रिहाना के ट्वीट से मचा बवाल, रैना-धवन समेत इन क्रिकेटरों ने रखी किसान आंदोलन पर अपनी राय

किसान आंदोलन पर कई भारतीय क्रिकेटरों ने अब अपनी राय रखी है.

किसान आंदोलन पर कई भारतीय क्रिकेटरों ने अब अपनी राय रखी है.

Kisan Andolan: किसान आंदोलन के समर्थन में पॉप स्टार रिहाना के ट्वीट के बाद सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर भूचाला आया हुआ है. भारतीय क्रिकेटरों ने भी अब किसान आंदोलन पर अपनी बात रखी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2021, 6:13 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले ढाई महीने से दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसान आंदोलन पर अब भारतीय क्रिकेटरों ने अपनी चुप्पी तोड़ दी है. एक दिन पहले किसान आंदोलन के समर्थन में पॉप स्टार रिहाना का ट्वीट वायरल होने के बाद से ही कई नामचीन हस्तियों ने किसान आंदोलन पर अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं. महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर, भारतीय कप्तान विराट कोहली, अनिल कुंबले, भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री, सुरेश रैना और शिखर धवन ने भी किसान आंदोलन को लेकर अपनी भावनाएं जाहिर की है.

पढ़ें किसने क्या कहा

सुरेश रैना ने कहा है, 'एक देश के तौर पर हमारे पास आज ऐसे मुद्दे हैं जिनके समाधान की जरूरत है. ऐसे मुद्दे कल भी होंगे. लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि हम विभाजित हो जाएं और बाहरी शक्तियों का प्रयोग होने दें. हर मुद्दा सौहार्दपूर्ण और निष्पक्ष बातचीत से ही हल होगा.

भारतीय क्रिकेट टीम के ओपनर शिखर धवन ने भी इसी तरह का ट्वीट किया. उन्होंने लिखा, 'हमारे महान देश को फायदा हो ऐसे समाधान तक पहुंचना अभी सबसे जरूरी चीज है. आइए साथ खड़े रहें और एक बेहतर व चमकीले भविष्य की तरफ आगे बढ़ें.'
विराट कोहली ने ट्वीट किया, 'असहमति के इस समय में हम सभी एकजुट रहें. किसान हमारे देश का एक अभिन्न हिस्सा हैं और मुझे यकीन है कि सभी पक्षों के बीच एक सौहार्दपूर्ण समाधान मिल जाएगा ताकि शांति हो और सभी मिलकर आगे बढ़ सकें.' विराट के ्अलावा कई भारतीय खिलाड़ियों ने किसान आंदोलन पर अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं.

अनिल कुंबले ने कहा है कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में भारत अपने आंतरिक मुद्दों को सौहार्दपूर्ण समाधानों तक ले जाने में सक्षम है. सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट किया, 'भारत की संप्रभुता से समझौता नहीं किया जा सकता है. बाहरी ताकतें दर्शक हो सकती हैं लेकिन प्रतिभागी नहीं. भारतीय भारत को जानते हैं और भारत के लिए फैसला करना चाहिए. आइए एक राष्ट्र के रूप में एकजुट रहें.'

टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री ने ट्वीट किया, 'कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का बहुत महत्वपूर्ण अंग है. किसान किसी भी किसी भी देश के इकोसिस्टम की रीढ़ की हड्डी हैं. यह एक आंतरिक मामला है. मुझे पूरा भरोसा है कि यह मामला बातचीत से सुलझा लिया जाएगा.'



भारतीय स्पिनर प्रज्ञान ओझा ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'मुझे विश्वास है कि यह मामला जल्द ही सुलझा लिया जाएगा. हमें अपने आंतरिक मामलों में किसी बाहरी व्यक्ति के दखल की आवश्यकता नहीं है. मेरा देश हमारे किसानों पर गर्व करता है और जानता है कि वे कितना महत्वपूर्ण हैं.'

यह भी पढ़ें:

Kisan Andolan पर विराट कोहली का बयान-किसान हमारे देश का अभिन्न हिस्सा हैं

Farmer Protest: अनिल कुंबले बोले-भारत अपने आंतरिक मुद्दों को सुलझाने में सक्षम

अमित शाह बोले-दुष्प्रचार भारत की एकता को नहीं डिगा सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि कोई भी दुष्प्रचार भारत की एकता को ना तो डिगा सकता है और ना ही देश को नयी ऊंचाइयां छूने से रोक सकता है. वहीं विदेश मंत्रालय ने कहा है कि कुछ निहित स्वार्थी समूह प्रदर्शनों पर अपना एजेंडा थोपने का प्रयास कर रहे हैं. संसद में पूरी चर्चा के बाद पारित कृषि सुधारों के बारे में देश के कुछ हिस्सों में किसानों के बहुत ही छोटे वर्ग को कुछ आपत्तियां हैं. विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'खासतौर पर मशहूर हस्तियों एवं अन्य द्वारा सोशल मीडिया पर हैशटैग और टिप्पणियों को सनसनीखेज बनाने की ललक न तो सही है और न ही जिम्मेदाराना है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज