'चाहता हूं कि क्रिकेट वर्ल्‍ड कप में टीम इंडिया सबसे अच्‍छी फील्डिंग करे'

'चाहता हूं कि क्रिकेट वर्ल्‍ड कप में टीम इंडिया सबसे अच्‍छी फील्डिंग करे'
भारतीय टीम में रवींद्र जडेजा, विराट कोहली और हार्दिक पंड्या को सबसे अच्‍छा फील्डर माना जाता है. (AP Photo)

हाल के सालों में भारत की फील्डिंग में काफी बदलाव आया है. इसका श्रेय कोच श्रीधर को भी जाता है.

  • Share this:
भारतीय फील्डिंग कोच आर श्रीधर टीम इंडिया को आईसीसी क्रिकेट वर्ल्‍ड कप 2019 की सबसे बढ़िया फील्डिंग टीम के रूप में देखना चाहते हैं. उनका कहना है कि भारतीय क्रिकेट टीम बाकी टीमों से बेहतर फील्डिंग करना चाहती है. बता दें कि हाल के सालों में भारत की फील्डिंग में काफी बदलाव आया है. इसका श्रेय कोच श्रीधर को भी जाता है. भारत और न्‍यूजीलैंड का मैच बारिश के चलते रद्द होने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए श्रीधर ने कहा कि निजी स्तर पर वह भारतीय टीम के संपूर्ण क्षेत्ररक्षण स्तर से बहुत खुश हैं.

टीम में कैच लेने वाले अच्छे फील्‍डर
उन्‍होंने कहा, 'निजी तौर पर मैं फील्डिंग से बहुत खुश हूं. हमारे पास रोहित शर्मा के रूप में स्लिप में एक अच्छा फील्‍डर है. हमारे पास विराट कोहली और रवींद्र जडेजा जैसे खिलाड़ी हैं जो कि बेहतरीन फील्‍डर हैं. वे किसी भी बल्लेबाज में खौफ पैदा कर सकते हैं और 30 गज के घेरे में ही रहते हैं. इसके अलावा हमारे पास हार्दिक पंड्या जैसा खिलाड़ी है जो कि जरूरत पड़ने पर आपको वास्तव में मदद पहुंचा सकता है. हमारे पास कैच लेने वाले अच्छे फील्‍डर हैं.'

बुमराह, जाधव व चहल करते हैं कड़ी मेहनत
श्रीधर ने कहा कि जसप्रीत बुमराह, केदार जाधव और युजवेंद्र चहल जैसे कुछ खिलाड़ी नैसर्गिक एथलीट नहीं हैं लेकिन वे अपनी फिटनेस पर कड़ी मेहनत करते हैं और अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुकूल स्तर हासिल करते हैं. बुमराह अपनी कड़ी मेहनत और समर्पण के कारण पिछले तीन वर्षों में अपने क्षेत्ररक्षण में आमूलचूल सुधार करने वाले खिलाड़ियों में शामिल हो गए हैं.



indian cricket team, india fielding coach, r sridhar, indian fielders, jasprit bumrah, ravindra jadeja, आर श्रीधर, भारतीय फील्डिंग, भारत फील्डिंग कोच
भारतीय क्रिकेट टीम के फील्डिंग कोच आर श्रीधर.


बुमराह सबसे कड़ी मेहनत करने वाले खिलाड़ी
उन्‍होंने कहा, 'जहां तक फील्डिंग का सवाल है तो बुमराह सबसे कड़ी मेहनत करने वाले खिलाड़ियों में से एक है. जब वह 2016 में टीम से जुड़े थे तब से लेकर अब तक उनकी फील्डिंग में आमूलचूल सुधार हुआ है हालांकि अब भी इस पर काम चल रहा है लेकिन उन्होंने बहुत सुधार किया है.'

उन्होंने कहा कि अपने खेल में सुधार करने की प्रतिबद्धता के कारण ही गुजरात का यह तेज गेंदबाज यह बदलाव कर पाया. श्रीधर ने कहा, ‘फिटनेस के बढ़ते स्तर के साथ खिलाड़ियों की मानसिकता और फिर हम उसमें क्षेत्ररक्षण के तकनीकी पहलुओं तथा जागरूकता और उम्मीदों को जोड़ देते हैं. इसलिए इन सभी के जोड़ से निश्चित तौर पर उन्हें क्षेत्ररक्षण स्तर में सुधार करने में मदद मिली.’

INDvsPAK : टॉस की इस ट्रिक से मिलेगी पाकिस्तान के खिलाफ जीत!

बारिश में हमारा तरीका अपनाओ, 10 मिनट में मैच शुरू : गांगुली

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज