IND VS AUS: शर्मनाक हार के बाद रवि शास्त्री हुए ट्रोल, फैंस बोले-द्रविड़ बनें कोच

एडिलेड में टीम इंडिया की हार के बाद हेड कोच रवि शास्त्री ट्रोल. फोटो- (Ravi Shastri/Twitter)

एडिलेड में टीम इंडिया की हार के बाद हेड कोच रवि शास्त्री ट्रोल. फोटो- (Ravi Shastri/Twitter)

टीम इंडिया की हार के बाद हेड कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) पर सवाल उठ रहे हैं. भारतीय टीम दूसरी पारी में महज 36 रनों पर सिमट गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2020, 8:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट के लिये शनिवार का दिन शर्मसार करने वाला रहा जब उसकी टीम ने टेस्ट मैचों में अपना न्यूनतम स्कोर 36 रन बनाया और ऑस्ट्रेलिया ने दूधिया रोशनी में खेला जा रहा पहला टेस्ट क्रिकेट मैच तीसरे दिन ही आठ विकेट से जीतकर चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 1-0 से बढ़त हासिल की. पिच में कोई खराबी नहीं थी लेकिन जोश हेजलवुड (पांच ओवर में आठ रन देकर पांच विकेट) और पैट कमिन्स (10.2 ओवर में 21 रन देकर चार विकेट) ने अपनी बेहतरीन गेंदबाजी से भारतीय पारी को तहस नहस कर दिया. भारत के इस शर्मनाक प्रदर्शन के बाद हमेशा की तरह एक बार फिर हेड कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) पर सवाल उठ रहे हैं.

रवि शास्त्री बुरी तरह ट्रोल

टीम इंडिया की हार के बाद फैंस ने रवि शास्त्री को बुरी तरह ट्रोल कर दिया. कई फैंस ने शास्त्री को ग्रेग चैपल के बाद सबसे खराब कोच बता दिया. वहीं एक फैन ने तो उन्हें वापस कमेंट्री करने की सलाह ही दे डाली. कुछ फैंस ने टीम इंडिया को राहुल द्रविड़ के हाथ सौंपने की बात कह दी.


भारतीय टेस्ट इतिहास का सबसे कम स्कोर

बता दें भारतीय टीम ने अपनी दूसरी पारी में जब नौ विकेट पर 36 रन बनाये थे तब मोहम्मद शमी को चोटिल होने के कारण क्रीज छोड़नी पड़ी जिससे पारी वहीं पर समाप्त हो गयी. भारत का यह 88 वर्षों के टेस्ट इतिहास में न्यूनतम स्कोर है. भारत का इससे पहले न्यूनतम स्कोर 42 रन था जो उसने 1974 में इंग्लैंड के खिलाफ लार्ड्स में बनाया था. टेस्ट क्रिकेट में न्यूनतम स्कोर का रिकार्ड न्यूजीलैंड के नाम पर है जिसने 1955 में इंग्लैंड के खिलाफ आकलैंड में 26 रन बनाये थे. विराट कोहली की टीम का स्कोर टेस्ट क्रिकेट में संयुक्त पांचवां न्यूनतम स्कोर है.

IND VS AUS: माइकल वॉन ने किया टीम इंडिया को ट्रोल, कहा-टेस्ट सीरीज में रौंदा जाएगा



भारत को पहली पारी में 55 रन की बढ़त मिली थी और इस तरह से ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिये 90 रन का लक्ष्य मिला. शमी चोटिल होने के कारण गेंदबाजी नहीं कर पाये और ऑस्ट्रेलिया ने आसानी से 21 ओवर में दो विकेट पर 93 रन बनाकर डे-नाइट टेस्ट मैचों में अपना शानदार रिकॉर्ड बरकरार रखा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज