अपना शहर चुनें

States

Ind vs Aus: ऑस्ट्रेलियाई कोच ने कहा-कंगारू टीम बदतमीजी नहीं करेगी लेकिन चुप भी नहीं बैठेंगे!

जस्टिन लैंगर बोले-कंगारू टीम करेगी छींटाकशी (साभार- आईसीसी)
जस्टिन लैंगर बोले-कंगारू टीम करेगी छींटाकशी (साभार- आईसीसी)

ऑस्ट्रेलियाई हेड कोच जस्टिन लैंगर (Justin Langer) ने कहा कि उनकी टीम भारत के खिलाफ छींटाकशी से पीछे नहीं हटेगी

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2020, 5:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कोच जस्टिन लैंगर (Justin Langer) ने बुधवार को कहा कि उनकी टीम आगामी श्रृंखला में जब भारत के खिलाफ उतरेगी तो दुर्व्यवहार के लिए कोई जगह नहीं होगी लेकिन दो टक्कर की टीमों के बीच उन्हें काफी छींटाकशी की उम्मीद है. खुद आक्रामक खिलाड़ी रहे लैंगर ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने मैदान के अंदर और बाहर बर्ताव पर काफी बात की है. किसी भी हाल में जीत दर्ज करने की अपने खिलाड़ियों की मानसिकता के लिए अतीत में ऑस्ट्रेलिया को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा है जिसके कारण टीम के रवैये और नैतिकता का पूरा विश्लेषण भी हुआ था.

'स्लेजिंग नहीं खिलाड़ियों का कद देखकर नर्वस होते हैं विरोधी'
लैंगर ने शुक्रवार को पहले वनडे के साथ शुरू हो रही एकदिवसीय श्रृंखला से पहले कहा, 'लोग कहते हैं कि ऑस्ट्रेलिया में आप नर्वस हो जाते हैं, मुझे यकीन नहीं कि वे मैदान पर बातचीत के संदर्भ में कह रहे हैं. ऐसा इसलिए है कि वे कुछ बेहद बेहद शानदार खिलाड़ियों के खिलाफ खेल रहे हैं.' उन्होंने कहा, 'अगर आप वार्नी (शेन वार्न), ग्लेन मैकग्रा का सामना कर रहे हैं या स्टीव वॉ, एडम गिलक्रिस्ट या रिकी पोंटिंग को गेंदबाजी कर रहे हैं तो मैदान पर बोले जाने वाले कुछ शब्दों से अधिक यह आपको नर्वस करेगा.'

IND VS AUS: इशांत और रोहित शर्मा के लिए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया बदलेगा नियम!
लैंगर ने कहा, 'पिछले कुछ साल में हमने मैदान के अंदर और बाहर अपने बर्ताव पर चर्चा की है और हमने बात की है कि दुर्व्यवहार के लिए कोई जगह नहीं है. छींटाकशी के लिए काफी जगह है और यह प्रतिस्पर्धी रवैया है.' लैंगर ने कहा कि अगामी श्रृंखला में खेलने वाले दिग्गज खिलाड़ियों को देखते हुए काफी प्रतिस्पर्धी ऊर्जा होगी. उन्होंने कहा, 'कप्तान टिम पेन काफी मजाकिया है, विराट कोहली जो कर रहा है वह हमें पसंद है. आखिर में मैं वादा कर सकता हूं कि मैदान पर बोले जाने वाले शब्दों का दबाव से कुछ लेना देना नहीं है, यह इस पर निर्भर करता है कि आप किसके खिलाफ खेल रहे हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज