज जो बाउंड्री देता था तो वह उस पर चिल्लाएंगे. अगर कोई एक बाउंड्री देता था तो मुझे पता है कि मैं चिल्ला रहा था.'' आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप 2019 के खट्टे-मीठे अनुभव के बाद रवि शास्त्री को एक बार फिर से भारतीय क्रिकेट टीम का कोच नियुक्त किया गया था.

    हालांकि, भारत इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका दौरे पर जीतने पर नाकाम रहा. लेकिन विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम ऐसी पहली एशियाई टीम बनी, जिसने ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर कंगारुओं को लगातार दो बार सीरीज में मात दी. इसी के साथ लगातार दो बार प्रतिष्ठित बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी पर भी अपना कब्जा जमाया. 2020-21 से पहले विराट कोहली की कप्तानी में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में मात देकर बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी 2018-19 जीती थी.

    पुजारा ने की रोहित-गिल की तारीफ, बोले- इनकी वजह से खेल पाया अपना स्वाभाविक खेल

    बता दें कि इससे पहले विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे की कप्तानी के बारे में बात करते हुए भरत अरुण ने कहा था कि रहाणे शांत हैं और यही कारण है कि गेंदबाज गलती करने के बाद भी डरे हुए नहीं थे. हालांकि, कोहली के साथ यह पूरी तरह से उलट है. गेंदबाज दो खराब गेंद डालने के बाद सोचते हैं कि कोहली नाराज हो जाएंगे लेकिन वह नाराजगी उनकी मैदान पर अपने रुख के लिए होती है. विराट कोहली के अग्रेशन को भरत अरुण ने उनकी ऊर्जा बताया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.