IND VS ENG: टीम को पानी पिलाते हुए मौके का इंतजार कर रहे थे शिखर धवन, कह दी बड़ी बात

IND VS ENG: पहले वनडे मैच के जीत के हीरो रहे शिखर धवन (PC-AFP)

IND VS ENG: पहले वनडे मैच के जीत के हीरो रहे शिखर धवन (PC-AFP)

शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने पुणे में खेले गए पहले वनडे मैच में 98 रनों की पारी खेली, उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया. अवॉर्ड जीतने के बाद धवन ने कहा कि वो बस अपने मौके का इंतजार कर रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 10:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पुणे में खेले गए पहले वनडे मैच में टीम इंडिया ने इंग्लैंड को 66 रनों से हरा दिया. जीत के हीरो शिखर धवन रहे जिन्होंने 98 रनों की पारी खेली. धवन महज 2 रन से शतक से चूक गए और वो छठी बार वनडे क्रिकेट में नर्वस नाइंटीज का शिकार हुए. हालांकि धवन को शतक चूकने का मलाल नहीं है. धवन ने मैन ऑफ द मैच बनने के बाद कहा कि उनके लिए ये 98 रन भी कीमती हैं क्योंकि वो बस मौका मिलने का इंतजार कर रहे थे.

बता दें शिखर धवन को इंग्लैंड के खिलाफ पहले टी20 मैच में फेल होने के बाद प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिली थी. धवन को चार मैच नहीं खिलाए गए और उसके बाद पहले वनडे मैच में उन्हें मौका मिला. धवन ने इस मौके का फायदा उठाया और मुश्किल पिच अर्धशतकीय पारी खेली. हालांकि अर्धशतक लगाने के बाद शिखर धवन ने ऐसी बात कही जिससे हर खिलाड़ी को सीखने की जरूरत है.

पानी पिलाते हुए मौके का इंतजार कर रहे थे धवन

शिखर धवन ने मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड जीतने के बाद कहा कि वो अपने प्रदर्शन से बेहद खुश हैं और वो जब टी20 सीरीज में 12वें खिलाड़ी के तौर पर टीम को पानी पिला रहे थे तो वो उसमें भी अपना बेस्ट देने की कोशिश कर रहे थे. हालांकि उस दौरान धवन को मौके का इंतजार था. धवन ने कहा, 'मुझे अपने प्रदर्शन से ज्यादा टीम की जीत की खुशी है. मैंने अपनी फिटनेस पर काम किया और जिम में कड़ी मेहनत की. गेंद शुरुआती ओवरों में काफी सीम और स्विंग हो रही थी. इसलिए विकेट पर धैर्य से खेलने की योजना बनाई.'
यह भी पढ़ें: Prasidh Krishna: सिर्फ 3 साल में KKR के नेट बॉलर से टीम इंडिया तक प्रसिद्ध हो गए कृष्णा

धवन ने आगे कहा, 'मुझे शतक की कोई जल्दबाजी नहीं थी लेकिन अच्छा शॉट सीधे हाथों में चला गया. कोई बात नहीं मैचों में ऐसा होता रहता है. जब मैं प्लेइंग इलेवन में नहीं था तो मुझे बस मौके का इंतजार था. मैं 12वें खिलाड़ी के तौर पर खिलाड़ियों को पानी पिला रहा था तो उसमें भी मेरा बेस्ट करने की कोशिश रही. बस मैं टीम के लिए अच्छा करना चाहता हूं. मेरे दिमाग में ये बात साफ थी कि जैसे ही मुझे मौका मिलेगा मैं उसे लपक लूंगा.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज