तीन ओवर बाद 'जीरो' से 'हीरो' बन गया मुंबई का ये खिलाड़ी

चेन्नई के सामने 150 रन का लक्ष्य था लेकिन उसकी टीम शेन वॉटसन के 59 गेंदों पर 80 रन के बावजूद सात विकेट पर 148 रन ही बना पाई.
चेन्नई के सामने 150 रन का लक्ष्य था लेकिन उसकी टीम शेन वॉटसन के 59 गेंदों पर 80 रन के बावजूद सात विकेट पर 148 रन ही बना पाई.

चेन्नई के सामने 150 रन का लक्ष्य था लेकिन उसकी टीम शेन वॉटसन के 59 गेंदों पर 80 रन के बावजूद सात विकेट पर 148 रन ही बना पाई.

  • Share this:
मुंबई इंडियंस ने आईपीएल का रिकॉर्ड चौथा खिताब अपने नाम कर लिया है. 12 मई यानि रविवार को हैदराबाद के राजीव गांधी इंटरनेशनल क्रिकेट स्‍टेडियम में खेले गए मैच में रोहित शर्मा की टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी करते हुए 8 विकेट के नुकसान पर 149 का स्‍कोर बनाया था. जबकि 150 रन का लक्ष्‍य लेकर उतरी चेन्‍नई सुपर किंग्‍स यह मैच एक रन के अंतर से हार गई. मुंबई की इस जीत के लिए बेशक जसप्रीत बुमराह को मैन ऑफ द मैच चुना गया हो, लेकिन जीत के बाद सबसे अधिक सम्‍मान टीम के अनुभवी गेंदबाज़ लसिथ मलिंगा को मिला है.

बहरहाल, चेन्नई के सामने 150 रन का लक्ष्य था लेकिन उसकी टीम शेन वॉटसन के 59 गेंदों पर 80 रन के बावजूद सात विकेट पर 148 रन ही बना पाई. चेन्नई को आखिरी ओवर में नौ रन चाहिए थे लेकिन इसमें उसने वॉटसन का विकेट गंवाया. मैच का परिणाम अंतिम गेंद पर निकला जिसमें चेन्नई को दो रन की दरकार थी लेकिन लसिथ मलिंगा ने यॉर्कर पर शार्दुल ठाकुर को एलबीडब्‍ल्‍यू आउट कर दिया. और इसके साथ मुंबई चैंपियन बन गई.

MI vs CSK Final: ...तो पहले से ही तय थी मुंबई इंडियंस की जीत



यूं 'जीरो' से 'हीरो' बने मलिंगा
यकीनन टीम के सबसे अनुभवी गेंदबाज़ लसिथ मलिंगा की जीरो से हीरो बनने की तरह ही है मुंबई की ये रिकॉर्ड चौथी जीत. मलिंगा ने अपने तीसरे और पारी के 16वें ओवर में 20 रन लुटाए थे. इस दौरान चेन्‍नई के ड्वेन ब्रावो ने उनका स्‍वागत छक्‍के के साथ किया तो शेन वॉटसन ने लगातार तीन चौके लगाकर मलिंगा की गाड़ी पटरी से उतार दी. उन्‍होंने इस ओवर में 20 रन खर्च किए.

कप्‍तान रोहित ने इसके बाद जसप्रीत बुमराह पर भरोसा दिखाया और उन्‍होंने अपने तीसरे और पारी के 17वें ओवर में सिर्फ चार रन खर्च किए. जबकि 18वां ओवर मलिंगा की बजाए पंड्या ने किया और वह शेन वॉटसन (तीन छक्‍के) का शिकार हो गए. इस ओवर में भी 20 रन चेन्‍नई के बल्‍लेबाजों ने बनाकर अपना दम दिखाया. एक बार फिर रोहित ने बुमराह पर भरोसा दिखाया और उन्‍होंने 19वें ओवर में ना सिर्फ ड्वेन ब्रावो (15) को विकेटकीपर क्विंटन डी कॉक के हाथों कैच कराया बल्कि 9 रन रन ही खर्च किए. अब अंतिम ओवर में चेन्‍नई को जीत के लिए 9 रन बनाने थे और मलिंगा के सामने इन्‍हें बचाने की चुनौती थी, जिसमें वह सफल रहे.

साथी खिलाड़ि‍यों ने लसिथ मलिंगा को कंधे पर उठाकर जश्‍न मनाया. (Photo-IPL)


ऐसा रहा अंतिम ओवर
मलिंगा की पहली यॉर्कर गेंद पर शेन वॉटसन ने एक रन लिया. जबकि दूसरी गेंद पर रवींद्र जडेजा ने एक रन लेकर स्‍ट्राइक बदल ली. मलिंगा ने फिर से यॉर्कर गेंद डाली, जिसे वॉटसन ने लॉन्‍ग ऑन की दिशा में खेलकर दो रन बटोरे लिए. जबकि चौथी गेंद पर वह (वॉटसन) आउट हो गए. वॉटसन ने मलिंगा की स्‍लोअर गेंद को डीप पॉइंट की तरफ गेंद को मोड़ा था. उन्‍होंने आसानी से एक रन पूरा कर लिया था, लेकिन दूसरे रन की फिराक में रन आउट हो गए. पांचवीं गेंद नये बल्‍लेबाज़ शार्दुल ठाकुर ने खेली और उन्‍होंने डीप बैकवर्ड स्‍क्‍वायर की तरफ शॉट मारकर दो रन ले लिए. अब चेन्‍नई को आखिरी गेंद पर दो रन जीत के लिए चाहिए था. मलिंगा के ओवर की छठी गेंद स्‍लोअर थी, जिसे ठाकुर भांप नहीं पाए और उनके पैड पर जाकर लगी. मुंबई के खिलाड़ि‍यों जोरदार अपील के बाद अंपायर ने अंगुली उठा दी और इसी के साथ मुंबई चौथी बार चैंपियन बन गई.

यकीनन आईपीएल में सबसे अधिक 170 विकेट लेने रिकॉर्ड रखने वाले लसिथ मलिंगा ने तीन ओवर बाद वापसी करते हुए जीरो से हीरो बनने का करिश्‍मा कर दिया है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज