IND vs ENG: पिच विवाद पर बोले विराट- हम न्यूजीलैंड में 3 दिन में हारे, पर यूं बहाना नहीं बनाया

चौथे टेस्ट में उमेश यादव को मौका दिया जा सकता है.

चौथे टेस्ट में उमेश यादव को मौका दिया जा सकता है.

India vs England: चौथे टेस्ट के पहले कप्तान विराट कोहली ने खराब फॉर्म से जूझ रहे चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे के अलावा मोटेरा की पिच का बचाव किया है. कोहली ने दोनों बल्लेबाजों को टेस्ट टीम का सबसे महत्वपूर्ण बल्लेबाज बताया.

  • Share this:
नई दिल्ली. कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) चौथे टेस्ट के पहले खराब फॉर्म से जूझ रहे खिलाड़ियों और मोटेरा की पिच का बचाव किया. मोटेरा (Motera Test) में गुरुवार से शुरू हो रहे चौथे टेस्ट (India vs England) से पहले कोहली ने कहा कि आज हम इसलिए सफल टीम हैं क्योंकि हम कहीं भी खेलें पिच के बारे में नहीं सोचते. मोटेरा की पिच पर सवाल उठाना गलत है.

विराट कोहली ने कहा, ‘2020 में न्यूजीलैंड के दौरे पर हम 3 दिन में टेस्ट हार गए थे, तब किसी ने कुछ नहीं बोला था. तीसरे दिन सिर्फ 36 ओवर का खेला हुआ था. लोग कह रहे थे हमारे बल्लेबाजों ने बेकार खेला और अब पिच पर सवाल उठा रहे हैं.’ उन्होंने कहा कि तीसरे टेस्ट में भारत और इंग्लैंड दोनों गेंदबाजों का सामना करने में नाकाम रहे. हमारा फोकस पिच पर नहीं, खुद को मजबूत करने पर होना चाहिए. विराट कोहली ने कहा, ‘स्पिनरों को मदद देने वाली पिच को लेकर विपक्षी बहुत कुछ कह रहे हैं. हमारी मीडिया को उन्हें जवाब देना चाहिए. उन्हें बताना चाहिए कि भारतीय महाद्वीप में ऐसी ही पिचें मिलती हैं.’

उन्हाेंने कहा कि चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar pujara) और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) टेस्ट टीम के सबसे दो महत्वपूर्ण बल्लेबाजों में से एक हैं. पुजारा को पता है कि उन्हें क्या करना है. इसके पहले देश के बाहर खराब प्रदर्शन पर उनकी आलोचना हो रही है और अब घर में कुछ खराब पारी के बाद उनकी आलोचना की जा रही है. पुजारा मौजूदा सीरीज के 3 मैच में 23 की औसत से 116 रन बनाए हैं और सिर्फ एक अर्धशतक लगा सके हैं. जबकि रहाणे ने 17 की औसत से 85 रन बनाए हैं. वे भी एक ही अर्धशतक लगा सके हैं.



यह भी पढ़ें: IND VS ENG: इंग्लैंड का चिर प्रतिद्वंदी भी भारत को हारते देखना चाहता है, वजह है खास
विराट कोहली ने कहा कि रोटेशन पॉलिसी का इस्तेमाल होना ही चाहिए. हम सब इंसान हैं और हमें ब्रेक की जरूरत पड़ती है. अब जब खिलाड़ियों को बायो-बबल में रहना पड़ रहा है, तो इसका असर मानसिक स्थिति पर भी पड़ रहा है। मानसिक स्थिति का ध्यान रखना इन दिनों सबसे बड़ी बात है. कुलदीप को लेकर कप्तान ने कहा कि वे फिलहाल अपने करिअर के बेस्ट फॉर्म में हैं. लेकिन सही कॉम्बिनेशन की वजह से हम उन्हें टीम में शामिल नहीं कर पा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज