होम /न्यूज /खेल /तेरे लिए मेरा एक हाथ काफी है, सचिन तेंदुलकर ने दी धमकी, ओपनर की सिट्टी पिट्टी हो गई थी गुम

तेरे लिए मेरा एक हाथ काफी है, सचिन तेंदुलकर ने दी धमकी, ओपनर की सिट्टी पिट्टी हो गई थी गुम

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सचिन ने खेली थी बेहतरीन पारी. (AFP)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सचिन ने खेली थी बेहतरीन पारी. (AFP)

भारत और ऑस्ट्रेलिया (India vs Australia) के बीच 2007-08 की टेस्‍ट सीरीज के दौरान एक लम्हा ऐसा आया था, जब तनाव चरम पर पह ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

ऑस्ट्रेलिया को फाइनल में हराकर भारत ने जीती थी सीबी सीरीज
बेस्ट ऑफ थ्री के 2 मैचों में सचिन ने की थी जोरदार बैटिंग

नई दिल्‍ली. बात 2007-08 की है. टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर थी. टेस्‍ट सीरीज में हुए ‘मंकीगेट’ मामले (Monkeygate Scandal) की वजह से पारा बेहद ऊपर जा चुका था. रही सही कसर सिडनी टेस्‍ट में खराब अंपायरिंग ने पूरी कर दी. भारत ये टेस्ट आखिरी सेशन में हार गया था. तनातनी घटने की बजाए और बढ़ गई. टेस्‍ट मैचों के बाद सीबी सीरीज खेली जानी थी. इसमें भारत और ऑस्ट्रेलिया के अलावा तीसरी टीम थी श्रीलंका.

सीबी सीरीज का फाइनल बेस्ट ऑफ थ्री के फॉर्मेट पर होना था. मतलब, 3 में से 2 मैच जीतने वाली टीम चैंपियन बनेगी. श्रीलंका को हरा भारत और ऑस्ट्रेलिया की टीमें फाइनल में पहुंचीं. बेस्ट ऑफ थ्री की शुरुआत से पहले ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर के हवाले से खबर आई कि कंगारू टीम पहले दोनों वनडे जीतकर टीम इंडिया को खाली हाथ फ्लाइट में बिठाएगी. ये बात भारतीय टीम के खिलाडि़यों के कानों तक भी पहुंच गई. सिडनी टेस्‍ट का बदला भी लेना था. जी जान लड़ा देने की तैयारी थी.

कंगारुओं को दी जोरदार पटखनी
बेस्ट ऑफ थ्री का पहला फाइनल सिडनी में ही होना था. ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए 239 रन बनाए. सचिन तेंदुलकर के साथ रॉबिन उथप्पा ओपनिंग करने उतरे, क्‍योंकि वीरेंद्र सहवाग को प्‍लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किया गया था. सचिन और उथप्‍पा ने पहले विकेट के लिए 50 रन की साझेदारी की. हालांकि, इसके बाद टीम इंडिया को जल्‍दी-जल्‍दी तीन झटके लगे. रॉबिन उथप्पा, गौतम गंभीर और युवराज सिंह पवेलियन लौट चुके थे. ब्रेट ली और मिचेल जॉनसन ने दबाव बनाने की कोशिश की, लेकिन सचिन तेंदुलकर विकेट पर डटे रहे. ‘मैन ऑफ द मैच’ सचिन ने नाबाद 117 रन की पारी खेल भारत को जीत दिला दी.

सचिन से भी बड़ा ‘दर्द’ झेलने वाला क्रिकेटर, 98 पर था नाबाद, तभी बेदर्द कप्तान ने कर दी पारी घोषित

दूसरा फाइनल ब्रिसबेन में हुआ, जहां टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग की. वीरेंद्र सहवाग को टीम में फ‍िर जगह नहीं मिली और सचिन-उथप्‍पा की जोड़ी ओपनिंग करने उतरी. सचिन ने कंधे में दर्द के बावजूद जबरदस्‍त बैटिंग करते हुए 91 रन बनाए. ऑस्ट्रेलिया को मैच जीतने के लिए 259 रन का लक्ष्‍य मिला. भारत के तेज गेंदबाजों ने ताबूत में आखिरी कील ठोकी और कंगारू 9 रन से मैच हार गए. टीम इंडिया ऐतिहासिक जीत दर्ज कर चुकी थी.

केएल राहुल की बहस के बीच शिखर धवन का छलका दर्द! क्या टेस्ट क्रिकेट से लेने वाले हैं संन्यास?

स्‍टेडियम में अकेले पहुंचे तेंदुलकर
पुरस्‍कार समारोह के बाद दोनों टीमों के खिलाड़ी ड्रेसिंग रूम में थे. अचानक सचिन तेंदुलकर अकेले स्‍टेडियम में नजर आए. उन्‍हें देखकर मीडिया भी वहां पहुंच गई. ऐसा लग रहा था कि सचिन इस जीत को जीना चाह रहे थे. काफी देर तक फोटो सेशन चलता रहा. इसी दौरान टीम इंडिया के खिलाड़ी बस की तरफ जाने लगे. वीरेंद्र सहवाग जब सचिन के पास से गुजरे तो उन्‍होंने मजाक में कहा कि पाजी अब यहीं रहने का इरादा है क्‍या? एक कंधा तो टूट चुका है, दूसरा भी तुड़वाना है? सचिन ने जवाब दिया, वीरू तेरे लिए मेरा एक कंधा ही काफी है. सचिन के बात सुन सहवाग की सिट्टी पिट्टी गुम हो गई. वीरू ने फौरन पूछा, क्‍या कह रहे हैं? सचिन ने दोबारा कहा, तेरी पिटाई के लिए मेरा एक कंधा ही काफी है. यह कहने के साथ सचिन मुस्‍करा दिए और सहवाग भी मास्‍टर ब्‍लास्‍टर के मजाक को समझ चुके थे.

Tags: India vs Australia, Sachin tendulkar, Team india, Virendra sahwag

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें