अपना शहर चुनें

States

IND vs AUS: भारत के खिलाफ सीरीज से बाहर हुए चोटिल वॉर्नर तो राहुल ने कहा- हमारी टीम के लिए अच्‍छा होगा

डेविड वॉर्नर फील्डिंग करते वक्त चोटिल हो गए थे (फोटो क्रेडिट: cricketcomau Twitter)
डेविड वॉर्नर फील्डिंग करते वक्त चोटिल हो गए थे (फोटो क्रेडिट: cricketcomau Twitter)

भारत के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में फील्डिंग के दौरान डेविड वॉर्नर (David Warner) चोटिल हो गए थे, जिसके बाद उन्‍हें हॉस्पिटल ले जाया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2020, 11:02 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. मेजबान ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ भारतीय टीम 3 वनडे मैचों की सीरीज पहले ही हार चुकी है और अब आखिरी वनडे मैच में उनके पास सिर्फ सम्‍मान बचाने का मौका है. सिडनी में खेले गए शुरुआती दोनों वनडे मैचों में ऑस्‍ट्रेलिया के शीर्ष क्रम के बल्‍लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों की जमकर धुनाई की. पहले मैच में डेविड वॉर्नर (David Warner) और एरोन फिंच ने 156 और दूसरे मैच में इस जोड़ी ने 142 रन की साझेदारी की. स्‍टीव स्मिथ ने दोनों में शतक जड़े. दूसरे मैच में मार्नस लाबुशेन और ग्‍लेन मैक्‍सवेल ने भी फिफ्टी लगाई.
ऑस्‍ट्रेलियाई बल्‍लेबाज शानदार फॉर्म में चल रहे हैं और यह सब उनकी ओपनिंग जोड़ी की बदौलत है, जिन्‍होंने दोनों मैचों में दमदार शुरुआत देकर टीम का उत्‍साह बढ़ाया. मगर तीसरे मैच से पहले ऑस्‍ट्रेलिया को बड़ा झटका लग गया है. दरअसल वॉर्नर भारत के खिलाफ आखिरी वनडे के अलावा टी-20 सीरीज से भी बाहर हो गए हैं. दूसरे वनडे में फील्डिंग करते समय वह घायल हो गए थे. जिसके बाद उन्हें स्कैन के लिए हॉस्पिटल ले जाया गया था.

किसी के साथ न हो ऐसा
वॉर्नर के बाहर होने पर भारतीय विकेटकीपर बल्‍लेबाज केएल राहुल ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा कि हम नहीं जानते हैं कि कितने लंबे समय के लिए वॉर्नर बाहर होंगे. मैं नहीं चाहूंगा कि किसी के साथ भी ऐसा हो, लेकिन यदि वह लंबे समय के लिए बाहर रहे तो यह हमारी टीम के लिए अच्‍छा होगा.
 यह भी पढ़ें: 



IND Vs AUS: IPL के ज़ीरो, ऑस्ट्रेलिया में बने हीरो! शतक, विकेट और चौके-छक्के की कर दी बारिश

INDvsAUS: विराट कोहली ने धोनी को छोड़ा पीछे, कप्तानों के इस खास क्लब में हुए शामिल
उपकप्‍तान राहुल ने खराब लय से जूझ रहे भारतीय गेंदबाजों का समर्थन करते हुए कहा कि गेंदबाजों ने अभी तक परिस्थितियों के अनुकूल ढलने में कठिनाईयों का सामना किया है और यह हैरानी वाली बात नहीं है कि बल्लेबाजों के मुफीद ऑस्ट्रेलियाई ट्रैक पर विकेट मुश्किल ही रहेगा. उन्‍होंने कहा कि हमारे लिए यह सीखने की चीज है कि हम इस पर सोंचे कि जब इस तरह के बल्‍लेबाजी विकेट पर खेलने उतरें तो कैसे बेहतर करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज