IPL 2019 ट्रॉफी विवाद: डायना इडुल्जी ने खन्‍ना पर साधा निशाना, बोलीं-अध्यक्ष ने पद की गरिमा को नजरअंदाज किया

डायना का कहना है कि इस मामले में एकतरफा खबरें ही चली हैं जबकि पूरा मामला कुछ और है.

News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 9:15 AM IST
IPL 2019 ट्रॉफी विवाद: डायना इडुल्जी ने खन्‍ना पर साधा निशाना, बोलीं-अध्यक्ष ने पद की गरिमा को नजरअंदाज किया
आईपीएल 2019 ट्रॉफी विवाद (Photo-ipl)
News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 9:15 AM IST
आईपीएल का 12वां सीजन मुंबई इंडियंस के चैंपियन बनने के साथ खत्‍म हो गया है, लेकिन किसी ना किसी वजह से यह सुर्खियों में बना हुआ है. हाल फिलहाल प्रशासकों की समिति (सीओए) की सदस्य डायना इडुल्जी आईपीएल के फाइनल में विजेता टीम को ट्रॉफी देने की चाहत रखने की खबरों को लेकर सुर्खियों में हैं. वह इस विवाद और मीडिया में एक तरफा खबरों को लेकर दुखी हैं. सच कहा जाए तो डायना और बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्‍यक्ष सीके खन्‍ना के बीच ट्रॉफी देने के लिए हुई खींचतान ने मामला और गरमा दिया है.

ये है मामला


डायना का कहना है कि इस मामले में एकतरफा खबरें ही चली हैं जबकि पूरा मामला कुछ और है.

डायना ने आईएएनएस से कहा, 'विजेता को दी जाने वाली आईपीएल ट्रॉफी को लेकर मैंने कई तरह की एक तरफा खबरें पढ़ीं हैं. बात को सही तरह से रखते हुए, मैं बता दूं कि आठ अप्रैल को सीओए की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा हुई थी. चर्चा के दौरान मैंने कहा था कि बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष सी.के. खन्ना ने दिल्ली में हुए मैच के दौरान ट्रॉफी देने के अपने अधिकार का त्याग कर दिया था. उन्होंने प्रोटोकॉल की परवाह नहीं की थी और एक राज्य संघ के अध्यक्ष को ट्रॉफी देने की अनुमति दी गई थी और इसलिए आईपीएल फाइनल में सीओए सदस्य को ट्रॉफी देनी चाहिए. यह इसलिए क्योंकि बीसीसीआई के कार्यकारी अध्यक्ष ने पद की गरिमा को नजरअंदाज किया था.'

इडुल्जी ने आगे कहा कि इसके लिए उनकी पहली पसंद सीओए अध्यक्ष विनोद राय थे लेकिन उन्होंने फाइनल में आने से मना कर दिया था. इसके बाद उन्होंने अपना और सीओए के अन्य सदस्य रवि थोड़गे का नाम सुझाया था. उन्होंने कहा कि उनकी खुद ट्रॉफी देने की कोई इच्छा नहीं थी.

इडुल्जी ने कहा, 'मैंने यहां तक कहा था कि राय फाइनल में मौजूद रहेंगे तो वह ट्रॉफी देंगे लेकिन राय ने कहा था कि वह नहीं आएंगे. इसके बाद मैंने फाइनल के लिए थोड़गे और मेरा नाम सुझाया. हम दोनों में से कोई ट्रॉफी दे सकता था.'

इडुल्जी ने आईपीएल ट्रॉफी देने से जुड़ी एकतरफा रिपोर्ट्स को नकारा है. (photo-ipl)

Loading...

खन्‍ना ने उठाया था ये कदम
पूर्व भारतीय खिलाड़ी के मुताबिक, खन्ना ने फाइनल से कुछ दिन पहले एक मेल किया था जिससे उन्होंने प्लान बदलने को लेकर सवाल किए थे लेकिन वहीं खन्ना ने उस मेल का जवाब नहीं दिया था कि क्यों बीसीसीआई अध्यक्ष ने फिरोज शाह कोटला मैदान पर हुए भारत और आस्ट्रेलिया के बीच अंतिम मैच में ट्रॉफी नहीं दी.

उन्होंने कहा, 'फाइनल से कुछ दिन पहले खन्ना ने कार्यकारी अधिकारी अमिताभ चौधरी का 2017 में लिखा गया एक मेल फॉरवर्ड किया था जिसमें कहा गया था कि बीसीसीआई अध्यक्ष ही ट्रॉफी देंगे. खन्ना का 2017 का मेल दोबारा भेजना ओछी हरकत थी. वह 2018 में आईपीएल फाइनल में ट्रॉफी दे चुके थे. लगता है कि वह भूल गए थे कि दिल्ली के फिरोज शाह कोटला मैदान पर खेले गए भारत और ऑस्ट्रेलिया के मैच के दौरान उन्होंने अपने ट्रॉफी देने के अधिकार का त्याग कर दिया था.'

इडुल्जी ने बताया कि फाइनल के दौरान खन्ना ने किस तरह मुसीबत खड़ी की और राई का पहाड़ बनाया.

इडुल्जी ने कहा, 'फाइनल के दिन उनका हमेशा की तरह ध्यान ट्रॉफी देने पर था. वह अपनी जेब में 2017 के मेल की कॉपी लेकर घूम रहे थे. मेरा मानना था कि मुझे या जनरल को ट्रॉफी देने चाहिए क्योंकि दिल्ली में खन्ना ने परंपरा का पालन नहीं किया था.'

इडुल्जी ने कहा, 'अगर मेरा मकसद सिर्फ ट्रॉफी देना होता तो मैं पहले दो संस्करणों में भी इस पर जोर देती जहां मैं फाइनल में मौजूद थी. एक पूर्व भारतीय खिलाड़ी होने के नाते मैं अपने खेलने के दिनों में हमेशा से ट्रॉफी लेने के लिए प्रेरित होती थी. ट्रॉफी देना ऐसी चीज नहीं है जो मुझे प्रेरित करे. मेरा सिर्फ इतना मानना था कि खन्ना ने दिल्ली में अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाई थी.'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार