लाइव टीवी

टीम इंडिया की नई सनसनी शेफाली वर्मा, लड़कों संग खेली और एकेडमी में 'लड़का' बनकर सीखा क्रिकेटर

News18Hindi
Updated: October 3, 2019, 11:36 AM IST
टीम इंडिया की नई सनसनी शेफाली वर्मा, लड़कों संग खेली और एकेडमी में 'लड़का' बनकर सीखा क्रिकेटर
शेफाली वर्मा.

शेफाली वर्मा (Shafali Verma) हरियाणा के रोहतक की रहने वाली हैं लेकिन उनके लिए क्रिकेट का करियर बनाने की राह बड़ी मुश्किल थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2019, 11:36 AM IST
  • Share this:
भारतीय महिला क्रिकेट टीम (Indian Women Cricket Team) की नई खिलाड़ी शेफाली वर्मा (Shafali Verma) ने दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ टी20 मुकाबले में अपनी जबरदस्‍त बल्‍लेबाजी से सबका ध्‍यान खींचा. 15 साल की उम्र में शेफाली ने अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा और भारतीय की ओर से अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट खेलने वाली सबसे युवा खिलाड़ी बन गईं. उन्‍होंने सूरत में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अंतरराष्‍ट्रीय टी20 में 46 रन की धमाकेदार पारी खेली थी. यह उनका दूसरा ही मैच था. पहले मुकाबले में वह बिना खाता खोले आउट हो गई थीं.

शेफाली हरियाणा के रोहतक की रहने वाली हैं लेकिन उनके लिए क्रिकेट का करियर बनाने की राह बड़ी मुश्किल थी. जब उन्‍होंने क्रिकेट खेलना शुरू किया तो लड़कियों के लिए एकेडमी न होने की वजह से लड़का बनकर खेलती थी.

'मिन्‍नतें कींं लेकिन कोई नहीं माना' 
टाइम्‍स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, उनके पिता संजीव वर्मा सभी क्रिकेट एकेडमी गए लेकिन किसी ने भी लड़की को एडमिशन देने से इनकार कर दिया. उन्‍होंने बताया कि कई मिन्‍नतें कीं लेकिन फिर भी किसी ने दाखिला नहीं दिया. जब एकेडमी में जगह नहीं मिली तो उन्‍होंने बेटी के बाल लड़कों की तरह रखना शुरू कर दिया. इसके जरिए उन्‍हें दाखिला मिल गया.

shafali verma, shafali verma cricket, shafali verma story, shafali verma indian women cricket team, indian women cricket team, शेफाली वर्मा, भारतीय महिला क्रिकेट टीम, शेफाली वर्मा क्रिकेट
शेफाली वर्मा ने महिला आईपीएल से सुर्खियां बटोरी थी.


पिता की है ज्‍वैलरी की दुकान
शेफाली के पिता रोहतक में ज्‍वैलरी की एक छोटी सी दुकान चलाते हैं. उन्‍होंने बताया कि लड़कों के साथ खेलना आसान नहीं था. कई बार गेंद उसके हेलमेट पर लगती थी. कई मौकों पर तो हेलमेट की जाली भी टूट गई लेकिन शेफाली ने हार नहीं मानी. इसके बाद 2013 में जब सचिन तेंदुलकर हरियाणा के लाहली में अपना आखिरी रणजी ट्रॉफी मैच खेलने आए तो शेफाली भी पिता के साथ स्‍टेडियम गई. सचिन को खेलते देखकर शेफाली काफी प्रेरित हुई. बता दें कि कई दिग्‍गज क्रिकेटर शेफाली के खेल की तारीफ कर चुकी हैं. इनमें मिताली राज और डेनियल वेट प्रमुख हैं.'पड़ोसी ताने मारते थे लेकिन जब आईपीएल में देखा तो बोलती बंद हो गई'
इंडियन टीम में मौका पाने से पहले शेफाली ने घरेलू क्रिकेट में जमकर रन बरसाए. उन्‍होंने 6 शतक व 3 अर्धशतकों की मदद से 1923 रन बनाए. क्रिकेट खेलने के साथ ही वह पढ़ाई भी करती हैं और रोहतक की एक स्‍कूल में 10वीं में हैं. शेफाली को खेलते देख उनकी छोटी बहन भी अब क्रिकेट का ककहरा सीखने लगी है. उनके पिता ने बताया कि शुरुआत में पड़ोसी और जानकार ताने मारा करते थे. वे कहते थे कि लड़कियों का क्रिकेट में कोई फ्यूचर नहीं लेकिन जब शेफाली पहली बार महिला आईपीएल के दौरान टीवी पर आई तो सब हैरान रह गए.

RCB में कोहली की टीम का साथी मैच फिक्सिंग में अरेस्‍ट, बॉलर को दिया था ये लालच

रोहित शर्मा-मयंक अग्रवाल ने तोड़ा गावस्कर-रामनाथ का 47 साल पुराना रिकॉर्ड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 3, 2019, 11:31 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर