IND VS ENG: इंग्लैंड हमारे स्पिनर्स के सामने असहाय, 40 में से 34 विकेट झटके

आर अश्विन सीरीज में सबसे ज्यादा 20 विकेट ले चुके हैं.

आर अश्विन सीरीज में सबसे ज्यादा 20 विकेट ले चुके हैं.

मोटेरा में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट का पहला दिन हमारे स्पिन गेंदबाजों के नाम रहा. उन्होंने इंग्लैंड के 10 में से 9 विकेट झटके. इंग्लिश टीम पहली पारी में सिर्फ 112 रन बना सकी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2021, 8:18 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. टीम इंडिया ने तीसरे टेस्ट (India vs England) में स्थिति मजबूत कर ली है. पिंक बॉल (Pink Ball) से खेले जा रहे मोटेरा टेस्ट (Motera Test) की पहली पारी में इंग्लिश टीम सिर्फ 112 रन बनाकर आउट हो गई. इंग्लैंड के 10 में से 9 विकेट हमारे स्पिनर्स ने झटके. बाएं हाथ के स्पिनर अक्षर पटेल ने छह विकेट लिए. उन्हाेंने लगातार दूसरी पारी में पांच विकेट लेने का कारनामा किया. ऑफ स्पिनर आर अश्विन को भी तीन विकेट मिले. वे सीरीज में अब तक सबसे ज्यादा 20 विकेट ले चुके हैं. इंग्लैंड के 112 रन के जवाब में टीम इंडिया ने पहले दिन तीन विकेट पर 99 रन बना लिए थे.

टेस्ट सीरीज में यह पहली बार नहीं है जब हमारे स्पिन गेंदबाजों के सामने इंग्लिश बल्लेबाज असहाय नजर आए हैं. पहले टेस्ट की पहली पारी को छोड़े दें तो इंग्लिश टीम के अंतिम 40 में से 34 विकेट हमारे स्पिन गेंदबाजों ने ही झटके हैं. तीसरे टेस्ट की पिच को पढ़ने भी इंग्लिश टीम पूरी तरह से नाकाम रही. मैच में टीम चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरी जबकि बतौर स्पिन गेंदबाज सिर्फ जैक लिच को उतारा. लिच पहले तीन में से दो विकेट भी ले चुके हैं. वहीं टीम इंडिया तीन स्पिन गेंदबाज अक्षर, अश्विन और वाशिंगटन सुंदर के साथ उतरी है. हालांकि पिंक बॉल के साथ तेज गेंदबाजों के रिकॉर्ड अच्छे रहे हैं, लेकिन भारतीय पिच के रिकॉर्ड को देखें तो यहां स्पिनर्स हमेशा हावी रहे हैं. ओपनर जैक क्रॉले को छोड़कर कोई इंग्लिश बल्लेबाज 20 रन का आंकड़ा नहीं छू सका. यानी इंग्लिश बल्लबाजों ने हमारे स्पिन गेंदबाजों के सामने घुटने टेक दिए.

यह भी पढ़ें: IND VS ENG: पिंक बॉल के लिए हमारी पिच सबसे मददगार, हर बार पहले दिन गिरे 13 विकेट



अंतिम 4 पारी से हर 15 रन पर एक विकेट गिर रहा
इंग्लैंड ने चेन्नई की पहली पारी में 190.1 ओवर में 578 रन बनाए थे. यानी हर विकेट के लिए लगभग 58 रन बने. इस कारण टीम पहले टेस्ट जीतने में सफल रही. लेकिन अंतिम 4 पारियों को देखें तो टीम ने 209.2 ओवर में 588 रन बनाए और 40 विकेट खोए. यानी हर 15 रन पर एक विकेट गिर रहा है. यानी हर विकेट के रन बनाने में लगभग 75 फीसदी की कमी आई. इसका असर मैच के परिणाम पर भी दिख रहा है. टीम दूसरा टेस्ट 300 से अधिक रन से हारी और तीसरे टेस्ट में भी टीम नाजुक स्थिति में हैं. हालांकि इंग्लिश बल्लेबाज हमेशा से स्पिन गेंदबाजों के सामने अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज