लाइव टीवी

Ind vs Aus: भारत को हराने के लिए इस 'रोबोट' गेंदबाज को उतार सकता है ऑस्‍ट्रेलिया

News18Hindi
Updated: January 19, 2020, 8:01 AM IST
Ind vs Aus: भारत को हराने के लिए इस 'रोबोट' गेंदबाज को उतार सकता है ऑस्‍ट्रेलिया
ऑस्ट्रेलिया पिछली वनडे सीरीज 3-2 से जीता था

बेंगलुरु वनडे (Bengaluru ODI) में भारत-ऑस्‍ट्रेलिया (India-Australia) के बीच कड़ा संघर्ष देखने को मिल सकता है. यहां की पिच बल्‍लेबाजों की मददगार है तो बड़ा स्‍कोर देखने को मिल सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2020, 8:01 AM IST
  • Share this:
बेंगलुरु. भारत (India) और ऑस्‍ट्रेलिया (Australia) के बीच 3 मैचों की वनडे सीरीज का फैसला बेंगलुरु में होगा. दोनों टीमें सीरीज में 1-1 से बराबर है. मुंबई में ऑस्‍ट्रेलिया ने 10 विकेट से तो राजकोट में टीम इंडिया ने 36 रन से मैच अपने नाम किया था. बेंगलुरु में दोनों टीमों के बीच कड़ा संघर्ष देखने को मिल सकता है. यहां की पिच बल्‍लेबाजों की मददगार है तो बड़ा स्‍कोर देखने को मिल सकता है. इसी मैदान पर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने साल 2013 में अपना पहला दोहरा शतक लगाया था. ऐसे हालात को देखते हुए ऑस्‍ट्रेलियाई टीम बेंगलुरु वनडे में भारत को चौंकाने के लिए जोश हेजलवुड (Josh Hazlewood) को शामिल कर बड़ा दांव खेल सकती है.

पहले दो वनडे में ऑस्‍ट्रेलिया ने मिचेल स्‍टार्क, पैट कमिंस और केन रिचर्डसन की तिकड़ी पर भरोसा जताया, लेकिन बेंगलुरु की पिच पर भारतीय बल्‍लेबाजों पर दबाव बनाने के लिए ऑस्‍ट्रेलिया हेजलवुड को खिला सकती है.

josh hazlewood australia, india australia odi, ind vs aus odi, ind vs aus playing xi, जोश हेजलवुड ऑस्‍ट्रेलिया, इंडिया ऑस्‍ट्रेलिया वनडे, बेंगलुरु वनडे
जोश हेजलवुड की पहचान टेस्‍ट स्‍पेशलिस्‍ट की बन गई है.


कमिंस कर चुके हैं डॉट बॉल की बात

तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने कुछ ऐसा ही इशारा किया. उन्‍होंने शनिवार को कहा, 'हमारी योजना ज्‍यादा से ज्‍यादा खाली गेंद डालना है. कुछ विकेट लगातार 5-10 गेंदों पर रन नहीं बनने के बाद आए हैं और बल्‍लेबाज को लगता है कि दबाव बन रहा है. इन पिचों पर ज्‍यादा विकल्‍प नहीं होते. आप केवल धीमी गेंद डालकर ही लय को तोड़ सकते हैं लेकिन फिर भी यह विकेट दिलाने वाली गेंद नहीं है. इसलिए आप अच्‍छी गेंदबाजी की कोशिश करते हैं, दबाव बनाते हैं और बल्‍लेबाज के गलती करने की उम्‍मीद करते हैं.'

उन्‍होंने आगे कहा, 'खाली गेंद सोने की तरह है, यदि आप एक ओवर में 2-3 गेंद डॉट डाल देते हैं तो बाउंसर का इस्‍तेमाल करते हैं जो कि विकेट दिलाने वाली गेंद है. बैंगलोर में गेंद काफी बाहर जाती है लेकिन अब ज्‍यादा क्‍या कर सकते हैं. पिछले 2 सालों में यहां की पिच गेंदबाजों को भी मदद करने लगी है. हेजलवुड जैसे खिलाड़ी का बैंच पर होना हमारी गेंदबाजी की ताकत दिखाता है.'

2017 में नंबर 1 वनडे गेंदबाज थे हेजलवुडहेजलवुड जून 2017 में दुनिया के नंबर 1 वनडे गेंदबाज थे. लेकिन उसके बाद से उन्‍होंने ऑस्‍ट्रेलिया के लिए केवल 6 वनडे मुकाबले खेले हैं. वे आखिरी बार कंगारू टीम की ओर से वनडे में 14 महीने पहले खेले थे और उन्‍हें 2019 वर्ल्‍ड कप में भी नहीं चुना गया था. वे 50 ओवर के खेल में रन देने में काफी कंजूस हैं. 44 वनडे मैचों में उनकी इकनॉमी 4.73 की रही है. कमिंस ने जैसा कहा हेजलवुड उस तरह का दबाव बना सकते हैं. हालांकि उन्‍होंने भारत में अभी तक कोई वनडे नहीं खेला है. भारत-ऑस्‍ट्रेलिया के बीच बेंगलुरु में पिछले 2 मुकाबलों में रनों की बरसात हुई है. ऐसे में हेजलवुड को बाहर रखना काफी मुश्किल फैसला होगा.

josh hazlewood australia, india australia odi, ind vs aus odi, ind vs aus playing xi, जोश हेजलवुड ऑस्‍ट्रेलिया, इंडिया ऑस्‍ट्रेलिया वनडे, बेंगलुरु वनडे
जोश हेजलवुड आखिरी बार वनडे मैच 2018 में खेले थे.


लगातार एक लैंथ पर डालने की कला में माहिर है हेजलवुड
मिचेल स्‍टार्क बाएं हाथ के गेंदबाज है और डेथ ओवर्स में उनकी गेंदों को खेलना आसान नहीं है. कमिंस के पास रफ्तार के साथ कमाल की बाउंसर्स हैं जो बल्‍लेबाजों को बैकफुट पर धकेलती हैं. रिचर्डसन के पास स्‍लॉअर, कटर जैसे कई विकल्‍प हैं. हेजलवुड के पास रिचर्डसन जैसी विविधता नहीं है लेकिन वह सीम को हिट कर सकते हैं और परेशान करने वाली लंबाई पर गेंद डाल सकते हैं. वे ऐसा बिना थके किसी मशीन की तरह कर सकते हैं. वे ग्‍लेन मैक्‍ग्राथ की तरह एक लैंथ पर लगातार बॉल डालते हैं मानो कोई रोबोट गेंदबाजी कर रहा है. उनकी रफ्तार भी 140 किलोमीटर प्रतिघंटे के करीब है.

बिग बैश में किया प्रभावित
जोश हेजलवुड का हालिया रिकॉर्ड भी अच्‍छा रहा है. हैमस्ट्रिंग की चोट से वापस आने के बाद वे बिग बैश लीग में सिडनी सिक्‍सर्स के लिए 2 मैच खेले थे. इन दोनों मैचों में उन्‍होंने रन देने में काफी कंजूसी की और बल्‍लेबाजों को बांधकर रखा. उन्‍होंने टी20 लीग में न तो स्‍लॉअर गेंद फेंकी और न यॉर्कर डाली. वे लगातार लैंथ बॉल डालते रहे और उनकी इकनॉमी 5 रन प्रति ओवर से भी कम रही. इससे पहले वे इस लीग में आखिरी बार 2014 में खेले थे. वे आईपीएल में चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स के लिए खेलते नजर आएंगे. इससे उनके टी20 वर्ल्‍ड कप में खेलने की संभावना बढ़ सकती है.

टीम इंडिया से निकाले जाएंगे केदार जाधव, 2 साल बाद इस दिग्‍गज की होगी वापसी!

टीम इंडिया की बढ़ी मुश्किलें, रोहित-धवन का आखिरी वनडे में खेलना तय नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 19, 2020, 7:35 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर