Home /News /sports /

सस्पेंशन से टीम इंडिया तक, जानें दीपक हुडा की कैसे 12 महीने में बदल गई किस्मत?

सस्पेंशन से टीम इंडिया तक, जानें दीपक हुडा की कैसे 12 महीने में बदल गई किस्मत?

दीपक हुडा को पिछले साल बड़ौदा टीम से सस्पेंड कर दिया गया था और अब उन्हें टीम इंडिया में मौका मिला है.  (Deepak Hooda Instagram)

दीपक हुडा को पिछले साल बड़ौदा टीम से सस्पेंड कर दिया गया था और अब उन्हें टीम इंडिया में मौका मिला है. (Deepak Hooda Instagram)

India vs West Indies: वेस्टइंडीज के खिलाफ 3 वनडे की घरेलू सीरीज के लिए राजस्थान के ऑलराउंडर दीपक हुडा (Deepak Hooda) को भी टीम में जगह मिली है. उनके लिए बीता 1 साल उतार-चढ़ाव भरा. उन्हें पिछले साल बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन ने अनुशासनहीनता के कारण पूरे सीजन के लिए सस्पेंड कर दिया था. इसके बाद उन्हें अपना करियर खत्म होने का डर सताने लगा था. हालांकि, बुरे दौर में उन्हें कई दिग्गज खिलाड़ियों का साथ मिला और दोबारा उनका करियर पटरी पर लौटा.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलू वनडे और टी20 सीरीज के लिए बीसीसीआई ने जिस टीम की घोषणा की, उसमें राजस्थान के ऑलराउंडर दीपक हुडा को भी जगह मिली है. उनके लिए बीता एक साल उतार-चढ़ाव भरा रहा है. पिछले साल जनवरी में ही उन्हें अनुशासनहीनता का हवाला देकर बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन ने पूरे घरेलू सीजन के लिए सस्पेंड कर दिया था और एक साल बाद यानी 2022 जनवरी में उन्हें टीम इंडिया से बुलावा आ गया. यानी 1 साल में उनकी किस्मत और करियर पूरी तरह पलट गया. बीते 1 साल में उनके करियर में क्या-क्या हुआ? उन्होंने किस तरह के उतार-चढ़ाव देखे ? यह जानने से पहले उस पूरे विवाद को कहानी जान लेते हैं, जिसकी वजह से उन्हें बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन ने निलंबित कर दिया था.

दीपक हुडा पिछले साल जनवरी में सैयद मुश्ताक अली टी20 ट्रॉफी में बड़ौदा के पहले मुकाबले से पहले ही टीम के कप्तान क्रुणाल पंड्या से कथित झगड़े के बाद टीम का बायो-बबल छोड़कर चले गए थे. उन्होंने तब बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन को चिठ्ठी लिखकर कप्तान क्रुणाल पर गाली देने और करियर बर्बाद करने के आरोप लगाए थे. हालांकि, बीसीए ने उनकी इस हरकत को अनुशासनहीनता मानते हुए पूरे सीजन से सस्पेंड कर दिया.

इसके बाद का वक्त दीपक के लिए काफी तकलीफदेह रहा. जहां उनके साथी क्रिकेट खेल रहे थे. वहीं, इस विवाद के बाद दीपक ने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया था. वो ना तो परिवार और ना ही किसी दोस्त से बात कर रहे थे. उन्हें लगने लगा था कि उनके क्रिकेट करियर का ‘दि एंड’ हो जाएगा और उन्हें कोई मौका नहीं मिलेगा. लेकिन किस्मत ने पलटा खाया और 26 जनवरी का दिन उनके लिए किसी तोहफे से कम नहीं रहा. उन्हें सीधे टीम इंडिया से बुलावा आ गया.

‘इरफान और युसूफ भाई ने काफी मदद की’
दीपक ने टीम इंडिया के लिए चुने जाने पर स्पोर्ट्सस्टार से बातचीत में कहा, “मैं अब तक इस खबर पर यकीन नहीं कर पा रहा हूं. मेरे लिए पिछला साल काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा. लेकिन इरफान भाई (इरफान पठान) और युसूफ भाई (युसूफ पठान) और परिवार के सदस्यों की मदद से मैं बुरे दौर से बाहर निकला और दोबारा सपने देखने शुरू किए. मेरे लिए इस खुशखबरी में शब्दों में बयां करना मुश्किल है. लेकिन इतना कह सकता हूं कि यह करियर का सबसे खूबसूरत पल है.”

मुझे बुरे दौर ने काफी कुछ सिखाया: दीपक
हु़डा को इससे पहले 2017-18 में भी टीम इंडिया के लिए चुना गया था. लेकिन वो तब प्लेइंग-11 में जगह नहीं बना पाए थे. उन्होंने इस पर कहा, “मुझे एक और मौका मिलने में पांच साल लग गए. सच कहूं तो हर सीजन से पहले मैंने सोचा था कि इस बार टीम में जगह बना लूंगा, लेकिन ऐसा कभी नहीं हुआ. लेकिन पिछले एक साल ने मुझे सिखाया कि आपको अपने अवसर का इंतजार करना होगा.

IND vs WI: पहले IPL में मिला छप्परफाड़ पैसा, अब कटा टीम इंडिया का टिकट, जानें क्यों खास है गेंदबाज

‘मुझे करियर खत्म होने का डर सता रहा था’
दीपक ने बीते 1 साल में जिंदगी और करियर में आए उतार-चढ़ाव को लेकर कहा, “मैं इस पूरे विवाद के बाद टूट चुका था. लेकिन इरफान और युसूफ भाई मुझे दोबारा ट्रेनिंग के लिए लाए. वो बड़ौदा में घंटों मेरे साथ नेट्स पर अभ्यास करते थे. मेंटॉर होने के नाते उन्होंने सिर्फ खेल ही नहीं, जिंदगी के बारे में भी कुछ सिखाया. उनकी सीख बुरे दौर में मेरे काम आई और मुझे एक परिपक्व क्रिकेटर बनने में मदद की.”

दीपक को राजस्थान की कप्तानी का मौका भी मिला
इसके बाद उन्होंने पंजाब किंग्स के लिए आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन किया और नए घरेलू सीजन से पहले उन्होंने बड़ौदा टीम से 9 साल पुराना अपना रिश्ता तोड़ लिया और वो राजस्थान चले गए. उनके लिए यह फैसला अच्छा रहा. दीपक ने सैय़द मुश्ताक अली टी20 ट्रॉफी के 6 मैच में 294 रन ठोक डाले. इसके बाद राजस्थान ने उन्हें विजय हजारे ट्रॉफी के लिए टीम का कप्तान बना दिया. इस टूर्नामेंट में उन्होंने कर्नाटक के खिलाफ शतक ठोकने के साथ 6 मैच में 198 रन बनाए.

IND vs WI: मैदान पर होगी ‘कुलचा’ की वापसी, जानें 6 महीने बाद क्यों आई कुलदीप यादव की याद

मैच फिनिशर की भूमिका भी निभा सकते हैं दीपक हुडा
दाएं हाथ के बल्लेबाज दीपक हुडा टीम इंडिया के लिए बेहद खास खिलाड़ी साबित हो सकते हैं. हार्दिक पंड्या के चोटिल होने की वजह से टीम इंडिया को वनडे में मैच फिनिशर की तलाश है. वेंकटेश अय्यर को दक्षिण अफ्रीका सीरीज में मौका दिया है. लेकिन वो अपनी छाप नहीं छोड़ पाए. हुडा मध्यक्रम में कहीं भी बल्लेबाजी कर सकते हैं. वो बड़े शॉट्स खेलने की क्षमता रखते हैं. इसे वो कई बार आईपीएल में साबित कर चुके हैं. वो ऑफ स्पिन गेंदबाजी भी करते हैं. वो फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 20, टी20 में 17 और लिस्ट-ए में कुल 35 विकेट ले चुके हैं. यानी एक यूटिलिटी प्लेयर के तौर पर वो कई मोर्चे पर टीम के काम आ सकते हैं.

Tags: Cricket news, India vs west indies, Krunal pandya, Team india

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर