धोनी का वो फैसला जिसने टीम इंडिया को जिताई थी चैंपियंस ट्रॉफी, 6 गेंद में पलट गया था खेल

ICC Champions Trophy 2013: आज ही के दिन धोनी की कप्तानी में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी टीम इंडिया

23 जून, 2013 को भारतीय क्रिकेट टीम ने चैंपियंस ट्रॉफी (ICC Champions Trophy 2013) जीती थी, आईसीसी की तीनों ट्रॉफी जीतने वाले इकलौते कप्तान बने थे धोनी. जानिए कैसे रचा था माही ने इतिहास?

  • Share this:
    नई दिल्ली. 23 जून...2013. ये तारीख टीम इंडिया के फैंस और उसके खिलाड़ियों के लिए बेहद ही खास है. ये वो दिन है जब भारत ने इंग्लैंड की धरती पर चैंपियंस ट्रॉफी (ICC Champions Trophy 2013) जीतने का गौरव हासिल किया था. बर्मिंघम में खेले गए फाइनल मैच में टीम इंडिया ने महज 5 रनों के अंतर से मेजबान इंग्लैंड को मात दी थी. जीत के साथ ही धोनी आईसीसी की तीनों ट्रॉफी जीतने वाले पहले कप्तान भी बन गए थे. धोनी के नाम टी20 वर्ल्ड कप, वर्ल्ड कप और चैंपियंस ट्रॉफी जीतने का रिकॉर्ड है. बता दें चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में टीम इंडिया को जीत दिलाने में कप्तान धोनी की बहुत बड़ी भूमिका थी. धोनी के एक फैसले ने इंग्लैंड से खिताब छीन लिया था. आइए आपको बताते हैं कैसे?

    बारिश से प्रभावित फाइनल मैच 20-20 ओवर का किया गया. टीम इंडिया ने बेहद ही खराब बल्लेबाजी की. रोहित शर्मा-9, सुरेश रैना-1 और कप्तान धोनी खाता तक नहीं खोल सके. टीम इंडिया के लिए विराट कोहली ने 34 गेंदों में 43 रनों की अहम पारी खेली. वहीं ओपनर शिखर धवन ने भी 31 रनों का योगदान दिया. सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे रवींद्र जडेजा ने भी नाबाद 33 रनों का योगदान दिया. हालांकि इसके बावजूद भारत 20 ओवर में महज 129 रन ही बना सका.

    जीता हुआ मैच हारा इंग्लैंड
    जवाब में इंग्लैंड की शुरुआत खराब रही. कप्तान एलिस्टेयर कुक महज 2 रन बनाकर आउट हुए. इयान बेल 13 और जो रूट 7 रन पर निपट गए. अश्विन-जडेजा की फिरकी ने इंग्लैंड के बल्लेबाजों को पूरी तरह दबाव में ला दिया. लेकिन इसके बाद ऑयन मॉर्गन और रवि बोपारा ने अच्छी बल्लेबाजी करते हुए छठे विकेट के लिए 64 रन जोड़ लिये. 17 ओवर में इंग्लैंड के 102 रन हो गए और उसे अंतिम 18 गेंदों में 28 रनों की दरकार थी.

    धोनी ने लिया चौंकाने वाला फैसला
    इसके बाद धोनी ने वो फैसला लिया जिसने इंग्लैंड के हाथों से जीता हुए मैच छीन लिया. धोनी ने 18वें ओवर मे इशांत शर्मा को गेंद सौंपी जो कि पिछले 3 ओवरों में 27 रन लुटा चुके थे. धोनी के इस फैसले पर सभी क्रिकेट एक्सपर्ट सवाल खड़े करते नजर आए. दिक्कत तब हो गई जब मॉर्गन ने इशांत की दूसरी गेंद पर छक्का जड़ दिया और अगली दो गेंद उन्होंने वाइड फेंकी. इसके बाद इशांत शर्मा ने वो काम किया जिसने मैच पूरी तरह भारत की ओर मोड़ दिया. इशांत शर्मा ने पहले ऑयन मॉर्गन को आउट किया और अगली ही गेंद पर रवि बोपारा को भी उन्होंने चलता कर दिया. लगातार दो विकेट गिरने के कारण इंग्लैंड पूरी तरह बैकफुट पर आ गया.

    अंतिम ओवर में भी धोनी ने बड़ा चौंकाने वाला फैसला लिया. इंग्लैंड को अंतिम 6 गेंदों पर 15 रन चाहिए थे और धोनी ने वो ओवर ऑफ स्पिनर अश्विन को सौंप दिया. अश्विन की 2 गेंदों पर 5 रन बन गए, जिसके बाद इंग्लैंड की जीत की उम्मीदें जाग गई. लेकिन अश्विन ने उसके बाद इंग्लैंड को कोई मौका नहीं दिया और भारत ने 5 रनों से फाइनल जीत लिया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.