मैं शतक नहीं, टीम के लिए खेलता हूं, अजिंक्य रहाणे ने ऐसा क्यों कहा?

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 1:14 PM IST
मैं शतक नहीं, टीम के लिए खेलता हूं, अजिंक्य रहाणे ने ऐसा क्यों कहा?
मैं शतक नहीं, टीम के लिए खेलता हूं- अजिंक्य रहाणे

India Vs West Indies, 1st Test: एंटीगा टेस्ट में 81 रन पर आउट हुए रहाणे (Ajinkya Rahane), पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा-मैं स्वार्थी खिलाड़ी नहीं हूं

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 1:14 PM IST
  • Share this:
एंटीगा टेस्ट के पहले दिन वेस्टइंडीज के गेंदबाजों का दबदबा रहा. टीम इंडिया पहले दिन 6 विकेट पर 203 रन ही बना सकी. हालांकि अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) ने 81 रनों की पारी खेल किसी तरह टीम इंडिया को संभाला लेकिन वो शतक से चूक गए. शतक से चूकने पर जब रहाणे से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वो शतक चूकने से परेशान नहीं हैं क्योंकि वो टीम इंडिया के लिए खेलते हैं ना कि खुद के लिए.

'मैं स्वार्थी क्रिकेटर नहीं'
रहाणे (Ajinkya Rahane) ने कहा, 'जब तक मैं क्रीज पर होता हूं तब तक सिर्फ टीम के बारे में सोचता हूं. मैं सिर्फ टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करना चाहता था और शतक के बारे में नहीं सोच रहा था क्योंकि मैं स्वार्थी नहीं हूं. मैं शतक से चूकने के बारे में बिल्कुल भी परेशान नहीं हूं, ना हीं इसका मुझे कोई दुख है, क्योंकि मुझे लगता है कि इस विकेट पर 81 रनों की पारी भी काफी थी. अब हमारी स्थिति अच्छी है.'

अजिंक्य रहाणे ने 81 रनों की पारी खेली


आपको बता दें रहाणे (Ajinkya Rahane) ने साल 2017 के बाद से टेस्ट शतक नहीं लगाया है. इस मैच से पहले पिछले दो सालों में उनका औसत सिर्फ 24.26 था. हालांकि वेस्टइंडीज के खिलाफ उनका रिकॉर्ड अच्छा रहा है. वेस्टइंडीज के खिलाफ 7 पारियों में रहाणे ने 3 अर्धशतक और एक शतक लगाया है. एंटीगा में भी रहाणे ने मुश्किल हालात में अच्छा प्रदर्शन कर टीम को उबारा.

अजिंक्य रहाणे ने 2017 में आखिरी टेस्ट शतक लगाया था.


रहाणे को काउंटी से मिली मदद
Loading...

जिस दौरान टीम इंडिया वर्ल्ड कप खेल रही थी उस वक्त रहाणे इंग्लिश काउंटी में हैंपशायर के लिए क्रिकेट खेल रहे थे. रहाणे ने कहा, 'काउंटी के लिए खेलना महत्वपूर्ण होता है. जब मेरा चयन विश्व कप की टीम के लिए नहीं हुआ था तब मैंने काउंटी के लिए खेलने का फैसला किया. मैं उन दो महीनों को इस्तेमाल करना चाहता था और इस दौरान मैंने सात काउंटी मैच खेले. मैं अपनी बल्लेबाजी पर कुछ काम करना चाहता था.' हालांकि रहाणे का बल्ला काउंटी में भी खामोश रहा था लेकिन फिर भी उन्हें इसका फायदा मिला.

दरअसल काउंटी क्रिकेट में ड्यूक गेंद का इस्तेमाल होता है और वेस्टइंडीज में भी इस गेंद से टेस्ट सीरीज खेली जा रही है. ये गेंद कूकाबूरा गेंद से ज्यादा स्विंग होती है इसीलिए वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाजों ने शुरुआती 8 ओवर में भारत के तीन विकेट गिरा दिए, लेकिन रहाणे को इस गेंद से खेलने का अनुभव था और उन्हें भारतीय पारी को संभाला. रहाणे ने केएल राहुल के साथ चौथे विकेट के लिए 68 और फिर हनुमा विहारी के साथ पांचवें विकेट के लिए 82 रनों की अहम साझेदारी की.

'विराट-शास्‍त्री के चलते टीम में नहीं मिली रोहित-अश्विन को जगह', अजिंक्य रहाणे ने किया खुलासा! 
वेस्टइंडीज के खिलाफ 60 विकेट, 50 से ज्यादा की बल्लेबाजी औसत फिर भी पानी पिला रहे हैं अश्विन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 1:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...