लाइव टीवी

टेस्ट टीम में वापसी के लिए शिखर धवन ने कसी कमर, कहा- ऐसे हासिल करेंगे पुरानी जगह

भाषा
Updated: November 13, 2019, 10:45 PM IST
टेस्ट टीम में वापसी के लिए शिखर धवन ने कसी कमर, कहा- ऐसे हासिल करेंगे पुरानी जगह
शिखर धवन ने पिछला टेस्ट मैच ‌सितंबर 2018 में खेला था

अगले महीने से रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) का सत्र शुरू होगा और शिखर धवन (Shikhar Dhawan) की नजर इसमें बड़ी पारियां खेलने पर है

  • भाषा
  • Last Updated: November 13, 2019, 10:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने अब तक टेस्ट टीम में वापसी की उम्मीद नहीं छोड़ी है और अपनी दावेदारी मजबूत करने के लिए उनकी नजरें आगामी रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में बड़ी पारियां खेलने पर टिकी हैं. मौजूदा सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के बाद धवन लंबे प्रारूप में अपने करियर को पटरी में लाने की कवायद के तहत रणजी ट्रॉफी में खेलेंगे. धवन ने पिछला टेस्ट सितंबर 2018 में खेला था.


देश का प्रथम श्रेणी स्तर का शीर्ष टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) नौ दिसंबर से खेला जाएगा और इसी दौरान वेस्टइंडीज के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज भी होगी. टेस्ट क्रिकेट में वापसी के बारे में पूछे जाने पर धवन ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि बेशक मुझे क्रिकेट खेलना पसंद है और हमेशा सुनिश्चित करता हूं कि ध्यान प्रक्रिया पर हो और इसके बाद सभी चीजें अपने आप मिल जाती हैं. मैं सैयद मुश्ताक खेलूंगा, मैं रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में भी खेलूंगा और अगर मैं रन बनाता हूं तो मुझे पता है कि मैं टेस्ट क्रिकेट में वापसी करने का दावेदार बना रहूंगा.




Shikhar Dhawan, ranji trophy, cricket, bcci, rishabh pant, शिखर धवन, ऋषभ पंत, रणजी ट्रॉफी
चोट के कारण शिखर धवन विश्व कप से बाहर हो गए थे


यह पूछने पर कि वह इस समय अपने करियर को किस तरह देखते हैं. 33 साल के धवन ने कहा कि मैं काफी संतुष्ट हूं. मैं लगातार अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं. मेरे अंदर ऊर्जा का स्तर और प्रतिबद्धता उतनी ही है जितनी टीम में आने से पहले रणजी ट्रॉफी खेलने के दौरान होती थी.


वर्ल्ड कप के बाद से बड़ी पारी नहीं खेल पा रहे हैं धवन
अंगूठे की चोट के कारण विश्व कप से बाहर होने वाले धवन वापसी करने के बाद से बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे हैं. बांग्लादेश के खिलाफ हाल में संपन्न टी20 सीरीज में धवन ने एक मैच में 42 गेंद में 41 रन बनाए थे, जिससे उनकी फॉर्म और स्ट्राइक रेट पर सवाल उठे थे. बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने स्वीकार किया कि उस मैच में वह अधिक आक्रामक रवैया अपना सकते थे. इस सलामी बल्लेबाज ने बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग के लिए आलोचना का सामना कर रहे ऋषभ पंत (Rishabh Pant) का भी बचाव किया. उन्होंने कहा कि हमेशा पंत के बारे में ही क्यों पूछा जाता है. मैं आपको बता दूं कि प्रत्येक खिलाड़ी ऐसे चरण से गुजरता है, जब वह रन नहीं बना पाता. ऐसा सिर्फ उसके साथ नहीं है.



News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 10:40 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर