खेल

IPL 2020: इन 5 वजहों से राजस्‍थान रॉयल्‍स के हाथों मिली चेन्‍नई सुपर किंग्‍स को करारी शिकस्‍त

चेन्‍नई सुपर किंग्‍स का टूर्नामेंट से बाहर होना लगभग तय है (फोटो क्रेडिट: आईपीएल ट्विटर हैंडल)
चेन्‍नई सुपर किंग्‍स का टूर्नामेंट से बाहर होना लगभग तय है (फोटो क्रेडिट: आईपीएल ट्विटर हैंडल)

राजस्‍थान रॉयल्‍स (Rajasthan Royals) ने चेन्‍नई सुपर किंग्‍स (Chennai Super Kings) को 7 विकेट से हराकर आईपीएल (IPL 2020) के इस सीजन में उसकी उम्‍मीदें लगभग खत्‍म कर दी है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2020, 6:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. एमएस धोनी (MS Dhoni) की चेन्‍नई सुपर किंग्‍स (Chennai Super Kings) को आईपीएल (IPL 2020) के 37वें मैच में राजस्‍थान रॉयल्‍स (Rajasthan Royals) के हाथों 7 विकेट से करारी शिकस्‍त का सामना करना पड़ा. पहले बल्‍लेबाजी करते हुए चेन्‍नई की टीम महज 125 रन ही बना सकी. जवाब में राजस्‍थान ने 15 गेंद पहले ही तीन विकेट के नुकसान पर लक्ष्‍य हासिल कर 7 विकेट से मुकाबला अपने नाम कर लिया. खराब बल्‍लेबाजी के चलते सीएसके राजस्‍थान को बड़ा लक्ष्‍य को नहीं दे पाई, मगर इसके बाद गेंदबाज भी मैच का पासा नहीं पलट पाए. गेंदबाजों ने चेन्‍नई को शुरुआत को अच्‍छी दिलाई दी थी, मगर जोस बटलर और स्‍टीव स्मिथ की जोड़ी के सामने गेंदबाज इस लय को बरकरार नहीं रख पाए.
चेन्‍नई सुपर किंग्‍स की हार का सबसे बड़ा कारण राजस्‍थान को बड़ा लक्ष्‍य न दे पाना था. जोस बटलर, स्‍टीव स्मिथ, बेन स्‍टोक्‍स, राहुल तेवतिया जैसे विस्‍फोटक बल्‍लेबाजों से सजी टीम के सामने यह लक्ष्‍य काफी बौना साबित हुआ. सीएसके की बल्‍लेबाजी काफी धीमी रही थी. शीर्ष बल्‍लेबाज फाफ डू प्‍लेसी, शेन वॉटसन का विकेट जल्‍द ही गिर गया. सीएसके की पारी में महज एक ही छक्‍का लगा. रायडू हो या एमएस धोनी (MS Dhoni) सभी की बल्‍लेबाजी धीमी रही.
चेन्‍नई की हार का दूसरा बड़ा कारण धोनी का रन आउट होना रहा. 56 रन पर सीएसके के 4 विकेट गिर गए थे. इसके बाद रवींद्र जडेजा और एमएस धोनी ने अच्‍छी साझेदारी की. धोनी और जडेजा की जोड़ी मैच का पासा पलट सकती थी, मगर 107 रन पर धोनी रन आउट हो गए और वो भी खुद की गलती से. दरअसल लॉन्ग ऑफ पर जोफ्रा आर्चर से मिसफील्ड हुई. इसका फायदा उठाने के लिए धोनी दूसरा रन लेने की कोशिश कर रहे थे. लेकिन जब तक वे क्रीज में पहुंचते, तब तक गेंद गिल्लियां बिखर चुकी थीं. यहां पर दूसरे रन की जरूरत नहीं थी. दूसरे रन के लिए धोनी को पहला रन तेजी से लेना चाहिए थे. धोनी 28 रन ही बना पाए.
जब टीम को आतिशी पारी की जरूरत होती है, तो ऐसे समय में रवींद्र जडेजा ही वो बल्‍लेबाज हैं, जिनके आने से पारी की रफ्तार बढ़ जाती है. जडेजा ने नाबाद 35 रन की पारी तो खेली, मगर उनकी स्‍ट्राइक रेट भी 116.66 की ही रही. जडेजा अपनी पारी में सिर्फ 4 चौके ही लगा पाए.
चेन्‍नई की हार का सबसे बड़ा कारण बटलर और स्मिथ की जोड़ी बनी. गेंदबाजों ने चेन्‍नई को शुरुआत तो अच्‍छी दिलाई और 5 ओवर के खेल में राजस्‍थान को 28 रन पर ही तीन झटके दे दिए थे, मगर इसके बाद बटलर और स्मिथ ने राजस्थान के लिए जीत के दरवाजे खोले और सीएसके के गेंदबाज इस जोड़ी को तोड़ने में नाकाम रहे. दोनों के बीच 98 रन की पार्टनरशिप हुई. 
धोनी के गेंदबाज आखिर तक बटलर और स्मिथ की जोड़ी का तोड़ नहीं निकाल पाए. दरअसल लक्ष्‍य छोटा होने के कारण इस जोड़ी ने आतिशी बल्‍लेबाजी नहीं की, जिस वजह से गेंदबाजों को उन्‍हें आउट करने के मौके ही नहीं मिल पाए. इस जोड़ी ने सिंगल और दो दो रन लेकर लक्ष्‍य हासिल किया. बीच बीच में उन्‍होंने कुछ बड़े शॉट जरूर लगाए. बटलर ने जहां 48 गेंदों पर नाबाद 70 रन बनाए, वहीं स्मिथ ने 34 गेंदों पर 26 रन बनाए. दोनों ने मिलकर 9 चौके और दो छक्‍के लगाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज