IND VS ENG: पीएम मोदी के नाम पर होगा दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम मोटेरा, जानिए इसकी खूबियां

IND vs ENG: अहमदाबाद के नव सज्जित सरदार पटेल स्टेडियम का नाम अब नरेंद्र मोदी स्टेडियम होगा (BCCI/Twitter)

IND vs ENG: अहमदाबाद के नव सज्जित सरदार पटेल स्टेडियम का नाम अब नरेंद्र मोदी स्टेडियम होगा (BCCI/Twitter)

IND vs ENG: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को नए सिरे से तैयार किए गए मोटेरा स्टेडियम का उद्घाटन किया, जो दुनिया का सबसे बड़ा और अत्याधुनिक क्रिकेट स्टेडियम है. इस स्टेडियम का नाम अब नरेंद्र मोदी स्टेडियम कर दिया गया है, जिसमें एक लाख 32 हजार दर्शक बैठ सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 3:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अहमदाबाद में बने दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम मोटेरा (Motera Stadium) का बुधवार (24 फरवरी) को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने औपचारिक उद्घाटन किया. इस स्टेडियम का नाम अब नरेंद्र मोदी स्टेडियम (Narendra Modi Stadium) होगा. इसी स्टेडियम में भारत और इंग्लैंड (India vs Engaland) के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज का तीसरा मुकाबला बुधवार दोपहर 2.30 बजे से खेला जाएगा. यह भारत में होने वाला दूसरा पिंक बॉल टेस्ट (Pink Ball Test) है. यह दुनिया का सबसे बड़ा और अत्याधुनिक क्रिकेट स्टेडियम है, जिसमें एक लाख 32 हजार दर्शक बैठ सकते हैं. इस स्टेडियम की खूबियां जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे.

राष्ट्रपति ने गृहमंत्री अमित शाह और खेलमंत्री किरेन रिजिजू समेत कई विशिष्ट अतिथियों की मौजूदगी में स्टेडियम का उद्घाटन किया. करीब 63 एकड़ से अधिक परिसर में फैले इस स्टेडियम की दर्शक क्षमता एक लाख 32 हजार है और इस पर 800 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं. इससे पहले मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड सबसे बड़ा स्टेडियम था, जिसकी दर्शक क्षमता 90000 है. प्रेस सूचना ब्यूरो द्वारा जारी सूचना में कहा गया, 'यह ओलंपिक आकार के 32 फुटबॉल स्टेडियमों के बराबर का है.'

IND vs ENG 3rd Test: इशांत, अश्विन, कोहली और बुमराह मोटेरा टेस्ट में बनाएंगे ये 4 रिकॉर्ड

IND vs ENG: मोटेरा में डे-नाइट टेस्ट आज, जानें पिच, प्लेइंगXI और मौसम का हाल
कई गौरवशाली पलों का साक्षी रहा यह मैदान

इस मैदान को 2015 में नवीनीकरण के लिए बंद कर दिया गया था. यह क्रिकेट इतिहास के कई गौरवशाली पलों का साक्षी रहा है. इसमें सुनील गावस्कर का 1987 में 10000 टेस्ट रन पूरे करना और कपिल देव का 432 टेस्ट विकेट लेकर 1994 में सर रिचर्ड हेडली का रिकॉर्ड तोड़ते हुए सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने वाला गेंदबाज बनना शामिल है. एमसीजी का डिजाइन बनाने वाली ऑस्ट्रेलियाई आर्किटेक्ट फर्म पोपुलस समेत कई विशेषज्ञ इसके निर्माण में शामिल थे.

अहमदाबाद मोटेरा स्टेडियम उद्घाटन




खेल मंत्री से लेकर क्रिकेटरों ने की स्टेडियम की तारीफ

खेल मंत्री ने उद्घाटन के मौके पर कहा, 'हम बचपन में भारत में सबसे बड़े स्टेडियम का सपना देखते थे और अब बतौर खेलमंत्री इसे पूरा होते देखकर मेरी खुशी का ठिकाना नहीं है.' पिछले कुछ दिनों से यहां अभ्यास कर रहे भारत और इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने भी इस मैदान की जमकर प्रशंसा की है. यह ऐसा अकेला क्रिकेट स्टेडियम है जिसमें चार ड्रेसिंग रूम हैं. इसके अलावा क्रिकेट अकादमी, इंडोर अभ्यास पिचें और दो अलग अभ्यास मैदान हैं.

ड्रेसिंग रूम से मैदान तक आने के लिए उतरनी पड़ती हैं 80 सीढ़ियां

ये स्टेडियम कितना बड़ा है. इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि एक बल्लेबाज को ड्रेसिंग रूम से मैदान तक पहुंचने के पहले 80 सीढ़ियां उतरनी पड़ती हैं. इतना ही नहीं. काफी लंबा चलने के बाद वो पिच पर पहुंचता है. 800 करोड़ की लागत से बने इस स्टेडियम में दो प्रैक्टिस ग्राउंड हैं. जिसमें कुल 9 पिच हैं. इसके अलावा मैदान पर लाल और काली मिट्टी से तैयार की गई अलग-अलग 11 पिच हैं.

अहमदाबाद मोटेरा स्टेडियम उद्घाटन


आउटफील्ड की घास को ऑस्ट्रेलिया से मंगवाया गया है

आउटफील्ड में जो बरमूडा घास लगाई गई है, जिसे ऑस्ट्रेलिया से मंगाया गया है. स्टेडियम के क्लब हाउस में 55 कमरे हैं. इसके अलावा थ्री डी मिनी थिएटर है. एक ओलिंपिक साइज का स्वीमिंग पूल, स्टीम और सॉना बाथ का इंतजाम भी किया है. इसके अलावा इंडोर स्पोर्ट्स के लिए स्क्वॉश कोर्ट भी बनाया गया है. खिलाड़ियों के लिए खास 4 ड्रेसिंग रूम तैयार किए गए हैं. जो सीधे जिम से जुड़े हैं. एक साथ चार ड्रेसिंग रूम वाला यह दुनिया का पहला स्टेडियम है. स्टेडियम में 76 एसी कॉरपोरेट बॉक्स भी हैं.

अहमदाबाद मोटेरा स्टेडियम उद्घाटन


स्टेडियम का डिजाइन पिलरलेस है

इस स्टेडियम की एक सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसका डिजाइन पिलर लैस है. मतलब इसके निर्माण में खंभों का इस्तेमाल नहीं किया गया है. इसी वजह से स्टेडियम के किसी भी हिस्से में बैठकर दर्शक मैच का पूरा मजा ले सकते हैं. पुराने स्टेडियम की फ्लड लाइट टावर की जगह नए बने स्टेडियम में एलईडी लाइट्स लगाई गई हैं, जिसकी परछाई नहीं रहती. मैदान का ड्रेनेज सिस्टम भी वर्ल्ड क्लास है. इसी वजह से बारिश के बाद आधे घंटे के भीतर स्टेडियम को मैच के लिए तैयार किया जा सकता है. स्टेडियम में 3 हजार कारों और 10 हजार टू व्हीलर की पार्किंग के लिए जगह है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज