लाइव टीवी

बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट मैच से पहले BCCI के सामने आई ये 'गुलाबी' चुनौती!

News18Hindi
Updated: October 29, 2019, 8:07 PM IST
बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट मैच से पहले BCCI के सामने आई ये 'गुलाबी' चुनौती!
टीम इंडिया और बांग्लादेश के बीच कोलकाता के ईडन गार्डंस में 22 नवंबर से डे-नाइट टेस्ट खेला जाना है. (एपी)

भारतीय हालात के हिसाब से गुणवत्ता वाली गुलाबी गेंदों (Pink Balls) की उपलब्‍धता सुनिश्चित करने को लेकर बीसीसीआई (BCCI) के सामने मुश्किल खड़ी हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2019, 8:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (BCCI) ने बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (Bangladesh Cricket Board) को डे-नाइट टेस्ट (Day Night Test) मैच खेलने का प्रस्ताव दे दिया है. अब बीसीसीआई को बांग्लादेश बोर्ड के जवाब का इंतजार है. अगर बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड इस पर सहमति देता है तो फिर 22 नवंबर से कोलकाता (Kolkata) के ईडन गार्डंस पर टीम इंडिया अपना पहला डे-नाइट टेस्ट मैच खेल सकती है. मगर इस टेस्ट से पहले ही बीसीसीआई के सामने एक नई चुनौती आ गई है. सबसे बड़ी चुनौती भारतीय हालात के हिसाब से गुणवत्ता वाली गुलाबी गेंदों (Pink Balls) की उपलब्‍धता सुनिश्चित करने की है.

साल 2016 में बीसीसीआई (BCCI) ने एसजी गेंदों (SG Balls) के साथ प्रयोग किया था और यहां तक कि दलीप ट्रॉफी के लिए ड्यूक गेंदें तक इस्तेमाल की थीं. मगर यह प्रयोग असफल रहा क्योंकि शुरुआती 20 ओवरों के बाद गेंद का रंग फीका पड़ने लगा और इसकी हार्डनेस भी कम हो गई. अब इस बारे में बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा है कि इंग्लैंड और अन्य देशों के नरम मैदानों की तुलना में भारतीय मैदान सख्त होते हैं. ऐसे में गेंद का आकार और हार्डनेस बरकरार रखना मुश्किल हो जाता है.

india vs bangladesh, ind vs ban, day night test match, sourav ganguly, virat kohli, cricket news, क्रिकेट न्यूज, सौरव गांगुली, विराट कोहली, भारत वस बांग्लादेश, क्रिकेट न्यूज, डे नाइट टेस्ट मैच, बीसीसीआई, bcci
भारतीय क्रिकेट टीम ने अभी तक एक भी डे-नाइट टेस्ट मैच नहीं खेला है. (फाइल फोटो)


टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, बीसीसीआई (BCCI) अधिकारी ने कहा, 'डे-नाइट टेस्ट (Day Night Match) आयोजित करने के लिए बोर्ड को कम से कम 24 गुलाबी गेंदों (Pink Balls) का इंतजाम करना होगा ताकि दोनों टीमें मैच प्रैक्टिस कर सकें. इसके अलावा एक बॉल लाइब्रेरी भी बनानी होगी ताकि मैच में जरूरत पड़ने पर पुरानी गेंदों का इस्तेमाल किया जा सके.' हाल ही में भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने भी एसजी गेंदों को लेकर नाखुशी जताई थी.

भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने ये भी कहा था कि एसजी गेंदों की क्वालिटी पहले काफी अच्छी होती थी, लेकिन अब मुझे नहीं पता कि इसमें गिरावट क्यों आ रही है. विराट के अनुसार, 'ड्यूक गेंदों की क्वालिटी अब भी काफी अच्छी है. कूकाबुरा की गेंदें भी अच्छी हैं. इन्होंने गेंदों की क्वालिटी के साथ कोई समझौता नहीं किया.' भारतीय टीम को बांग्लादेश के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है. सीरीज का पहला मैच 14 नवंबर से इंदौर में खेला जाएगा, जबकि दूसरा मुकाबला 22 नवंबर से कोलकाता में होगा.

South Africa : अश्वेत खिलाड़ी को मैदान पर नहीं उतारा, अब होगी टीम चयन की जांच

न्यूजीलैंड को मिला 'सहवाग', 36 चौकों और 5 छक्कों से ठोक डाले नाबाद 261 रन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 8:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...