होम /न्यूज /खेल /कहां गया भारत का ब्रेट ली! खूनी बाउंसर से फिरंगियों के छुड़ाए थे छक्के, खराब किस्मत ने बनाया गुमनाम बादशाह

कहां गया भारत का ब्रेट ली! खूनी बाउंसर से फिरंगियों के छुड़ाए थे छक्के, खराब किस्मत ने बनाया गुमनाम बादशाह

वरुन आरोन ने भारत के लिए आखिरी मैच 2015 में खेला था. (Varun Aaron Instagram)

वरुन आरोन ने भारत के लिए आखिरी मैच 2015 में खेला था. (Varun Aaron Instagram)

Varun Aaron: इंटरनेशनल टीम में जगह बनाने के लिए खिलाड़ियों की किस्मत का साथ बेहद मायने रखता है. कई खिलाड़ी जीतोड़ मेहनत ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

वरुण आरोन को काफी उतार-चढ़ाव देखने पड़े.
आरोन ने भारत के लिए आखिरी मैच 2015 में खेला था.

नई दिल्ली. टीम इंडिया में जगह बनाने के लिए खिलाड़ी जीतोड़ मेहनत करते हैं. कुछ टीम में अपनी जगह पक्की करते हैं, तो कई खिलाड़ियों को उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ता है. लेकिन टीम इंडिया में ऐसा एक खिलाड़ी भी आया था, जिसने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे. लेकिन अब वह सभी की आंखों से ओझल हो चुका है. उस खिलाड़ी की 150 किमी प्रति घंटे की तूफानी गेंदों ने सभी को दीवाना बना लिया था.

हम बात कर रहे हैं तेज गेंदबाज वरुण आरोन की, जो बवंडर की तरह आकर क्रिकेट से गायब हो चुके हैं. इस गेंदबाज ने 2011 में विजय हजारे ट्रॉफी में 153 km/h से गेंद फेंकी और सेलेक्टर्स का नाम अपनी तरफ खींच लिया. उसी साल एमएस धोनी की कप्तानी में उन्होंने अपना डेब्यू किया. वनडे डेब्यू उनके लिए शानदार था क्योंकि इस गेंदबाज ने करियर के शुरुआती 6 विकेट बैटर्स को बोल्ड करके लिए थे. असली तूफान तब आया जब वह इंग्लैंड दौरे पर गए.

इंग्लैंड में दिखी खूनी बाउंसर

2014 में इंग्लैंड दौरे पर आरोन ने इंग्लैंड के स्टुअर्ट ब्रॉड को एक खतरनाक बाउंसर मारी. वह ब्रॉड की नाक पर लगी और वह मैदान से बाहर गए. इस गेंद से ब्रॉड के करियर में बड़ा प्रभाव पड़ा और कभी खुलकर बैटिंग नहीं कर सके. उन्होंने कहा था कि वह इस गेंद के बाद अपना आत्मविश्वास खो चुके हैं. वहीं, दूसरी तरफ इस बाउंसर के बाद आरोन को भविष्य के रूप में देखा जा रहा था.

ट्रिपल सेंचुरियन हो गया भूला-भटका सितारा, 4 पारी में करियर बर्बाद, अब राहुल को क्यों झेल रहा बीसीसीआई?

चोटों ने खत्म कर दिया करियर

इस खिलाड़ी को 2008 में रणजी खेलने के दौरान पीठ में दो स्ट्रेच फ्रैक्चर हुए. वह काफी दिन तक क्रिकेट से दूर रहे. उसके बाद 2011-12 में भी पीठ की चोट के कारण 2 साल का ब्रेक दिया गया. 2014 के बाद उनके पैर की चोट ने टेस्ट करियर ही खत्म कर दिया था. वह आखिरी बार भारत के लिए 2015 में खेले थे. उन्होंने अपने करियर में भारत के लिए 9 वनडे और 9 टेस्ट खेले जिसमें उन्होंने 11 और 18 विकेट झटके. 2022 में उन्हें आईपीएल की नई फ्रेंचाइजी गुजरात टाइटंस ने अपने खेमें में शामिल किया था.

Tags: BCCI, Indian Cricket Team, Team india

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें