पीएम बनने के सवाल पर बोले बांग्लादेशी कप्तान मुर्तजा - मारना चाहते हो क्या?

मशरफे मुर्ताजा क्रिकेट के साथ राजनीति में भी सक्रिय हैं (ap)
मशरफे मुर्ताजा क्रिकेट के साथ राजनीति में भी सक्रिय हैं (ap)

मशरफे मुर्तजा नवंबर 2018 में राजनीति में उतरे थे, अपने देश में संसद का सदस्य बनने वाले पहले एक्टिव क्रिकेटर हैं.

  • Share this:
बांग्लादेश के कप्तान मशरफे मुर्तजा क्रिकेट के अलावा राजनीति में भी सक्रिय हैं. पिछले साल दिसंबर में बांग्लादेश के आम चुनावों में उन्होंने सबसे बड़ी जीत हासिल की थी. हालांकि उनका मानना है कि वह आने वाले सालों में भी प्रधानमंत्री नहीं बनना चाहते क्योंकि वह मरना नहीं चाहते.

एजबेस्टन में भारत के खिलाफ हुए मैच से पहले प्रेस कॉफ्रेंस में उनसे पूछा गया कि भारत के खिलाफ मैच में टॉस की कितनी भूमिका रहने वाली हैं और साथ ही क्या आप आने वाले 10-15 सालों में खुद को बांग्लादेश के प्रधानमंत्री के तौर पर देखते हैं. मुर्तजा ने  हंस कर कहा, 'आप मुझे मरवाना चाहते हैं, मैं आने वाले समय में भी प्रधानमंत्री नहीं बनना चाहता हूं.' वहीं टॉस के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, 'मुझे नहीं पता कि टॉस की क्या भूमिका होगी, निजी तौर पर मुझे लगता है कि भारत की गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों ही काफी मजबूत हैं, इंग्लैंड के खिलाफ संघर्ष करने के बावजूद उन्होंने 306 रन बनाए थे जो बड़ा स्कोर होता है. ऐसे में उनके खिलाफ टॉस जीतने का बहुत ज्यादा फायदा नहीं होगा.'

कप्तान मशरफे मुर्तजा ने  बांग्लादेश के आम चुनावों में बड़ी जीत दर्ज की और अब वह सांसद बने. उन्होंने नरेल-2 सीट पर 96 फीसदी से ज्यादा वोट हासिल किए थे एकतरफा जीत अपने नाम की थी. वह अवामी लीग के हिस्सा हैं, इस पार्टी ने देश के आम चुनावों में तीसरी बार जीत हासिल की है. वह अपने देश में संसद का सदस्य बनने वाले पहले एक्टिव क्रिकेटर हैं.





मुर्तजा आधिकारिक तौर पर राजनीति में नवंबर में उतरे थे. उन्हें इस दौरान उनके नॉमिनेशन के लिए अवामी लीग ने पुष्टि की थी. मशरफे के अलावा नाइमुर रहमान, बांग्लादेश के पहले टेस्ट कप्तान और बीसीबी के प्रेसीडेंट नजमुल हसन भी मानिकगंज-1 और किशोरगंज-6 से अवामी लीग के लिए सीट जीत चुके थे.

मोहम्‍मद शमी पर पाकिस्‍तानी क्रिकेटर का विवादित बयान- वे मुस्लिम हैं, इंडियन है तो क्‍या

दिनेश कार्तिक टीम में देख बोले फैंस - बांग्लादेश को डाराने के लिए दिया है मौका
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज