लाइव टीवी
Elec-widget

विराट कोहली का बड़ा बयान, टेस्ट क्रिकेट में रोमांच पैदा करना सिर्फ खिला‌ड़ियों का काम नहीं

भाषा
Updated: November 24, 2019, 9:51 PM IST
विराट कोहली का बड़ा बयान, टेस्ट क्रिकेट में रोमांच पैदा करना सिर्फ खिला‌ड़ियों का काम नहीं
डे नाइट टेस्ट मैच देखने स्टेडियम करीब 50 हजार लोग पहुंचे थे

विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा कि अगर टेस्ट क्रिकेट में पूरा रोमांच पैदा किया जाता है तो फिर स्टेडियम में आते हुए अधिक मजा आएगा.

  • Share this:
कोलकाता. भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने रविवार को सुझाव दिया कि वनडे और टी20 अंतरराष्ट्रीय की तरह आकर्षक मार्केटिंग से टेस्ट क्रिकेट को लेकर रोमांच पैदा करना जरूरी है, जिससे कि पारंपरिक फॉर्मेट के प्रति फैंस की स्थापित मानसिकता को बदला जा सके.


गुलाबी गेंद से खेले गए टेस्ट के प्रति जोरदार प्रतिक्रिया देते हुए करीब 50 हजार दर्शक भारतीय सरजमीं पर हुए पहले दिन-रात्रि टेस्ट (Day Night Test) को देखने पहुंचे. कोहली ने कहा कि मुझे लगता है कि टेस्ट क्रिकेट की मार्केटिंग बेहद महत्वपूर्ण है जैसे कि हम वनडे और टी20 अंतरराष्ट्रीय की करते हैं. यह सिर्फ खिलाड़ियों का काम नहीं है, लेकिन प्रबंधन, क्रिकेट बोर्ड और घरेलू प्रसारण भी इससे जुड़ा है कि लोगों को कोई विशेष प्रोडक्ट (श्रृंखला) कैसे दिखाया जाए.




india vs bangladesh, virat kohli, pink ball, day night, cricket, भारत बनाम बांग्लादेश, पिंक बॉल, क्रिकेट, विराट कोहली,
विराट कोहली ने कहा कि स्कूली बच्चों को लंच के दौरान टीम इंडिया से बातचीत का मौका दिया जा सकता है.


पहले ही बन जाती है फैंस की मानसिकता
विराट ने कहा कि अगर आप सिर्फ टी20 क्रिकेट के प्रति रोमांच पैदा करते हो और टेस्ट क्रिकेट को लेकर नहीं तो फिर फैंस की मानसिकता पहले ही तय हो जाती है. कोहली ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट को मजबूत करने की जरूरत है और उन्होंने प्रशंसकों विशेषकर स्कूली बच्चों से मैच के दौरान बातचीत का सुझाव दिया.
उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि अगर टेस्ट क्रिकेट के प्रति पर्याप्त रोमांच पैदा किया जाता है तो फिर स्टेडियम में आते हुए अधिक उत्सुकता होगी. जैसा कि विदेशों में होता है. स्कूली बच्चों को लंच के दौरान टीम इंडिया से बातचीत का मौका दिया जा सकता है.
Loading...

सचिन तेंदुलकर ने बदलाव के दिए थे सुझाव 
गुलाबी गेंद (Pink Ball) का सामना करने में बल्लेबाजों को परेशानी का सामना करना पड़ा लेकिन कोहली क्रीज पर लय में दिखे. कप्तान ने खुलासा किया कि मैच की पूर्व संध्या पर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने उन्हें कुछ बदलाव करने का सुझाव दिया था. कोहली ने कहा कि उन्होंने काफी रोचक पक्ष रखा कि गुलाबी गेंद से संभवत आपको दूसरे सत्र को सुबह के सत्र की तरह देखना होगा, जब अंधेरा घिर रहा होगा और गेंद स्विंग और सीम करना शुरू करेगी.




india vs bangladesh, virat kohli, pink ball, day night, cricket
विराट कोहली पिंक बॉल टेस्ट में शतक लगाने वाले पहले भारतीय हैं

इसलिए पहले सत्र में आपको लंच और चाय के बीच के सत्र की तरह खेलना होगा जो सामान्य है.
उन्होंने कहा कि अंतिम सत्र शाम के सत्र की तरह है. इसलिए आपकी रणनीति बदल जाती है, आपको पता है कब पारी घोषित करनी है, एक बल्लेबाज के रूप में सब कुछ बदल जाता है. इसलिए अगर आप टिके हुए हैं और अच्छी बल्लेबाजी कर रहे हैं तो भी जैसे ही अंधेरा घिरेगा और लाइट जलेंगी, आप काफी जल्दी मुश्किल में घिर सकते हो.


IND vs BAN: इशांत शर्मा और उमेश यादव का कमाल, दोहराया 38 साल पुराना इतिहास


शिवम दुबे ने लगाई छक्‍कों की झड़ी, बेहाल हुए धोनी की टीम के गेंदबाज



News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 24, 2019, 9:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...